वोटों की जुगत में कोई बंटवा रहा ढोल-मंजीरे तो किसी ने मुहैया करवाई हवन सामग्री-प्रसाद

वोटों की जुगत में कोई बंटवा रहा ढोल-मंजीरे तो किसी ने मुहैया करवाई हवन सामग्री-प्रसाद

manish kushwah | Publish: Oct, 14 2018 04:04:04 AM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

दावं-पेच: धार्मिक आयोजनों में राजनीतिक दखल, दावेदार लगे वोटर्स को साधने में

भोपाल. राजधानी के धार्मिक आयोजनों में राजनीति का रंग सुर्ख है। विधानसभा चुनाव में दोनों ही दलों के दावेदार मतदाताओं को रिझाने के लिए आयोजन समितियों को उपकृत कर रहे हैं। इसकी बानगी यहां लगे पोस्टर-बैनर पर उनकी तस्वीरों के रूप में देखी जा सकती है, जिसे समर्थकों ने लगवाया है।
ढोल-मंजीरे और नकद भी: नरेला से दावेदार नेताजी ने गणेश पंडालों को राशि पहुंचाई थी। फिर दुर्गा उत्सव आया तो अपने क्षेत्र के सौ से ज्यादा आयोजनों की सूची तैयार करवाई। इसके बाद झांकियों को पांच हजार रुपए से ज्यादा के ढोल-मंजीरे और इतनी ही राशि की हवन सामग्री पहुंचा दी गई। नेताजी कई पंडालों में कार्यकर्ताओं के माध्यम से भी आर्थिक सहायता पहुंचा रहे हैं।
अगरबत्ती के साथ ही आयोजनों की बहार: मध्य विधानसभा से दावेदार एक नेताजी ने अगरबत्तियों की स्पेशल किट पंडालों तक पहुंचाई है। इसके साथ ही कुछ झांकियों में बड़ी दान राशि भी भेंट की गई। इलाके के मुस्लिम मतदाताओं को रिझाने के लिए मुशायरा तो हिंदुओं के लिए नामी भजन गायिका की भजन संध्या भी आयोजित करवा चुके हैं।

 

उत्तर विधानसभा: समिति में हैं रसूखदार
उत्तर विधानसभा में मां दुर्गा उत्सव समिति टीला जमालपुरा में भले ही कोई अध्यक्ष न हो, लेकिन बीजेपी के एक मंत्री और नगर सरकार के मुखिया संरक्षक हैं। इस बार झांकी में करीब २० लाख रु. खर्च हुए। समिति के वरुण गुप्ता बताते हैं कि राशि चंदा, वीआइपी पास और स्पांसर के जरिए इकट्ठी करते हैं। नेताओं का हमारी समिति में सीधा कोई दखल नहीं है। वहीं सूत्र बताते हैं कि झांकी निर्माण के लिए चंदे से २० फीसदी राशि जबकि ८० फीसदी राशि नेताओं के प्रभाव से मिलती है।

मध्य विधानसभा: हर स्तर पर नेताजी का साथ
बिट्टन मार्केट दुर्गा उत्सव समिति के भव्य आयोजन में नेताओं का भरपूर सहयोग रहता है। समिति के कई सदस्य सत्ताधारी पार्टी से जुड़े हैं, जिसके चलते इनकी झांकी पर पार्टी विशेष का प्रभाव दिखता है। चंदे सहित अन्य व्यवसायिक गतिविधियों से ७५ फीसदी राशि की व्यवस्था होती है, बाकी २५ फीसदी राशि नेताजी अपने करीबी कारोबारियों से दिलवा देते हैं। एक पूर्व विधायक भी बरसों से इस पंडाल के लिए सहयोग देते आ रहे हैं। हालांकि आयोजन समिति के अध्यक्ष हरिशंकर खटीक का कहना है कि झांकी पर खर्च की जाने वाली राशि की व्यवस्था सदस्यों व व्यवसायिक गतिविधियों से की जाती है।

गोयल बोले- द्वेषवश है कार्रवाई
संपत्ति विरूपण के मामले में हबीबगंज थाने में एफआइआर के बाद कांग्रेस नेता गोविंद गोयल ने आरोप लगाया है कि ये कार्रवाई द्वेषवश है। मैं दुर्गा भक्त हूं। जिस पोस्टर पर मेरा फोटो लगा था, उस पर पार्टी का नाम, पदनाम तक नहीं था, लेकिन मेरे खिलाफ प्रकरण बनाया गया है। उनका कहना है कि जिस पोस्टर के चलते कार्रवाई की गई है उसमें राजनीति या आचार संहिता का उल्लंघन जैसी कोई बात ही नहीं है। ये पूरी तरह राजनीति से प्रेरित मामला है।

 

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned