एमपी के आंगनबाड़ी केन्द्रों पर नहीं होंगे फीवर क्लीनिक

मध्यप्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या में लगाजार इजाफा होने के कारण सरकार एलर्ट है। इसी के मद्देनजर सरकार एहतियातन कदम उठा रही है।

भोपाल। मध्यप्रदेश के आंगनबाड़ी केन्द्रों पर फीवर क्लीनिक अथवा कोविड-19 की गतिविधियों का संचालन नहीं किया जायेगा। इस संबंध में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव फैज अहमद किदवई ने सभी कलेक्टरों को निर्देश दिए हैं कि इन केन्द्रों में ऐसी किसी भी प्रकार की गतिविधियां संचालित न की जाएं।

प्रमुख सचिव किदवई ने कहा है कि कोविड-19 से संक्रमित मरीज के थूक के कणों से दो मीटर के भीतर सम्पर्क में आए किसी अन्य व्यक्ति को संक्रमित कर सकती है। प्रदेश में संचालित किसी भी आँगनवाड़ी में कोविड-19 संबंधी गतिविधियां, फीवर क्लीनिक का संचालन या सेम्पलिंग कार्य के लिये आँगनवाड़ी सह-आरोग्य केन्द्र का उपयोग न किया जाये। श्री किदवई ने कहा कि भारत सरकार की गाईडलाइन के अनुसार गर्भवती महिलाएँ और 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे हाईरिस्क की श्रेणी में चिन्हित किए गए हैं। आँगनवाड़ी का उपयोग सिर्फ महिला बाल विकास विभाग के अन्तर्गत चिन्हित टीकाकरण, स्वास्थ्य सेवाएँ पोषण आहार वितरण आदि के लिए ही किया जाए।

लगातार बढ़ रही है मरीजों की संख्या —
राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार इजापफा होने के कारण सरकार का टेंशन बढ़ा है। हालांकि सरकार संक्रमण को रोकने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। रेड रोज में सख्ती की गई है, जिससे संक्रमण पर रोक लगे। राहत की बात यह है कि मरीजों की संख्या बढ़ने के मुकाबले स्वस्थ्य होने वालों की संख्या अधिक है।

दीपेश अवस्थी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned