BREAKING : मतगणना स्थल की अब नहीं होगी वेबकास्टिंग, cctv कैमरे से होगी निगरानी

BREAKING : मतगणना स्थल की अब नहीं होगी वेबकास्टिंग, cctv कैमरे से होगी निगरानी
Counting Of Votes

KRISHNAKANT SHUKLA | Updated: 18 May 2019, 01:29:53 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

चुनाव आयोग ने मतगणना की वेब कास्टिंग से इस बार तौबा कर लिया है। मतगणना की निगरानी अब सिर्फ सीसीटीवी कैमरे के निगरानी में की जाएगी।

भोपाल। चुनाव आयोग ने मतगणना की वेब कास्टिंग से इस बार तौबा कर लिया है। मतगणना की निगरानी अब सिर्फ सीसी टीवी कैमरे के निगरानी में की जाएगी। इनको किसी तरह से नेट कनेक्टिविटी नहीं दी जाएगी। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने आयोग में यह आपत्ति की थी मतणना स्थल पर नेट कनेक्टिविटी और वाई-फाई से ईवीएम को हैक करने की संभावना रहती है।

23 मई को मतगणना शुरू एक घंटे पहले से कैमरे चालू होंगे, जो परिणाम घोषित होने तक रहेंगे। एक मतगणना स्थल पर 25 से 30 कैमरे लगाए जाएंगे। मतगणन समय की पूरी रिकार्डिंग आयोग के स्ट्रांग रूम में 45 दिनों तक सुरक्षित रखी जाएगी। मतणना स्थल पर एक कंट्रोल रूम होगा, जहां से मतगणन स्थल पर निगरानी रखी जाएगी।

प्रदेश के सभी जिलों में मतगणन के लिए 319 हाल बनाए जा रहे हैं। प्रत्येक मतगणना हाल में तीन कैमरे लगेंगे, जिससे पूरे मतणना को कवर किया जाएगा। मतगणना हाल में तीन कैमरे मतगणना टेबिल के सामने और एक कैमरा उसके पीछे होगा। जिससे किसी प्रकार के सवाल उठने पर उसकी हकीकत सामने आ सके।

VOTI CONGTING

ईवीएम पेटी की होगी रिकार्डिंग

स्ट्रांगरूम से मतणना स्थल तक ईवीएम की पेटी ले जाते समय उसकी वीडियो रिकाडिंग की जाएगी। इसमे यह भी दिखाया जाएगा कि कौन-कौन से अधिकारियों को इस कार्य में लगाया गया है। मतणना स्थल तक पेटी लाने और लेजाने वाले कर्मचारी पूरे समय तक कैमरे की निगरानी में रहेंगे। वहीं प्रत्याशियों और उनके एजेंटों को मतगणना स्थल में प्रवेश करते समय की रिकाडिंग भी की जाएगी।


वीवीपैट की पर्ची से होगा वोट का मिलान

प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र ५ मतदान केन्द्र के वीवीपैट की पर्ची से वोटिंग का मिलान किया जाएगा। इस दौरान यह देखा जाएगा कि जो मतों की संख्या ईवीएम में दिखाई दे रही है, क्या वहीं संख्या वीवी पैट की पर्ची में भी है अथवा नहीं। अगर कई किसी प्रत्याशी के वोट में अंतर आ रहा है तो उक्त विधानसभा क्षेत्र के जीत-हार की घोषणा रोक कर दी जाएगी। वीवी पैट से पर्ची की गणना ईवीएम से मतगणना पूर्ण होने के बाद किया जाएगा।

लगाई जाएंगे 14 टेबिलें

हर विधानसभा क्षेत्र की मतगणना के लिए करीब 14 टेबिलें लगाई जाएंगी। इस तरह से पूरे विधानसभा क्षेत्रों में मतणना के लिए 3220 टेबिलें लगाई जाएंगी। जिनमें 12 हजार कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है, जबकि 15 हजार कर्मचारियों को ट्रेनिंग दी जाएगी। मतगणना की शुरूआत आठ बजे से बैलेट पेपर से की जाएगी।

 

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned