Weather Report: मध्यप्रदेश के कई डैम ओवरफ्लो, नदियां खतरे के निशान से ऊपर, अब तक 32 की मौत

Weather Report: मध्यप्रदेश के कई डैम ओवरफ्लो, नदियां खतरे के निशान से ऊपर, अब तक 32 की मौत

Manish Geete | Publish: Aug, 15 2019 08:07:57 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

मध्यप्रदेश ( madhya pradesh ) में लगातार बारिश ( heavy rain ) से प्रदेश के लगभग सभी डैम ओवर फ्लो होने की स्थिति में पहुंच गए हैं। सारणी का सतपुड़ा डैम, तवा डैम और बरगी डैम के गेट खोले जाने के बाद नर्मदा भी खतरे के स्थान से ऊपर बह रही है।

भोपाल। मध्यप्रदेश ( madhya pradesh ) में लगातार बारिश ( heavy rain ) से प्रदेश के लगभग सभी डैम ओवर फ्लो होने की स्थिति में पहुंच गए हैं। सारणी का सतपुड़ा डैम, तवा डैम और बरगी डैम के गेट खोले जाने के बाद गुरुवार को नर्मदा भी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। प्रशासन ने नर्मदा किनारे बसे सभी गांवों और शहरों को अलर्ट जारी किया है। वहीं NDRF और SDRF की टीम रेस्क्यू कर लोगों को बचाने में जुटी हुई है। मध्यप्रदेश के कई जिलों में हो रही लगातार भारी बारिश से फसलों को नुकसान पहुंचा है, वहीं कई गांवों का संपर्क भी शहरों से टूट गया है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अब तक मध्यप्रदेश में 32 लोगों के मारे जाने की खबर है।

 

Live Updates
भोपाल का बड़ा तालाब भर जाने के कारण बुधवार देर रात को भदभदा के 4 गेट खोल दिए गए। जो सुबह तक चलते रहे। भदभदा के गेट खुलने से कलियासोत डैम में पानी जमा होने लगा, उसका लेवल 502.30 मीटर पर पहुंच गया, जबकि कलियासोत का एफटीएल 505.67 हैं। बताया जा रहा है कि बारिश ऐसी ही गिरती रही तो गुरुवार दोपहर में 1 बजे बाद फिर से भदभदा के गेट खोले जाएंगे।

 

 

flood

मंदसौर में हर तरफ पानी
मंदसौर के हैदरवास गांव में बाढ़ से प्रभावित 150 से अधिक लोगों को राहत शिविर में रेस्क्यू करके पहुंचाया गया है। जबकि बाढ़ में 4 लोगों के बहने के भी समाचार हैं। बताया जाता है कि चार लोगों में से एक ही परिवार के लोग हैं, जबकि एक व्यक्ति की मौत की पुष्टि कर दी गई है, जबकि तीन लोग अब भी लापता बताए जाते हैं। जिला प्रशासन ने बाढ़ पीड़ितों के लिए तीन राहत शिविर बनाए हैं। इन राहत शिविरों में अब तक तीन हजार लोगों को पहुंचाया गया है और बाढ़ से हुए नुकसान का आंकलन भी किया जा रहा है।

 

flood

धार में भी आफत
निमाड़ क्षेत्र के धार जिले में नर्मदा के उफान पर होने से जनजीवन प्रभावित हुआ है। सरदार सरोवर के गेट बंद होने के कारण एक बार फिर लोगों में डूब में आने का खौफ पैदा हो गया है। मंगलवार को ही बाढ़ प्रभावित लोगों ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम लगा दिया था। छह घंटे के मेहनत के बाद लोगों ने जाम खोला।
-पांढुर्णा के बेलगांव में जाम नदी के उफान पर आने से प्रसव पीड़ा से जूझ रही महिला को खटिया पर लेटाकर अस्पताल तक ले जाना पड़ा।
-पुल के ऊपर दो फीट पानी होने के कारण एंबुलेंस गांव तक नहीं पहुंच पा रही थी।

 

flood

यह है मंदसौर का हाल
मंदसौर में शिवना नदी में बाढ़ के कारण कालाभाटा, काका गाडगिल, रेतम बैराज के गेट खुलने के बाद शिवना नदी में आई बाढ़ से मंदसौर, मल्हारगढ़, सीतामऊ और संजीत इलाकों में पानी-ही-पानी हो गया। इन स्थानों पर भारी बारिश का दौर अब भी जारी है।

 

पशुपतिनाथ मंदिर में घुसा शिवना नदी का पानी
मंदसौर से गुजरने वाली शिवना नदी भी भारी बारिश के कारण उफान पर है रात को ही शिवना का जल स्तर बढ़ना शुरू हो गया था। शिवना नदी के पानी ने पशुपतिनाथ महादेव मंदिर में भी प्रवेश कर लिया।

 

pashupatinath

कई गांव जलमग्न
खबर है कि कल रात से जारी लगातार बारिश से मल्हारगढ़ क्षेत्र में पानी भर गया। इससे काफी नुकसान की भी खबर है। मंदसौर शहर में भी एक पुलिया के धंस जाने कई क्षेत्रों का रास्ता बंद हो गया।
-बारिश का आलम यह है कि बादरी गांव के लोगों को रेस्क्यू करके बाहर निकालना पड़ा।
-मंदसौर की विधायक कालोनी समेत कई इलाकों में पानी भरने के समाचार हैं।
-उधर, आसपास के गांवों से भी खबर है कि लोगों के घरों में पानी घुस जाने के कारण उन्हें छत पर बैठकर समय बिताना पड़ रहा है।
-काचरिया से खबर है कि पूरे क्षेत्र में पानी भर जाने के कारण लोगों को रेस्क्यू करके बाहर निकाला गया। कई लोगों को ट्यूब टायर पर बैठकर बाहर तक लाना पड़ रहा है।
-अशोकनगर और हैदरवास क्षेत्र भी जलमग्न हो गया है।


घुटने-घुटने पानी
-मंदसौर के कई क्षेत्रों में घुटने-घुटने तक पानी भरा है। बचाव टीम तैनात कर दी गई है।
-कलेक्टर एसपी समेत प्रशासनिक अमला भी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर रहा है।
-कयामपुर के पास यात्री बस अनियंत्रित होकर पानी से भरे गड्ढे से उतर गई थी।
-मेघदूत नगर और यशनगर को जोड़ने वाली पुलिया भी बारिश में बह गई।


यहां भी मुसीबत
-मध्यप्रदेश के डिंडोरी में भारी बारिश से 20 गांवों का संपर्क टूट गया है।
-बीना से जनहानि के समाचार हैं।

बीना-खुरई में बारिश, गढ़ा-पड़रिया गांव पानी में घिरा
इधर, बीना से खबर है कि मंगलवार से जारी बारिश के कारण कई गांव पानी में घिर गए हैं। मोतीचूर नदी के उफान पर होने के कारण देहरी, भानगढ़, बेलई, धनोरा जैसे करीब दो दर्जन से अधिक गांवों का संपर्क टूट गया है। बड़ी संख्या में वाहनों की कतारें लगी हैं। सैकड़ों यात्री रास्तों पर ही फंस गए हैं।

-राहतगढ़ व पठारी रोड पर भी बारिश से रास्ते बंद हो गए हैं। पुल पर 7 फीट से ज्यादा पानी बह रहा है। इस कारण राहतगढ़ रोड पर बरोदियानोनागिर के पास मालाघाट के पुल पर भी यही हाल है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned