पहले छानकर लाओ, फिर खरीदेंगे चना

खरीदी केन्द्रों पर कर्मचारियों की मनमानी से परेशान किसान

By: brajesh tiwari

Published: 09 May 2018, 11:46 AM IST

सीहोर. जिले का किसान एक बार फिर अपनी उपज बेचने को लेकर परेशान नजर आ रहा है। एसएमएस आने वाले बाद अपनी चने की उपज खरीदी केन्द्रों पर लेकर पहुंच रहा है तो उसकी उपज में अधिकारी कुछ न कुछ कमी निकालकर खरदीने में आनाकानी कर रहे हैं। जिससे किसान खासा परेशान नजर आ रहा है।

किसानों ने बताया कि उनसे कहा जा रहा है कि पहले चना छानकर, साफ करके लाओ इसके बाद आपकी चने की उपज की खरीदा जाएगा। ऐसे में परेशान किसान घर पहुंचकर छलना लाकर खरीदी केन्द्र पर ही अपनी चने की उपज छानने को मजबूर हैं। किसानों का कहना है कि खरीदी केन्द्रों पर उनकी साफ उपज को भी खरीदने के केन्द्र प्रभारी काफी आनाकानी कर रहे हैं।

ऐसे में हमें मजबूर होकर खरीदी केन्द्र पर ही अपने चने की उपज का छानकर व साफ कर देना पड़ रही है। वहीं कई किसान तो केन्द्र प्रभारियां की मनमानी के कारण अपनी उपज व्यापारियों को ओने-पोने दाम पर बेचने के को मजबूर हैं। नसरुल्लागंज के किसान महेन्द्र सिंह , धनरूपमल, राजमल मालवीय ने बताया कि हम एसएमएस आने के बाद मंडी परिसर में स्थित समर्थन मूल्य खरीदी केन्द्र पर अपनी चने की उपज लेकर पहुंचे तो केन्द्र प्रभारी ने हमारी उपज की तुलाई करने से मना कर दिया।

उनका कहना था कि इसे वापस ले जाओ और साफ व छानकर लाओ तब आपकी उपज हम तुलवाएंगे, जबकि हमारी उपज साफ ही थी। ऐसे में हम मजबूर होकर मंडी परिसर में ही घर से छालना लाकर साफ कर रहे हैं। अब देखते हैं कि इसके बाद वह हमारी उपज तुलवाते हैं या नहीं। यहां उपज लेकर आने वाले किसानों को कुछ इसी प्रकार परेशान किया जा रहा है।

भांजियों को भरनी पढ़ रही है ऊपर

सिरोंज -समर्थन मूल्य केंद्र बने जी का जंजाल मामा की भांजियों को भरनी पढ़ रही है ऊपर केंद्र प्रभारी सुनने को तैयार नहीं है क्योंकि जिसको उपज भरने तौलने का ठेका दिया है बैक सुनने को तैयार नहीं है उसके पास पर्याप्त मात्रा में हम्माल ही नहीं है केवल इनके द्वारा तुलाई की जाती है बाकी काम किसानों को करके देना पड़ता है जिस में छापे लगाना और वोरो मैं भरकर जो किसान देते हैं उनकी तुलाई होती है

brajesh tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned