कहीं आपके गैस कनेक्शन पर तो नहीं बुक हो रहे हैं एक्स्ट्रा सिलेंडर, जानिए कहां हो रहा है फर्जीवाड़ा

rishi upadhyay

Publish: Jan, 14 2018 04:54:38 (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
कहीं आपके गैस कनेक्शन पर तो नहीं बुक हो रहे हैं एक्स्ट्रा सिलेंडर, जानिए कहां हो रहा है फर्जीवाड़ा

अवैध इस्तेमाल करने वालों को आसानी से ये सिलेंडर डीलर और कर्मचारियों की मिलीभगत से मुहैया कराए जा रहे हैं।

दिनेश भदौरिया@भोपाल। घरेलू गैस का व्यवसायिक इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है। अवैध इस्तेमाल करने वालों को आसानी से ये सिलेंडर डीलर और कर्मचारियों की मिलीभगत से मुहैया कराए जा रहे हैं। वहीं शहर में कई बिचौलिए भी हैं जो इस कालाबाजारी में लगे हुए हैं। दोगुना दामों तक ये सिलेंडर बेच दिए जाते हैं। ये सिलेंडर कई ऐसे उपभोक्ताओं के नाम के होते हैं जिन्होंने इन्हें कभी बुक ही नहीं किया।

 

सिंकदराबाद क्षेत्र के निवासी सुदामा अहिरवार ने गैस सिलेंडर बुक नहीं किया फिर भी इनके खाते में सब्सिडी जमा हो गई। ऐसे ये अकेले नहीं गांव के कई परिवार हैं। इनके नाम फर्जी बुकिंग हुई। ये मामला आर्य गैस एजेंसी का है। इसका गोदाम सिकंदराबाद में है। घरेलू गैस की कालाबाजारी किए जाने की शिकायत है। करीब दो हजार की आबादी वाले इस क्षेत्र में 320 गैस कनेक्शन है।

gas cylinder

आपको बता दें कि भोपाल शहर में करीब साढ़े छह लाख घरेलू गैस उपभोक्ता हैं। नियमों के तहत हर उपभोक्ता को सालभर में 12 सिलेंडर पर सब्सिडी दी जा रही है। इनमें से कई परिवार ऐसे हैं जो 12 सिलेंडर से कम की खपत कर पाते हैं। ऐसे में शेष बचे हुए सिलेंडर ही मिलीभगत से बाजार में आ जाते हैं। उपभोक्ता के नाम पर फर्जी एंट्री कर ये खेल चल रहा है।

 

सवाल किया तो फाड़ दिए एंट्री बुक के पन्ने
पत्रिका संवाददाता को कई ग्रामीणों ने गैस सप्लाई बुक दिखाई, जिसमें बीच-बीच से पन्ने फाड़कर एजेंसी के कर्मचारियों द्वारा मनमानी एंट्री करना बताया गया है। सुंदरलाल साहू ने बताया कि गैस एजेंसी ने गैस सप्लाई के नाम पर फर्जीवाड़ा किया। उनकी गैस पुस्तिका के कई पन्ने एजेंसी के लोगों ने फाड़कर मनमानी नई एंट्री कर दी गई हैं।

gas cylinder

विमलेश मारन ने बताया कि कनेक्शन के समय केवल एक ही सिलेंडर उसे दिया गया, लेकिन पासबुक में सब्सिडी कई सिलेंडर्स की आई। जब उसने शिकायत की तो गैस एजेंसी संचालक ने उससे सप्लाई बुक एंट्री के लिए मांगी, लेकिन विमलेश ने बुक देने से मना कर दिया। इसमें फर्जीवाड़ा साफ नजर आ रहा है। पत्रिका संवाददाता के सामने गैस एजेंसी के चौकीदार राजेश मेवाड़ा ने बताया कि उसने सुंदरलाल साहू को केवल एक ही गैस सिलेंडर दिया था और केवल एक ही एंट्री की है। वह बुक लेकर सिटी स्थित ऑफिस भेज देता है।

 

जिम्मेदार बोले - हमें कुछ नहीं पता, पता चलेगा तो कार्रवाई करेंगे

इस पूरे मामले पर रातीबड़ थाने के टीआई अशोक कुमार गौतम का कहना है कि प्रकरण की जांच की जा रही थी। इस समय जांच किस स्थिति में है, इसे दिखवा लेता हूं। वहीं आर्य गैस एजेंसी के संचालक ललित प्रकाश आर्य ने तो इस पूरे मामले को ही सिरे से खारिज कर दिया। उनका कहना था कि ये फर्जीवाड़ा हैं। विद्वेशवश ऐसा किया जा रहा है। किसी ग्रामीण ने अब तक कोई शिकायत दर्ज नहीं कराया है। इस मामले को आईओसी के फील्ड ऑफिसर रवि कुमार के सामने रखा गया तो उन्होंने कहा कि पूरे दिसंबर माह मैं लीव पर था। मेरे पास कोई ऐसी न तो शिकायत आई है और न ही मैंने ग्रामीणों को ऑफिस से भगाया है। हो सकता है किसी अन्य ने मेरे नाम से ऐसा दुव्र्यवहार किया हो। शिकायत मिलेगी तो जरूर जांच होगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned