Teachers Day 2018 सरकार ने दिया बड़ा तोहफा, 10 को किया सम्मानित

Teachers Day 2018 पर सरकार ने दिया बड़ा तोहफा, 10 को किया सम्मानित

By: KRISHNAKANT SHUKLA

Published: 05 Sep 2018, 01:35 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित लोक शिक्षण संचालनायल द्वारा शिक्षक दिवस के अवसर पर प्रदेश स्तरीय कार्यक्रम मनाया गया। इस दौरान शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले 10 शिक्षकों को उपहार भेंट कर सम्मानित किया गया।

इसमें राजधानी भोपाल के शासकीय हमीदिया स्कूल की प्राचार्य वंदना मिश्रा को राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान से सम्मानित किया। वहीं गुना शासकीय कालेज बाजार शाल के शिक्षक अनिल भार्गव को शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर काम करने के लिए उपहार भेंट किए गए।

10 शिक्षकों का किया सम्मान

> अलीराजपुर छकताला की सहायक शिक्षक छित्तू बामनिया
> अनूपपुर भाद्र की अध्यापिका अंजली सिंह
> बालाघाट पेंडरई की सहायक शिक्षक अंजली अशाटकर
> भिंड काटनजीन क्र. 1 के अध्यापक सत्यनारायण चतुर्वेदी

> राजधानी भोपाल के शासकीय हमीदिया स्कूल की प्राचार्य वंदना मिश्रा
> छिंदवाडा खजारी शा.उ. मा. की प्राचार्य अभिलाषा भांगर
> दमोह नवघाट हटा शा. मा. शाला से रामस्वरूप चौरसिया
> दतिया उरदना शा. मा. स्कूल से शिक्षक भानुप्रताप गोस्वामी

> देवास मोरखेड़ी सुभाष चौधरी
> धार सुलावट इंद्र सिंह राठौर
> गुना बाजार शाला शिक्षक अनिल भार्गव
> ग्वालियर मुरार अध्यापक ड़ॉ दीप्ति गौर

> हरदा टिमरनी दुर्गेशनंदन व्यास
> इंदौर बाल विनय मंदर प्राचार्य विजया शर्मा
> जबलपुर लखराम सहायक प्रध्यापक सुधा उपाध्याय
> झाबुआ व्याख्याता लोकेन्द्र सिंह चौहान

शिक्षकों की ये थी मांग

शिक्षकों का कहना था कि शिक्षक संवर्ग के पदों पर अपग्रेडेशन एवं समायोजन के बाद ही शिक्षा विभाग और जनजातीय कल्याण विभाग में नई नियुक्ति या अन्य किसी प्रकार का समायोजन किया जाए। वहीं जानकारों के अनुसार अब शिक्षा विभाग के योग्यता रखने वाले कुल 33199 और जनजातीय के 15867 सहायक शिक्षकों, शिक्षकों और प्राथमिक और माध्यमिक प्रधान पाठको को क्रमश: उच्च श्रेणी शिक्षक, प्रधानध्यापक माध्यमिक व व्याख्याता बनने का अवसर मिलेगा।

ऐसे में शिक्षा के समतुल्य जनजातीय विभाग के शिक्षकों को भी लाभ मिलेगा! पूर्व में संघ के पदाधिकारी इसे लेकर स्कूल शिक्षा सचिव दीप्ति गौड़ मुखर्जी से करीब एक दर्जन बार मुलाकात कर चुके हें। लेकिन शिक्षकों के इस मसले को गंभीरता से नहीं लेने के कारण उनका गुस्सा बढ़ता जा रहा ।

Show More
KRISHNAKANT SHUKLA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned