गणपति बप्पा मोरिया, अगले बरस तू जल्दी आ के जयकारों के साथ देंगे बप्पा को विदाई

- अनंत चतुर्दर्शी आज, गणेश प्रतिमाओं का होगा विसर्जन, गणेश उत्सव का होगा समापन
- कई श्रद्धालु अपने घर पर ही करेंगे विसर्जन

भोपाल
अनंत चतुर्दर्शी का पर्व रविवार को मनाया जाएगा। इसी के साथ दस दिवसीय गणेश उत्सव का समापन होगा। श्रद्धालु गणपति बप्पा मोरिया, अगले बरस तू जल्दी आ के जयकारों के साथ बप्पा को विदाई देंगे। इसके पहले घरों और पंडालों में भगवान गणेश की पूजा अर्चना और महाआरती की जाएगी। इस बार अनेक घरों में पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने के लिए मिट्टी के गणेशजी की स्थापना की गई है, साथ ही घरों में ही विधि विधान के साथ विसर्जन करेंगे।


इन दिनों श्रद्धालु सिद्धि विनायक भगवान गणेश की आराधना कर रहे हैं। घरों में आकर्षक साज सज्जा कर गणेशजी की स्थापना की गई है, इसी प्रकार शहर में भी अनेक स्थानों पर पंडाल सजाकर भगवान गणेश की स्थापना की गई है। डोल ग्यारस के साथ भगवान गणेश के विसर्जन का सिलसिला प्रारंभ हो गया है। रविवार को अनंत चतुर्दर्शी के मौके पर श्रद्धा के साथ भगवान गणेश का विसर्जन किया जाएगा। गणेश प्रतिमाओं के विसर्जन के लिए नगर निगम प्रशासन की ओर से भी घाटों पर अस्थायी विसर्जन कुंड बनाए गए हैं, जहां प्रतिमाएं विसर्जित की जाएगी। शहर के खटलापुरा, प्रेमपुरा, कमलापति, शाहपुरा आदि स्थानों पर प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाएगा।

इस बार नहीं निकलेंगे चल समारोह
गणेश उत्सव के समापन मौके पर हर साल अनंत चतुर्दर्शी पर रात्रि में विसर्जन चल समारोह निकाला जाता था, जिसमें अनेक चलित झांकियां और गणेश प्रतिमाएं शामिल होती थी। यह चल समारोह पूरी रात भ्रमण करता था, लेकिन इस बार कोविड 19 के तहत जारी गाइड लाइन के अनुसार चल समारोह नहीं निकाले जाएंगे। सार्वजनिक उत्सव समितियों के कार्यकर्ता प्रतिमाएं लेकर विसर्जन घाट पहुंचेंगे, जहां प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाएगा।

घर पर भी कर सकते हैं विसर्जन
पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने के लिए इस बार भी कई श्रद्धालु घरों में ही प्रतिमाओं का विसर्जन करेंगे। पं. विष्णु राजौरिया के अनुसार गणेश प्रतिमा का विसर्जन जल में होना चाहिए। मिट्टी की गणेश प्रतिमा का घर पर भी विसर्जन कर सकते हैं। इसके लिए जरुरी है बड़े पात्र में शुद्ध जल भरकर उसमें गंगाजल, दुर्वा डाले और विधि पूवर्क पूजन, आरती कर विसर्जन करे। प्रतिमा को सीधा जल से भरे पात्र में रखे ताकि प्रतिमा पूरी तरह जल में समाहित हो जाए। इसके बाद इस जल को शुद्ध स्थान पर बड़े वृक्षों में, गमलों में प्रवाहित करे। इससे भगवान गणेश की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

प्रवीण सावरकर Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned