scriptEx-FSL officer's wife filed fraud case against three people | फर्जी दस्तावेजों से ₹36 लाख में सरकारी जमीन को बेचने वालों पर 14 साल बाद हुआ मामला दर्ज | Patrika News

फर्जी दस्तावेजों से ₹36 लाख में सरकारी जमीन को बेचने वालों पर 14 साल बाद हुआ मामला दर्ज

भूतपूर्व एफएसएल अधिकारी की पत्नी ने तीन लोगों पर दर्ज कराया धोखाधड़ी का मामला

भोपाल

Published: May 02, 2022 11:58:31 am

भोपाल। लोगों के साथ होने वाली धोखाधड़ी के मामलों में तमाम तरह के नियम बनाए जाने के बावजूद बदमाश इससे बाज नहीं आ रहे हैं। सामान्य स्थितियों को तो छोड़े ऐसे बदमाश सरकारी संपत्ति को तक धोखाधड़ी का जरिया बना रहे हैं।

fraud_on_govt-land.jpg

ऐसा ही एक मामला चूनाभट्टी इलाके में सामने आया है, जहां तीन भाइयों ने सरकारी जमीन को अपना बताकर एक व्यक्ति से 36 लाख रुपए ऐंठने लिए। इस मामले में आरोपियों ने एग्रीमेंट करवाने के 14 साल बाद भी रजिस्ट्री नहीं करवाई।

दरअसल तीनों आरोपियों ने एग्रीमेंट करने वाले व्यक्ति के निधन के बाद यह कहकर परिवार को इतने वर्षों तक टरकाया जाता रहा कि पहले आप यह तय कर लें कि मृतक का उत्तराधिकारी कौन होगा। मामला पुलिस के संज्ञान में आने पर पुलिस ने मामले की जांच पूरी कर आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है।

इस मामले के संबंध में एएसआई वीरमणि पांडे का कहना है कि 60 वर्षीय सुनीता शर्मा एफएसएल में क्लास2 ऑफिसर रहे प्रदीप शर्मा की पत्नी हैं। सुनीता के ससुर एडवोकेट देवराज शर्मा ने वर्ष 2008 में लालघाटी निवासी मेघानी बंधुओं से चूनाभट्टी गांव के पास 0.30 एकड़ जमीन के लिए एग्रीमेंट किया था।

जमीन के एवज में उन्होंने रेलवे समेत अन्य विभागों में ठेके लेने वाले कांट्रेक्टर मेघानी बंधुओं के खाते में 36 लाख रुपए जमा, ट्रांसफर किए थे। देवराज शर्मा के निधन के बाद बेटे प्रदीप शर्मा ने मेघानी बंधुओं से अपने नाम जमीन की रजिस्ट्री कराने के लिए संपर्क किया। जिस पर ओमकार, महेश कुमार और विकास मेघानी उन्हें काफी समय तक जल्द रजिस्ट्री करवाने की बात कहकर बहलाते रहे, वहीं इसके कुछ समय बाद प्रदीप शर्मा का भी निधन हो गया।

न्याय के लिए पत्नी ने लगाई गुहार
पति के निधन के बाद पत्नी सुनीता शर्मा लगातार मेघानी बंधुओं से जमीन अपने नाम कराने के लिए संपर्क कर रही थीं। इसी दौरान सुनीता शर्मा को पता चला कि जिस जमीन को बेचने के लिए एग्रीमेंट किया गया था, वह जमीन वर्ष 2000 में राजधानी परियोजना के लिए आवंटित हो चुकी है।

अपने साथ हुई धोखाधड़ी का पता चलते ही सुनीता ने वर्ष 2016 में राजस्व और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से मामले की शिकायत की और एग्रीमेंट करने वाले मेघानी परिवार को नोटिस भी दिया। 29 अप्रैल को सुनीता शर्मा ने एक बार फिर आरोपियों के खिलाफ चूनाभट्टी थाने में शिकायती आवेदन दिया था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नया पीएम किया नियुक्तदिल्ली में जारी आग का तांडव! मुंडका के बाद नरेला की चप्पल फैक्ट्री में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची 9 दमकल गाडि़यांबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोलIAS अधिकारी ने भारत की थॉमस कप जीत पर मच्छर रोधी रैकेट की शेयर की तस्वीर, क्रिकेटर ने लगाई फटकार - 'ये तो है सरासर अपमान'ताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातेंकर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवालPM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.