scriptfilm 'Super 30' changed the thinking of bank manager | फिल्म 'सुपर 30' ने बदली बैंक मैनेजर की सोच, रोज जा रहे एक घंटा स्कूल | Patrika News

फिल्म 'सुपर 30' ने बदली बैंक मैनेजर की सोच, रोज जा रहे एक घंटा स्कूल

कुछ फिल्में ऐसी भी होती है, जिससे लोगों को प्रेरणा मिलती है.

भोपाल

Published: October 29, 2021 08:48:02 am

भोपाल. कुछ फिल्में ऐसी भी होती है, जिससे लोगों को प्रेरणा मिलती है और वे समाजसेवा के क्षेत्र में भी आगे आते हैं। ऐसा ही भोपाल शहर में हुआ है। फिल्म सुपर 30 ने एक बैंक मैनेजर की सोच बदल दी, जिसके बाद वे रोज एक घंटा स्कूल में जाकर बच्चों को गणित और विज्ञान का पाठ पढ़ा रहे हैं। चूंकि इस विद्यालय में इन विषयों को पढ़ाने वाले शिक्षक की कमी थी, इस कारण बैंक मैनेजर का यह निर्णय विद्यार्थियों के लिए किसी वरदान से कम साबित नहीं हो रहा है। उन्होंने कोरोना काल में भी पढ़ाई का यह सिलसिला जारी रखा।
Super 30
Super 30

पिछले तीन साल से पढ़ा रहे मैनेजर
अरेरा हिल्स पर अपने ऑफिस जाने वाले अन्य हजारों कर्मचारियों की तरह सरकारी बैंक में मैनेजर उत्कर्ष देवांगन भी सात नम्बर चौराहे से सरोजनी नायडू स्कूल के सामने से गुजरते थे। लेकिन 2019 में एक दिन उत्कर्ष देवांगन समय से पहले घर से निकले और स्कूल में चले गए। प्राचार्य से पूछा, मैं बच्चों को पढ़ाने में क्या मदद कर सकता हूं। प्राचार्य ने कहा विद्यार्थियों को गणित और विज्ञान में मार्गदर्शन की जरूरत है। हमारे पास अंग्रेजी माध्यम से यह विषय पढ़ाने वाले शिक्षकों की कमी है। अगले दिन से देवांगन रोजाना एक घंटे पहले ऑफिस के लिए निकलते और एक घंटे में स्कूल में पढ़ाते है।
कोरोना काल में उन्होंने ऑनलाइन पढ़ाना जारी रखा। आज उनकी कक्षा में 132 से ज्यादा विद्यार्थी हैं। सुपर 30 फिल्म ने बदल दी सोच सिर्फ ताली नहीं बजानी कुछ करना है। उत्कर्ष बताते हैं, सुपर 30 फिल्म देखकर सभी के साथ मैंने भी ताली बजाई, लेकिन सोचा सिर्फ ताली नहीं बजानी है, जरूरतमंद विद्यार्थियों के लिए कुछ करना भी है। प्राचार्य खांडेकर सर से मुलाकात की, 2019-20 में 9 वीं के विद्यार्थियों को विज्ञान पढ़ाया। सभी विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए तो हौसला बढ़ा। फिर 2020-21 में 11 वीं के विद्यार्थियों को गणित पढ़ाया, इस वर्ष 12 वीं के विद्यार्थियों को गणित पढ़ा रहा हूं।
यहां आधे दामों पर बिक रहे ब्रांडेड जूते, पर्स और चश्में


स्वैच्छिक सेवाओं के लिए हुए सम्मानित
संक्रमण शुरू होने के बाद से ऑनलाइन क्लास लेनी शुरू की, जिसके चलते सरोजनी नायडू की छात्राओं के साथ प्रदेश और छत्तीसगढ़ के कई जिलों के विद्यार्थी भी जुड़ गए हैं। स्वैच्छिक सेवाओं के लिए लोक शिक्षण संचालनालय के आयुक्त अभय वर्मा ने देवांगन को सम्मानित किया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी की भव्य प्रतिमा, पीएम करेंगे होलोग्राम का अनावरणAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनाव20 आईपीएस का तबादला, नवज्योति गोगोई बने जोधपुर पुलिस कमिश्नरइस ऑटो चालक के हुनर के फैन हुए आनंद महिंद्रा, Tweet कर कहा 'ये तो मैनेजमेंट का प्रोफेसर है'खुशखबरी: अलवर में नया सफारी रूट शुरु हुआ, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.