मैनिट में पहले दिन पहुंचे 15 विद्यार्थी, सभी 5 दिन के लिए हुए हॉस्टल में क्वारेंटाइन

पीएचडी व सीनियर विद्यार्थियों के लिए चरणबद्ध तरीके से खोला गया संस्थान

भोपाल. मौलाना आजाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (मैनिट) में बुधवार से पीएचडी व एमटेक, एम.प्लान दूसरे वर्ष के विद्यार्थी भौतिक रूप से शोध कार्य व पढ़ाई के लिए उपस्थिति दर्ज कराने लगे हैं। कैंपस आने के लिए करीब 50 विद्यार्थियों ने इच्छा जताई है। इसमें से पहले दिन 24 विद्यार्थी आने वाले थे। इसमें से दो छात्राओं सहित करीब 15 विद्यार्थियों ने शाम तक रिपोर्टिंग की है। इसके साथ करीब 20 छात्र हॉस्टल में रहने लगे हैं। इसमें विद्यार्थियों के साथ उनके अभिभावक भी मैनिट में की गई व्यवस्थाओं को देखने के लिए आए और उन्होंने प्रोफेसर्स से चर्चा भी की। इसमें राजस्थान सहित अन्य राज्यों के विद्यार्थी भी हैं। मैनिट की गाइडलाइन के अनुसार ऐसे विद्यार्थी जिनके राज्य में कोरोना पॉजिटीविटी रेट 5 प्रतिशत से अधिक है उन्हें हॉस्टल में मिले रूम में 14 दिन क्वारेंटाइन रहना होगा। इससे कम पॉजिटीविटी रेट के विद्यार्थियों को 5 दिन क्वारेंटाइन रहने के निर्देश दिए गए हैं। इसके बाद उनका संस्थान की डिस्पेंसरी में फिटनेस टेस्ट लिया जाएगा। पूरी तरह से स्वस्थ पाए जाने पर फिटनेस सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा। इसे दिखाने पर ही उन्हें अपने-अपने विभागों में प्रयोगशालाएं और कक्षाओं में जाने की मंजूरी मिलेगी। वहीं न्यूनतम 50 विद्यार्थियों के आने के बाद ही हॉस्टल में मेस की सुविधा मिल सकेगी। मैनिट ने विद्यार्थियों के लिए चरणबद्ध तरीके से संस्थान खोलने का निर्णय लिया है।

एक लॉबी में रहेंगे चार विद्यार्थी, टॉयलेट भी सेपरेट --
15 सितंबर से पीएचडी और एमटेक, एम.प्लान दूसरे वर्ष के विद्यार्थियों को कैंपस में आने की अनुमति दी गई है। इनकी सं या करीब 300 है। हॉस्टल में अभी अलग-अलग छात्र के लिए अलग-अलग टॉयलेट्स निर्धारित किए गए हैं। हॉस्टल की एक विंग में चार टॉयलेट्स हैं तो उस विंग में सिर्फ चार विद्यार्थियों को रूम दिए गए हैं। साथ ही इनको अलग-अलग टॉयलेट्स उपयोग करने के निर्देश दिए गए हैं। मैनिट में करीब 10 हॉस्टल हैं। ऐसे में इन विद्यार्थियों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन स ती से कराया जा रहा है।

इन नियमों का करना होग सख्ती से पालन --

- 72 घंटे में पीरियड में कराई गई कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट जमा करनी पड़ रही है।
- वैक्सीनेशन का सर्टीफिकेट और मेडिकल फिटनेस सर्टीफिकेट जमा करना पड़ रहा है।

- किसी छात्र को कोविड-19 के लक्षण हैं तो उसे तत्काल डिस्पेंसरी में परीक्षण कराना होगा और उसे क्वारेंटाइन रहना होगा।
- हॉस्टल में आने के बाद विद्यार्थी अवकाश लेकर बाहर जाते हैं तो उन्हें दोबारा से कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट जमा करनी होगी।

- सभी तरह की सामाजिक, स्पोट्र्स, मनोरंजन, और धार्मिक समारोह प्रतिबंधित रहेंगे।
- यदि कोई छात्र कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन नहीं करना है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जा सकेगी।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned