scriptGood news for heart patients - this device will help the heart beat | हार्ट के मरीजों के लिए अच्छी खबर-यह उपकरण करेगा दिल को धड़काने में मदद | Patrika News

हार्ट के मरीजों के लिए अच्छी खबर-यह उपकरण करेगा दिल को धड़काने में मदद

ब्लॉकेज होने पर अब एंजियोप्लास्टी ही नहीं कई तकनीक उपलब्ध हैं, जिससे कम समय में आराम मिल सकता है।

भोपाल

Published: November 08, 2021 08:57:33 am

प्रवीण श्रीवास्तव
भोपाल. दिल के मरीजों के लिए अच्छी खबर है। ब्लॉकेज होने पर अब एंजियोप्लास्टी ही नहीं कई तकनीक उपलब्ध हैं, जिससे कम समय में आराम मिल सकता है। बाइपास सर्जरी के अलावा अब जहां घुलने वाले स्टेंट मौजूद हैं, तो लेजर से ब्लॉकेज हटाने की तकनीक का भी उपयोग किया जा रहा है। हृदय के प्रत्यारोपण किए जाने तक पॉकेट में रखी एक डिवाइस कमजोर दिल को धड़कने में सहायता भी करती है।

improve-your-heart-health.jpg


ब्लॉकेज हटाने की नई तकनीक
हार्ट अटैक का सबसे बड़ा कारण ब्लॉकेज होता है। दरअसल, दिल की मुख्य नसों में कैल्शियम जम जाता है, जो पत्थर जैसा कठोर होता है। इससे नस में रक्त का प्रवाह बंद हो जाता है। नतीजतन हार्ट अटैक की आशंका बढ़ जाती है। अब तक इस कैल्शियम को हटाने के लिए ड्रिल तकनीक (रोटा एबलेशन) का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन इसमे खतरा रहता है। लेकिन, अब कैल्शियम को हटाने के लिए लेजर तकनीक का इस्तेमाल हो रहा है। हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. विवेक त्रिपाठी के मुताबिक इस तकनीक से पिन पाइंट पर अटैक कर कैल्शियम हटाया जा सकता है।

राशन के लिए दो किलोमीटर का सफर तय करने को मजबूर ग्रामीण

इस स्टेंट से नहीं कोई खतरा
ब्लॉकेज को दूर करने के लिए सबसे प्रचलित तरीका स्टेंट डालना है। लेकिन, स्टेंट की जरूरत दो से तीन साल तक ही होती है। एेसे में हार्ट में लगे स्टेंट की जरूरत खत्म हो जाती है पर इसे जीवनभर शरीर के अंदर रखना पड़ता है। इसलिए इसके दुष्प्रभावों से बचने मरीज को खून पतला करने वाली दवाएं लेनी होती है। हृदयरोग विशेषज्ञ डॉ. सुब्रोतो मंडल के मुताबिक अब धातु नहीं पॉलीमर के धागों से बने स्टेंट का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसकी खासियत यह है कि यह अपने आप ही घुल जाएगा। इस स्टेंट से न तो दुष्प्रभावों का खतरा रहता है न ही जीवनभर दवाएं खाने की जरूरत।

हार्ट के मरीजों के लिए अच्छी खबर-यह उपकरण करेगा दिल को धड़काने में मददहार्ट के मरीजों के लिए अच्छी खबर-यह उपकरण करेगा दिल को धड़काने में मददहिंगोट चलाने पर हुए जमकर विवाद में चले फलिए, 4 घायल, एक गिरफ्तार

पॉकेट में रख सकते हैं यह उपकरण
दिल के पूरी तरह खराब होने पर प्रत्यारोपण ही एकमात्र उपचार है, लेकिन अब तक देश में नाममात्र के हार्ट ट्रांसप्लांट हो रहे हैं। एेसे मंे अब आधुनिक तकनीक से मिनिएचर पंप डिवाइस, एलवीएडी (लेफ्ट वेंट्रिक्यूलर असिस्ट डिवाइस) का इस्तेमाल किया जाता है। यह डिवाइस मरीज के खराब हुए दिल के साथ काम कर उसे प्रत्यारोपण किए जाने तक सपोर्ट करती है। एलवीएडी सर्जरी द्वारा लगाया गया मैकेनिकल पंप है, जो दिल से जुड़ा रहता है। उसे पॉकेट में रख सकते हैं। इसे बैटरी से चार्ज करते हैं। एलवीएडी कृत्रिम हृदय से अलग होता है। कृत्रिम हृदय खराब होते दिल को पूरी तरह से रिप्लेस कर देता है, जबकि एलवीएडी दिल के साथ काम करके दिल को कम मेहनत से अधिक रक्त पंप करने में मदद करता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: परम विशिष्ट सेवा मेडल के बाद नीरज चोपड़ा को पद्मश्री, देवेंद्र झाझरिया को पद्म भूषणRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीAloe Vera Juice: खाली पेट एलोवेरा जूस पीने से मिलते हैं गजब के फायदेगणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर, जानिए इसके बारे मेंRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस परेड में हरियाणा की झांकी का हिस्सा रहेंगे, स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.