रिटायरमेंट के बाद ऐसे आप भी पा सकते हैं रेगुलर इनकम, ये हैं 6 तरीके

रिटायरमेंट के बाद ऐसे आप भी पा सकते हैं रेगुलर इनकम, ये हैं 6 तरीके

Deepesh Tiwari | Publish: Aug, 12 2018 05:06:36 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

बढ़ती महंगाई और कम हो रही बचत...

भोपाल। यदि आप भी नौकरीपेशा व्यक्ति हैं, तो ये स्वाभाविक बात है कि आपको अपने भविष्य की आय को लेेकर चिंता बनी ही हुई होगी। वहीं यदि आप 35 वर्ष की आयु को पार कर चुके हैं, तब तो ये चिंता आपके मन में अब बैठनी शुरू कर ही गई होगी कि रिटायरमेंट के बाद क्या होगा।

दरअसल बढ़ती महंगाई और कम हो रही बचत न केवल नौकरी पेशा से जुड़े लोगों बल्कि अन्य व्यवसाय कर रहे लोगों को भी चिंतित कर रही है। वहीं आने वाले खर्चों की चिंता के अलावा अपने भविष्य के खर्चे लोगों में तनाव बढ़ा रहे हैं।

जानकारों की मानें तो रिटायरमेंट के बाद लोगों को सबसे बड़ी चिंता नियमित आय को लेकर होती है। जिन लोगों के पास पेंशन की सुविधा होती है, तो उन्हें भले ही उन्हें इसकी कम फिक्र होती हो, लेकिन जिनके पास रिटायरमेंट के बाद आय का कोई स्त्रोत न हो उनके लिए ये चिंता लाजमी है। इस संबंध में फायनेंस के जानकार मनोज गोयल कहते हैं कि ऐसे कई विकल्प हैं जिन्हें अपना कर आप भी रिटायरमेंट के बाद भी नियमित आय अर्जित कर सकते हैं।

ये हैं वे तरीके, जो आपको देंगे रिटायरमेंट के बाद आय...
रिटायरमेंट के बाद जीवन बीमा आपकी आय का बेहतर साधन है। इसके अलावा आप अन्य निवेश विकल्पों जैसे कि एफडी, पीपीएफ, एनएससी इत्यादि में भी निवेश पर विचार कर सकते हैं। इससे आपका मूल निवेश सुरक्षित रहता है, जो आपको रिटायरमेंट के बाद आरामदायक जीवन जीने में मदद करता है।

वैसे अधिकांश जीवन बीमा पॉलिसी में रिटायरमेंट आय शामिल होती है। जीवन बीमा में निवेश करने का एक और फायदा यह है कि बीमित धनराशि को समय के साथ बढ़ाया जा सकता है।

इस तरह फिलहाल आप अपने वेतन के हिसाब से कम बीमा प्रीमियम देकर पॉलिसी चला सकते हैं। पदोन्नति व आय के नए स्रोत से आमदनी बढ़ने के साथ-साथ आप अधिक बीमा प्रीमियम देकर अपना बीमा कवर बढ़ा सकते हैं। इस तरह आप रिटायरमेंट के बाद बेहतर आमदनी सुनिश्चित कर सकते हैं।

आप इनमें कर सकते हैं निवेश:
1. फिक्स्ड डिपॉजिट (FD): मनोज गोयल के अनुसार रिटायरमेंट के लिए फंड जमा करने के मामले में फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) लोकप्रिय विकल्प है।

इसमें आप अपना पैसा निवेश करते हैं और तय सालाना ब्याज के आधार पर आपकी पूंजी धीरे-धीरे ही सही लेकिन लगातार बढ़ती है। रिटायरमेंट के दिनों में आपकी ओर से की गई बचत का एक बड़ा हिस्सा इसमें लग जाता है।

2. पीपीएफ (PPF): उनके अनुसार आप अपना पीपीएफ एकाउंट खोलकर उसमें भी अच्छा खासा पैसा बचा सकते हैं। इसमें आपको सिर्फ पैसा जमा करना है और आप ब्याज लेते रहेंगे। इसकी ब्याज दर 8.7 फीसदी है और इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसका ब्याज पूरा टैक्स फ्री होता है। आप बैंक और पोस्ट ऑफिस से पीपीएफ खोल सकते हैं।

3. म्युचुअल फंड (Mutual fund): वहीं गोयल का मानना है कि म्यूचुअल फंड में निवेश आपको अच्छा रिटर्न दे देगा। ऐसे में आप सबसे पहले ऐसे विकल्पों को देखें, जिनमें सबसे ज्यादा प्राफिट हो फिर इनमें निवेश करें।

4. ईपीएफ (EPF): आपको मालूम होना चाहिए कि आपकी सैलरी में से 12 फीसद ईपीएफ में जाता है। इसकी ब्याज दर 8.75 फीसद है। ये रिटयरमेंट सेविंग्स स्कीम है। इसका फायदा वो लोग उठा सकते हैं, जो सैलरी पाते हों।

5. इक्विटी या बॉन्ड (EQUITY or BOND): रिटायरमेंट के बाद पैसे कमाने के लिए आप इक्विटी, बॉन्ड में निवेश कर सकते हैं, यह सबसे अच्छा विकल्प है। इसके बारे में आप इंटरनेट से जानकारी ले सकते हैं या विशेषज्ञों से ऑनलाइन बात कर सकते हैं।

6. किराये पर घर देकर (RENT): रिटायरमेंट के बाद घर बैठे पैसा कमाने के लिए आप अपने घर के खाली पड़े हिस्से को किराये पर दे सकते हैं। इससे आपको अच्छी आमदनी हो जाएगी। इसके आप रेसिडेंशियल या कमर्शियल प्रापर्टी में निवेश कर सकते हैं और उसे रेंट पर भी दे दें। इससे आपको घर बैठे तय समय में पैसा मिलता रहेगा।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned