सिम लगा ब्लू-टूथ व कैप्सूल के आकार का रिसीवर लगाकर दे रहे थे परीक्षा, दो पकड़ाए

केन्द्रीय विवि की लिपिक भर्ती परीक्षा: हरियाणा में बैठा हैंडलर अभ्यर्थियों को करा रहा था नकल

By: Ram kailash napit

Published: 06 Jan 2020, 07:42 AM IST

भोपाल. अयोध्या नगर इलाके में सागर इंस्टीट्यूट में रविवार को डॉ. हरिसिंह गौर केन्द्रीय विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित लिपिक भर्ती परीक्षा में हाईटेक तरीका अपनाकर पेपर हल कर रहे दो मुन्नाभाइयों को टीम ने दबोचा। परीक्षा शुरू होने के करीब 15 मिनट बाद ही दोनों आरोपियों की करतूत पकड़ी गई। टीम ने दोनों नकलचियों को अयोध्या नगर थाना पुलिस के हवाले कर दिया है। पुलिस ने इनके पास से मोबाइल सिम लगा ब्लूट्रूथ डिवाइस, कान में लगा कैप्सूल के आकार के रिसीवर जब्त किए हैं। दोनों आरोपी हरियाणा के रहने वाले हैं।

पुलिस की प्रारंभिक पूछताछ में आरोपियों की पहचान जिंद निवासी सुखविंदर, हिसार निवासी नवीन के रूप में हुई है। दोनों आरोपियों से पुलिस पूछताछ कर रही है। पुलिस को आशंका है कि सरकारी नौकरियों के परीक्षा में नकल कराने वाला शातिर गिरोह का हाथ होगा। पुलिस इनका पेपर साल्व करा रहे दूसरे आरोपियों की पहचान करने में जुटी है।


ऐसे धराए: नजर बचा चुपके-चुपके बात करने पर हुआ शक

अ भ्यर्थी सुखविंदर परीक्षा आब्र्जबर एमएल खान, डॉ. आरके पाठक को देखकर नजर बचा रहा था। आशंका होने पर दोनों आब्र्जबर ने परीक्षा केन्द्र के बाहर आकर खिड़की से उस पर नजर रखी। वह चुपके-चुपके किसी से बात करते हुए पेपर सॉल्व कर रहा था। गड़बड़ी की आशंका होने पर दोनों आब्र्जबर ने परीक्षा केन्द्र में जाकर उसकी तलाशी ली, लेकिन कुछ नहीं मिला। इसके बाद उसे अलग कमरे में ले जाकर तलाशी ली गई। जहां, आरोपी के सीने में डिवाइस लगी हुई मिली।डिवाइस को आरोपी ने चिपका रखा था। इसी बीच उसने कान से कैप्सूल के आकार का रिसीवर निकाला।

नवीन परीक्षा छोड़कर दुबक गया

सुखविंदर के पकड़े जाने के बाद परीक्षा प्रभारी ने अयोध्या नगर पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने जब सुखविंदर से पूछताछ की तो उसने बताया कि हरियाणा के बहुत अभ्यर्थी इसी तरह से नकल कर रहे हैं। उसने छह लोगों के नाम बताए। इसकी भनक लगते ही नवीन परीक्षा छोड़कर केन्द्र से चुपके से भाग निकला। वह कॉलेज परिसर में एक कमरे के किनारे आकर दुबक गया। आब्र्जबर ने उसे पकड़कर तलाशी ली तो उसके पास भी सुखविंदर की तरह की डिवाइस मिली।

exam
IMAGE CREDIT: patrika

नकल का यह हाईटेक तरीका अपनाया

पूछताछ में दोनों आरोपियों ने बताया कि पेपर सॉल्व कराने वाला सॉल्वर गैंग (हैंडलर) हरियाणा में बैठी है। गैंग ने उन्हें डिवाइस उपलब्ध कराई है। परीक्षा शुरू होने से पहले डिवाइस को गैंग ने अपने मोबाइल से कनेक्ट कराया। इधर, से परीक्षार्थी सवाल बताता है, उधर से सॉल्वर गैंग जवाब देती है। सॉल्वर गैंग एक ही मोबाइल से एक साथ कई अभ्यार्थियों की डिवाइस को कनेक्ट कर रखते हैं। पूछताछ में आरोपी ने खुलासा किया कि गैंग ने नकल कराने के बदले में डेढ़ लाख में सौदा हुआ है। 25 हजार रुपए एडवांस के तौर पर दिए गए हैं। पुलिस का कहना कि आरोपियों के दावों का परीक्षण किया जाएगा।


बैग में डिवाइस-चिप का जखीरा

नवीन के बैग में पुलिस को इलेक्ट्रानिक डिवाइस, चिप का जखीरा मिला है। उसने पूछताछ में बताया कि डिवाइस के बारे में अधिक जानकारी नहीं दी है। पुलिस को आशंका कि भोपाल में आए परीक्षार्थियों को नवीन ने ही नकल करने के उपकरण उपलब्ध कराए होंगे।

अनुपस्थित मिले कुछ उम्मीदवार

सुखविंदर ने अपने इलाके के छह लोगों के नाम टीम को बताए। टीम ने जब परीक्षा केन्द्रों में जांच की तो नवीन के अलावा कोई अन्य उम्मीदवार सुखविंदर के बताए गए नाम वाले नहीं मिले। टीम का मानना कि अन्य उम्मीदवार पकड़े जाने के डर से परीक्षा में शामिल नहीं हुए। नवीन के बैग में मिली डिवाइस अनुपस्थित उम्मीदवारों की होगी।

हरियाणा के अभ्यार्थियों पर थी विशेष नजर

हरियाणा के अभ्यार्थी इससे पहले भी भोपाल समेत अन्य प्रदेशों में हाईटेक तरीके से नकल करते पकड़े जा चुके हैं। ऐसे में परीक्षा करा रहे विश्वविद्यालय प्रशासन ने इन पर खास नजर बनाए रखने के निर्देश दिए थे। हरियाणा के परीक्षार्थियों को एक कमरे में 10-10 अभ्यार्थी बैठाए गए थे।


भोपाल में आठ केन्द्रों पर रविवार को परीक्षा आयोजित की गई थी। एक सेंटर में दो परीक्षार्थियों को हाईटेक तरीके से नकल करते हुए हमारे विश्वविद्यालय की टीम ने पकड़ा है। दोनों को अयोध्या नगर थाना पुलिस को सौंप दिया गया है। - कर्नल आरएम जोशी, रजिस्ट्रार, डॉ. हरिसिंह गौर केद्रीय विश्वविद्यालय

Show More
Ram kailash napit Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned