गैंगरेप करने वाले 6 दरिंदों को शेष जीवन कैद में बिताना होगा

भोपाल रेलवे स्टेशन के पास नाबालिग से गैंगरेप का मामला...

By: Sumeet Pandey

Updated: 13 Mar 2018, 08:56 AM IST

भोपाल. भोपाल रेलवे स्टेशन के पास 12 वर्षीय नाबालिग से गैंगरेप के मामले में अदालत ने 6 दरिंदों को शेष जीवनकाल तक कैद की सजा सुनाई है।

अदालत ने मुख्य आरोपी विदिशा निवासी अर्जुन अहिरवार, अरेरा कॉलोनी निवासी सलमान किडनी, दुर्ग निवासी राजेश टकला, बरखेड़ी निवासी मोहम्मद सलमान उर्फ भेड़ा, करोंद निवासी मनीष यादव और इब्राहिमगंज निवासी मंगल ठाकुर को जीवनपर्यन्त उम्रकैद के साथ ही 1 लाख 35 हजार रुपए जुर्माना वसूलने के निर्देश दिेए हैं। जुर्माना राशि में से 60 हजार रुपए पीडि़त नाबालिग को दिए जाएंगे।

इसके अलावा अदालत ने विधिक सेवा से नाबालिग को नियमानुसार आर्थिक सहायता देने के निर्देश दिये हैं। विशेष सत्र न्यायाधीश सविता दुबे ने सोमवार को यह फैसला सुनाया है। भोपाल रेलवे स्टेशन पर रहने वाली 12 वर्षीय नाबालिग के साथ दोषी ठहराये गए 6 के अलावा 2 नाबालिग साथियों ने भी दरिंदगी को अंजाम दिया था। सभी दरिंदे करीब 4 माह तक मासूम के साथ दुष्कर्म करते रहे, जिसके चलते मासूम को 4 माह का गर्भ ठहर गया था। मामले का खुलासा 3 नवंबर 2017 को हुआ था।

ऐसे हुआ दरिंदगी का खुलासा-

रेलवे चाइल्ड लाइन भोपाल की संजीवनी सर्विस की भोपाल रेलवे स्टेशन पर तैनात टीम मेंबर नमिता को 12 वर्षीय नाबालिग प्लेटफॉर्म नंबर 1 के बाहर बदहवास हालत में मिली थी। नमिता के पूछने पर नाबालिग ने स्टेशन पर भीख मांगने का काम करना बताया था।

नाबालिग ने पूछताछ में बताया कि वह जबलपुर मंडी की रहने वाली है। सुल्तानिया अस्पताल में मेडिकल चेकअप में सामने आया कि नाबालिग गर्भवती है। बाद में नाबालिग को गौरवी महिला केन्द्र में भेजा गया। गौरवी महिला केन्द्र की शिकायत पर जीआरपी भोपाल ने 7 नवंबर 2011 को मामले में एफआईआर दर्ज की थी।

एफआईआर दर्ज होने के बाद जीआरपी पुलिस ने नाबालिग की निशानदेही पर 8 नवंबर को सलमान सहित अन्य आरोपियों को हिरासत में लिया था। विवेचना के दौरान सामने आया था कि सभी दोषी भोपाल रेलवे स्टेशन के पास नाबालिग से करीब 4 माह से दुष्कर्म कर रहे थे। दुष्कर्म की बात किसी को बताने पर नाबालिग को जान से मारने की धमकी दी गई थी।

 

सजा के बाद बिलखे परिजन, दोषियों ने की गाली-गलौच

मासूम के साथ दरिंदगी को अंजाम देने वाले मुख्य आरोपी अर्जुन समेत सभी के चेहरों पर जरा भी शिकन नहीं थी। कटघरे में तो जज के पूछने पर अर्जुन बोला मैडम हमें झूठा फंसाया गया है। इस पर जज बोलीं डीएनए रिपोर्ट में सब सच बयां है।

इस पर अर्जुन बोला मैडम नाबालिग अपनी मर्जी से सलमान के साथ रहती थी। कोर्ट रूम के बाहर बड़ी संख्या में दोषियों के परिजन पहुंचे थे। सभी दोषियों को देखकर परिजन बिलख पड़े।

परिजनों को बिलखता देख सभी दोषी उग्र हो गये। कोर्ट रूम से लॉकअप तक ले जाने के दौरान अर्जुन सहित अन्य दोषियों ने पुलिसकर्मियों के साथ गाली-गलौच की ।

 

ढाई माह में आया फैसला

जीआरपी पुलिस ने विवेचना के बाद जनवरी के पहले हफ्ते में अदालत में चालान पेश किया था। मामले में पैरवी करने वाली विशेष लोक अभियोजक अनीता सिंह ने बताया कि गवाहों के बयान दर्ज होने के बाद सोमवार को अदालत ने करीब २ माह बाद ६ आरोपियों को दोषी ठहराकर जीवन पर्यन्त उम्रकैद की सजा सुनाई है।

अदालत ने सभी दोषियों को भारतीय दंड विधान की धारा ३७६ डी, ३७६-२ आई एन,लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत दोषी पाकर अलग-अलग सजा सुनाई है। सभी सजाएं एक साथ चलेंगी।

 

 

Sumeet Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned