scriptek kissa ex chief minister prakash chandra sethi | एक किस्साः जब सीएम का पजामा लेने 1600 किमी तक उड़ा था सरकारी विमान | Patrika News

एक किस्साः जब सीएम का पजामा लेने 1600 किमी तक उड़ा था सरकारी विमान

patrika.com पर पॉलिटिकल किस्सों की श्रंखला में प्रस्तुत है मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम पीसी सेठी का मजेदार किस्सा...।

भोपाल

Updated: February 21, 2022 05:08:19 pm

यह किस्सा एक आइएएस अफसर की किताब में मिलता है। प्रकाश चंद्र सेठी मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री थे। उस समय गुलाम नबी आजाद की शादी थी। आजाद की शादी में भाग लेने के लिए देशभर के दिग्गज नेता जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर पहुंच चुके थे।

plane.png

किताब के मुताबिक प्रकाशचंद्र सेठी भी उस शादी में शामिल होने के लिए सरकारी विमान से श्रीनगर गए थे। सेठीजी रात को ही शादी में हिस्सा लेने के बाद वापस भोपाल लौटना चाहते थे, लेकिन कुछ परिस्थितियां ऐसी बन गई कि सेठीजी को रात श्रीनगर में ही रुकना पड़ गया। लेकिन, शाम को सठीजी को याद आया कि रात में पहनने के लिए उनका पाजामा तो उनके पास है ही नहीं। इसके बगैर उन्हें नींद नहीं आती थी।

उन्होंने अपने स्टाफ को यह बात बताई। और सरकारी विमान को पायजामा लेने के लिए करीब 1600 किलोमीटर दूर भोपाल तक भेज दिया। उस समय के लोग कहते हैं कि विमान से उनका पायजामा रात साढ़े 9 बजे श्रीनगर पहुंच गया था, जिसके बाद सेठीजी ने वो पायजामा पहना और सोने चले गए। आज सेठीजी इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनका यह किस्सा राजनीतिक गलियारों में ठहाकों के साथ सुनाया जाता है।

pc-sethi.png

किस्सा-2

तब नहीं बजी तालियां

उस समय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी थी और उन्होंने ही सेठीजी को मध्यप्रदेश की कुर्सी पर बैठाया था। कई नेता इंतजार कर रहे थे कि शायद उनका नाम सीएम पद के लिए घोषित कर दिया जाए। लेकिन, किसी ने नहीं सोचा था कि अचानक इंदिराजी ने जिसका नाम लिया, उसके बाद सभी हैरान रह गए। उसकी कल्पना किसी ने नहीं की थी। वो नाम था प्रकाशचंद्र सेठी (chief minister prakash chand sethi ) का। इंदिराजी के मुंह से यह नाम निकलते ही एक भी विधायक ने खुशी जाहिर नहीं की थी, यहां तक कि एक ने भी तालियां नहीं बजाई थीं। लेकिन, मुख्यमंत्री तो प्रकाशचंद्र सेठी ही बने थे।

pcsethi.jpg

किस्सा-3

उज्जैन में खुला किस्मत का ताला

उज्जैन में नगर पालिका अध्यक्ष से अपना राजनीतिक जीवन शुरू करने वाले प्रकाश चंद्र सेठी की किस्मत के दरवाजे धीरे-धीरे खुलने लगे थे। राज्यसभा सांसद त्रयंबक दामोदर पुस्तके का निधन हो गया था। तब उपचुनाव के लिए उम्मीदवार की तलाश शुरू हुई। विंध्य क्षेत्र के कद्दावर नेता अवधेश प्रताप सिंह का दौर था। किसी को राज्यसभा भेजना था। उस दौर में कांग्रेस एक नेता को दो बार राज्यसभा नहीं भेजती थी। इसलिए अवधेश प्रताप सिंह का नाम काट दिया गया और सेठीजी के नाम पर मोहर लग गई। सेठी जी दिल्ली क्या गए, नेहरू सरकार में उपमंत्री भी बने। पीसी सेठी बड़े नेताओं के करीब होते चले गए। चाहे शास्त्री हो या इंदिराजी, सेठीजी हर पीएम के हमेशा खास रहे।

किस्सा-4

डकैतों पर करना चाहते थे बमों की बारिश

बुंदेलखंड वाले इलाकों में उस समय डाकुओं का आतंक था। तब पीसी सेठी मुख्यमंत्री थे। सेठीजी डकैत समस्या से इतने तंग आ गए थे कि वे अब इस समस्या का हल गांधीवादी तरीके से नहीं निकालना चाहते थे। गृह विभाग के बड़े अधिकारियों से जब उनकी मीटिंग हुई तो उनकी एक लाइन के प्रस्ताव से वहां सब हैरान रह गए। सेठी ने कहा था कि डकैतों के छिपने के ठिकानों पर इंडियन एयरफोर्स बम गिरा दे, तो टंटा ही खत्म हो जाएगा। नगरीय इलाकों में वायुसेना की तरफ से बम बारिश का ऐसा प्रस्ताव के बाद वहां काफी देर तक सन्नाटा पसरा रहा। लेकिन, पीसी सेठी अपनी बात पर अड़े थे। दिल्ली के नॉर्थ ब्लॉक से साउथ ब्लॉक पहुंचे और रक्षामंत्री जगजीवन राम के दफ्तर पहुंच गए। बाबूजी को कुछ कहा और मुस्कुराते हुए परमिशन ही ले आए। दूसरे ही दिन एयरफोर्स के हेड आफिस में ऑपरेशन की तैयारी शुरू हो गई। सेठीजी भी भोपाल लौट आए, लेकिन कुछ दिन पहले अखबारों में इसकी खबर लीक हो गई और डकैतों तक यह बात पहुंच गई। उनमें से आधे डकैत को घबराकर सरेंडर के लिए बातचीत करने लगे। बाकी आधे डकैत तो भागने की तैयारी में जुट गए। सरकारी रिकार्ड के मुताबिक उस समय 450 डकैत मुख्यधारा में लौट आए। उस दौर के लोग बताते हैं कि भारतीय वायुसेना की बम बारिश की खबर पीसी सेठी के दफ्तर से ही लीक हुई थी, हालांकि यह सब बातें हवा-हवाई ही कही जाती है।

सुमित्रा महाजन से हार गए थे चुनाव

पीसी सेठी को 1989 में इंदौर लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतारा गया था। पीसी सेठी इस चुनाव में बुरी तरह हार गए थे। इसके बाद वे धीरे-धीरे राजनीतिक से अलग होने लगे। 21 फरवरी 1996 को प्रकाशचंद्र सेठी का निधन हो गया था।

प्रकाशचंद्र सेठी एक परिचय: एक नजर

1939 में उज्‍जैन के माधव कॉलेज के स्‍नेह सम्‍मेलन के एवं माधव क्‍लब के सचिव रहे।
1942, 1949 से 1952 तक मध्‍यभारत इंटक के उपाध्‍यक्ष रहे।
1951 से अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के सदस्‍य, सन् 1948-49 में इंटक से संबंधित टेक्‍सटाईल वर्कर्स एसोसिएशन के अध्‍यक्ष रहे।
1951, 1954 तथा 1957 में उज्‍जैन जिला कांग्रेस के अध्‍यक्ष रहे।
1953 से 1957 तक मध्‍य भारत, प्रदेश कांग्रेस कार्यकारिणी के सदस्‍य रहे।
1954-1955 में मध्‍य भारत कांग्रेस के कोषाध्‍यक्ष रहे।
1956 से 1959 तक मध्‍य भारत ग्राम तथा खादी मंडल तथा प्रादेशिक परिवहन समिति के सदस्‍य रहे।
1957 से 1959 तक उज्‍जैन जिला सहकारी बैंक के संचालक।
1961 तथा अप्रैल 1964 में राज्‍यसभा सदस्य बने।
फरवरी 1967 में लोक सभा के सदस्य बने।
9 जून, 1962 से मार्च, 1967 तक केन्‍द्रीय उप मंत्री।
13 मार्च, 1967 से राज्‍यमंत्री, 26 अप्रैल, 1968 से 23 फरवरी, 1969 तक इस्‍पात, खान और धातु मंत्रालय के स्‍वतंत्र प्रभारी मंत्री रहे।
14 फरवरी, 1969 को वित्‍त मंत्रालय में राजस्‍व तथा व्‍यय मंत्री रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

BJP राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक: PM नरेंद्र मोदी ने दिया 'जीत का मंत्र', जानें प्रधानमंत्री के संबोधन की बड़ी बातेंबिहार में बारिश व वज्रपात से 37 लोगों की मौत, जानिए बिहार में क्यों गिरती है इतनी आकाशीय बिजली?Pegasus Spyware Case: सुप्रीम कोर्ट ने जांच समिति का कार्यकाल 4 हफ्ते बढ़ाया, अब जुलाई में होगी सुनवाईRaj Thackeray Ayodhya Visit: राज ठाकरे की अयोध्या यात्रा स्थगित, पांच जून को रामलला का दर्शन करने वाले थे मनसे प्रमुखRohit Joshi Rape Case: राजस्थान के मंत्री पुत्र ने अब युवती पर लगाया हनीट्रेप का आरोप, हाईकोर्ट में याचिकापाकिस्तानी विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने अमरीका में छेड़ा कश्मीर राग, आर्टिकल 370 का भी किया जिक्र, कहा शांति चाहता है पाकिस्तानलालू के ठिकानों पर CBI Raid; सामने आई RJD की पहली प्रतिक्रिया, मात्र 5 शब्द में पूरे सिस्टम को लपेटाअनिल बैजल के इस्तीफे के बाद कौन होगा दिल्ली का उपराज्यपाल? चर्चा में हैं ये 5 नाम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.