EOW के इस सवाल पर फंस गये पूर्व कुलपति कुठियाला, नहीं दे सके कोई जवाब

EOW के इस सवाल पर फंस गये पूर्व कुलपति कुठियाला, नहीं दे सके कोई जवाब

KRISHNAKANT SHUKLA | Updated: 19 Sep 2019, 10:07:45 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

पूर्व कुलपति की नियुक्ति भी जांच के दायरे में ... ईओडब्ल्यू ने पूछा-किस नियम के तहत विवि के पैसों से पी शराब, कुठियाला नहीं दे सके जवाब

भोपाल. आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (ईओडब्ल्यू) ने माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो. ब्रज किशोर कुठियाला से बुधवार को भी साढ़े चार घंटे तक पूछताछ की। ईओडब्ल्यू ने खुद कुठियाला की नियुक्ति को भी जांच में शामिल कर लिया है। 2008 में कुठियाला की नियुक्ति करने वाली कमेटी, नियम, नियुक्ति के लिए निकाले गए विज्ञापन आदि पर सवाल उठाए। अब कुठियाला की नियुक्ति करने वाली कमेटी से भी ईओडब्ल्यू पूछताछ करेगी।

वहीं, बुधवार को कुठियाला से खुद की नियुक्ति, बायोडाटा, आदि सहित 55 से ज्यादा सवाल पूछे। पूछताछ करने वाली टीम ने कुठियाला से यह भी पूछा कि विवि के पैसों से शराब किस नियम से पी और वाइन कैबिनेट किस नियम के तहत खरीदी गई। कुठियाला ऐसे सवालों के जवाब नहीं दे पाए। वहीं, 250 रुपए के चाय-बिस्किट के बिल पर भी कुठियाला से ईओडब्ल्यू ने सवाल पूछे। पूछे गए अधिकतर प्रश्न बिलों पर आधारित थे। कुठियाला से शराब से संबंधित सवाल पूछे तो वे असहज हो गए। उनके पास इसका कोई संतोषजनक जवाब नहीं था।

ईओडब्ल्यू ने कुठियाला की नियुक्ति पर भी नए सिरे से जांच शुरू की है। बताया जा रहा है कि विवि के नियमों को अनदेखा कर कुठियाला की नियुक्ति की गई थी। बाद में कुठियाला ने भी कई नियुक्तियां नियमों को ताक पर रखकर की है।

ईओडब्ल्यू डीजी केएन तिवारी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि विवि के नियमों के अनुसार सिर्फ पत्रकार ही विवि का कुलपति नियुक्त हो सकता है। विवि के अधिनियम की धारा 10 (3) के अनुसार, कुलपति, सार्वजनिक या निजी क्षेत्र में वरिष्ठ स्तर पर बीस सालों के अनुभव के साथ पत्रकारिता या जनसंचार की किसी भी शाखा से एक पेशेवर व्यक्ति ही कुलपति हो सकता है।

लेकिन कुठियाला के बायोडाटा के अनुसार वह मानव विज्ञान और समाजशास्त्र के व्यक्ति है और वह एक प्रोफेसर हैं, पत्रकार नहीं। पत्रकारिता विवि में नियुक्ति से पहले वे कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी हरियाणा के जन संचार और मीडिया प्रौद्योगिकी संस्थान के निदेशक और प्रोफेसर थे।

वे गुरु जंबलेश्वर विवि के संस्थापक शिक्षक भी थे, लेकिन दोनों पदों में प्रमाणित नहीं हुआ कि वे एक पत्रकार हैं। इसलिए कुठियाला की नियुक्ति भी जांच के दायरे में आ गई है। इसके लिए चयन समिति और विवि की महापरिषद से भी पूछताछ की जा सकती है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned