निजी विश्वविद्यालयों में इस बार नहीं बढ़ेगी फीस, 9 लाख से ज्यादा छात्रों को मिलेगा फायदा

कोरोना संक्रमण के कारण यह फैसला लिया गया है।

By: Pawan Tiwari

Published: 30 Oct 2020, 08:55 AM IST

भोपाल. मध्य प्रदेश के निजी विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले छात्रों के लिए निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग अहम फैसला करने वाला है। इस साल निजी विश्वविद्यालों में फीस नहीं बढ़ाई जाएगी। इसमें करीब 9 लाख से ज्यादा छात्रों पर आर्थिक बोझ नहीं पड़ेगा। यह फैसला कोरोना वायरस को देखते हुए लिया जाएगा।

इस मुद्दे पर हाल ही में पदस्थ हुए आयोग के अध्यक्ष प्रोफ़ेसर भरत चरण सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात की। जिसके बाद आयोग ने पुराने प्रस्ताव पर रिव्यू करने से इंकार कर दिया। प्रदेश के 30 निजी विश्वविद्यालयों ने कई कोर्सस की फीस बढ़ाने के संबंध में पत्र लिखा था। जिस पर विचार किया जाना था, मगर कोरोना के चलते कई प्रचलित कोर्सस की फीस नहीं बढ़ाई जाएगी।

तीन सदस्यीय कमेटी का गठन
आयोग ने तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी निजी विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों के साथ होने वाली मारपीट, दुर्व्यवहार समेत अन्य शिकायत की जांच करेगी। कमेटी का संयोजक एमवीएम के प्रोफेसर संजय दीक्षित को बनाया गया है। जबकि मैनिट के प्रोफेसर मनोज आर्य और रिटायर्ड पुलिस अधिकारी गुलाब सिंह राजपूत भी इस आयोग के सदस्य रहेंगे।

प्रोफेसर शरण सिंह, अध्यक्ष निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग का कहना है कि कोरोना काल में छात्रों को फीस भरने में आर्थिक संकट का सामना नहीं करना पड़े इसलिए फीस संबंधी विषयों को लेकर रिव्यू किया जा रहा है। छात्रों के हित में फैसला लिया जाएगा।

coronavirus
Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned