इंजीनियरिंग के छात्रों की परीक्षा अधर में लटकी, आरजीपीवी की लापरवाही

चार हजार स्टूडेंट हो रहे परेशान, अभी तक दूर नहीं की गड़बड़ी, तय नहीं कब होगी परीक्षा

By: Hitendra Sharma

Published: 26 Aug 2020, 02:54 PM IST

भोपाल. आरजीपीवी के इंजीनियरिंग कोर्स करने वाले विद्यार्थियों की ऑनलाइन परीक्षा असफल होने के बाद अब चार हजार से ज्यादा वंचित इंजीनियरिंग विद्यार्थियों की फिर से परीक्षा पर असमंजस है। प्रबंधन ने दावा किया था कि मंगलवार को नया टाइम टेबल जारी किया जाएगा, लेकिन इस बारे में कार्यपरिषद की बैठक फैसला नहीं हो सका।

आरजीपीवी का ऑनलाइन परीक्षा सिस्टम सॉफ्टवेयर परआधारित है, जो लंबे समय से खराब है। इसी के चलते 10 दिन पहले आयोजित मॉक टेस्ट भी असफल हो गया था, लेकिन आरजीपीवी नेऑनलाइन परीक्षा का टाइम टेबल नहीं बदला। विद्यार्थी संगठनों का आरोप है कि सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी की वजह से परीक्षा में बड़े पैमाने पर धांधली हो सकती है।

अब 27 तक पंजीयन
उच्चशिक्षा विभाग ने यूजी में एडमिशन के लिए फिर से तारीख बढ़ा दी है। अब 27 अगस्त तक यूजी में रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे। साढ़े 3 लाख से ज्यादा छात्रों ने सीटें रिजर्व करा दी हैं। अब तक 7 लाख 2484 सीटों में 4 लाख 12 हजार 575 छात्रों ने रजिस्ट्रेशन
कराया है।

किस कोर्स में कितने विद्यार्थी

बीआर्क के अंतिम सेमेस्टर के 242, बी फार्मेसी के 4240, बीई कम्प्यूटर साइंस एवं इंजीनियरिंग के 8571, सिविल के 6601, इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशन के 3528, मैकेनिकल के 7312, एग्रीकल्चर टेक्नालॉजी के 5, ऑटोमोबाइल के 125, केमिकल के 98, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के 1943, इलेक्ट्रिकल के 857, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं इन्टूमेंटेशन इंजीनियरिंग के 40, फायर टेक्नालॉजी एवं सेफ्टी इंजीनियरिंग के 197 छात्र ऑनलाइन परीक्षा में शामिल होंगे। इंफार्मेशन टेक्नालॉजी के 1724, माइनिंग के 154, टेक्सटाइल टेक्नालॉजी के सात छात्र, इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग मैनेजमेंट का एक तथा एमसीए के 1312 छात्र अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाए देंगे।

Show More
Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned