scriptFake birth certificate, girl brides made from Aadhar card, tents, cate | फर्जी जन्म प्रमाण पत्र, आधार कार्ड से बन रहीं बालिका वधू, टेंट, कैटरिंग सेवाएं देने वाले इसे भी नहीं देखते | Patrika News

फर्जी जन्म प्रमाण पत्र, आधार कार्ड से बन रहीं बालिका वधू, टेंट, कैटरिंग सेवाएं देने वाले इसे भी नहीं देखते

- हाल ही में हुए नाबालिग विवाहों में सामने आए इस तरह के कई फर्जीवाड़े, विवाह कराने वाले भी बोले हम तो आधार में उम्र देखते हैं

- जबकि इसके लिए नगर निगम या नपा का जन्म प्रमाण पत्र, दसवीं की मार्कशीट और आंगनवाड़ी केंद्र में दर्ज उम्र से मिलान करने का है नियम

भोपाल

Published: May 11, 2022 08:29:54 pm

भोपाल. बालिका वधू बनाने के लिए नाबालिग बालिकाओं की उम्र 18 वर्ष से ऊपर दिखाने के लिए कुछ लोग फर्जी जन्म प्रमाण पत्र से लेकर फर्जी आधार तक बनवा रहे हैं। हाल ही में महिला बाल विकास, चाइल्डलाइन की तरफ से रुकवाए गए बाल विवाहों की पड़ताल में ये बात सामने आई है। जबकि बाल विवाह की जांच के लिए जारी हुए आदेश में आधार कार्ड का कोई जिक्र ही नहीं है। माता-पिता ही नहीं कुछ जगह आयोजकों और विवाह कराने वाले पंडितों से की गई पड़ताल में भी ये बात सामने आई कि वे आधार ही देख रहे हैं। जबकि वे आधार फर्जी थे, सिर्फ बाल विवाह में आयु पूरी दिखाने के लिए बनवाए गए थे। पुलिस जांच में एक बात और सामने आई कि बाल विवाह में टेंट, कैटरिंग की सेवाएं देने वाले ये सब देखते ही नहीं। न ही उनकी तरफ से कोई शपथ पत्र दिया जाता है। उन्हें तो सीधे रुपयों से मतलब रहता है। ऐसे में ये लोग सीधे तौर पर दोषी पाए जाते हैं। एक मामले में हुई एफआईआर में इनको भी दोषी बनाया है।

फर्जी जन्म प्रमाण पत्र, आधार कार्ड से बन रहीं बालिका वधू, टेंट, कैटरिंग सेवाएं देने वाले इसे भी नहीं देखते
फर्जी जन्म प्रमाण पत्र, आधार कार्ड से बन रहीं बालिका वधू, टेंट, कैटरिंग सेवाएं देने वाले इसे भी नहीं देखते

केस-1

कस्तूरबा अस्पताल से बनवाया फर्जी जन्म प्रमाण पत्र

- गांधी नगर में बाल विवाह रुकवाने पहुंची टीम के सामने उस समय बड़ा संकट खड़ा हो गया जब परिजनों ने उन्हें कस्तूरबा अस्पताल का एक जन्म प्रमाण पत्र दिखाया। इसमें बालिका की उम्र 1 जनवरी 2002 बताई गई थी, उसके आधार पर लड़की बालिग थी। लेकिन ये बना था 14 अप्रेल 2022 को। इससे टीम को कुछ शक हुआ। वहीं लड़की की शक्ल सूरत से वह बालिग भी नहीं लग रही थी। ये मामला गांधी नगर थाने भी पहुंच गया। पुलिस ने थोड़ी सख्ती दिखाई तो एक और जन्म प्रमाण पत्र सामने आया जिसमें बालिका की उम्र 2 फरवरी 2006 निकली। ये वर्ष 2012 में बना था। इस आधार पर बाल विवाह राेक दिया गया, इस मामले में पुलिस की जांच चल रही है।

केस-2

फर्जी आधार कार्ड देखकर करा रहे थे शादी

- विदिशा रोड और बैरसिया में आयोजित बाल विवाह में पुलिस ने मौके पर जाकर शादी रुकवा दी, टीम ने जब उनसे पूछा कि बच्ची की मार्कशीट दिखाएं। तो उन्होंने आधार दिखा दिया जिसमें उम्र बालिग थी, देखने में बालिका छोटी दिख रही थी। परिजनों से मार्कशीट लाने कहा तो वे दिखाने में आनाकानी कर रहे थे। टीम ने फैसला किया कि मेडिकल से उम्र का पता किया जाएगा। इसके बाद अगले दिन जेपी अस्पताल में मेडिकल हुआ जिसमें वह नाबालिग निकली। इसके बाद विवाह रुकवाया गया। वहीं बैरसिया में हुए एक अन्य मामले में भी फर्जी आधार सामने आया।

कॉमन बहाने जिनको माता-पिता बताते हैं

बाल विवाह रुकवाने पहुंचने वाली टीम को सबसे पहले माता-पिता बहाना बनाते हैं कि आज कल का माहौल खराब है, लड़की को ऐसा लड़का मिलेगा नहीं। आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है, चार लड़की और एक लड़का है। हम मर गए तो बच्ची का क्या होगा, ऐसे बहाने बताकर बाल विवाह कराने की जिद भी करते हैं।

विभागों को पत्र लिखा है-

जांच में आधार और जन्म प्रमाण पत्र फर्जी मिलने के बाद महिला बाल विकास विभाग और बाल आयोग को पत्र लिखा है। बाल विवाह के मामले में आधार से उम्र नहीं मिलाई जाए। तीन दस्तावेजों से बालिका की उम्र का मिलान करने के बाद ही बालिग होने पर अनुमति दी जाए। इस बार काफी बाल विवाह रोके गए हैं।

अर्चना सहाय, डायरेक्टर, चाइल्ड लाइन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंद्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चAnother Front of Inflation : अडानी समूह इंडोनेशिया से खरीद राजस्थान पहुंचाएगा तीन गुना महंगा कोयला, जेब कटना तयसुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किए बड़े बदलाव, जानें क्या है नए नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.