माखनलाल यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति कुठियाला को ईओडब्ल्यू की क्लीन चिट

प्रोफेसरों के खिलाफ भी आरोप सिद्ध नहीं

 

By: Arun Tiwari

Updated: 29 Dec 2020, 08:01 PM IST

भोपाल : माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो. बीके कुठियाला समेत 20 प्रोफेसरों को ईओडब्ल्यू ने क्लीनचिट दे दी है। इस मामले में ईओडब्ल्यू ने दर्ज हुई एफआईआर की क्लोजर रिपोर्ट लगाई है। यह क्लोजर रिपोर्ट जिला कोर्ट में पेश कर दी गई है। रिपोर्ट में बताया गया है कि आरोपियों के खिलाफ लगाए गए दोष सिद्ध नहीं हुए हैं। इस मामले में कमलनाथ सरकार के कार्यकाल के दौरान एफआईआर दर्ज हुई थी। यह एफआईआर ईओडब्ल्यू ने रजिस्ट्रार दीपेंद्र सिंह बघेल की जांच रिपोर्ट के आधार पर दर्ज की थी। क्लोजर रिपोर्ट के अनुसार सभी आरोपियों पर आरोप सिद्ध नहीं हो सके। इस मामले में कुठियाला को कई बार ईओडब्ल्यू ने पूछताछ के लिए बुलाया था। उनसे कई घंटों की पूछताछ भी की गई थी, लेकिन उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया।

कुठियाला पर ये लगाए थे आरोप :
बृजकिशोर कुठियाला की नियुक्ति 19 जनवरी 2010 को हुई थी। आरोप थे कि इन्होंने अपने 8 साल 3 महीने के कार्यकाल में संघ से जुड़े लोगों को फायदा पहुंचाया। उन्होंने खुद तो लंदन की यात्रा की, पत्नी को भी विवि के खर्चे पर यात्रा कराई। इस राशि को 5 महीने बाद समायोजित किया गया। विवि के खर्च पर टूर किए गए जिसमें प्रशासनिक व वित्तीय नियमों का उल्लंघन किया गया। सर्जरी के लिए 58,150 रुपए, आंख के ऑपरेशन के लिए 1,69,467 रुपए का भुगतान भी यूनिवर्सिटी से किया गया। अनधिकृत तौर पर लैपटॉप, आई-फोन खरीदे गए। यूनिवर्सिटी के पैसों से महंगी शराब खरीदी गई।

आरोपी बनाए गए इन प्रोफेसरों पर भी दोष सिद्ध नहीं :
- डॉ अनुराग सीठा
- डॉ पी शशिकला
-डॉ पवित्र श्रीवास्तव
-डॉ अविनाश वाजपेयी
- डॉ अरूण कुमार भगत
-प्रो संजय द्विवेदी
-डॉ मोनिका वर्मा
- डॉ कंचन भाटिया
-डॉ मनोज कुमार पचारिया
-डॉ आरती सारंग
- डॉ रंजन सिंह
- सुरेन्द्र पाल
- डॉ सौरभ मालवीय
-सूर्य प्रकाश
-प्रदीप कुमार डहेरिया
-सतेन्द्र कुमार डहेरिया
-गजेन्द्र सिंह अवश्या
- डॉ कपिल राज चंदोरिया
-रजनी नागपाल

Arun Tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned