scriptGovernment's 'Sanjeevani' also ineffective on rising suicide graph | सरकार की 'संजीवनी' भी बढ़ते आत्महत्या के ग्राफ पर बेअसर | Patrika News

सरकार की 'संजीवनी' भी बढ़ते आत्महत्या के ग्राफ पर बेअसर

बढ़ते गर्मी के साथ आत्महत्या के ग्राफ में आया उछाल

भोपाल

Published: April 18, 2022 07:52:14 pm

भोपाल। गर्मी का पारा चढ़ते ही प्रदेश में आत्महत्याओं का ग्राफ तेजी से बढ़ने लगा है। हर दूसरे दिन प्रदेश के किसी न किसी हिस्से से आत्महत्या की खबरें सामने आ रही हैं। लेकिन हैरानी की बात ये है कि इस बढ़ते आत्महत्या के ग्राफ को रोकने के लिए सरकार की ओर से कोई प्रयास नहीं किए जा रहे है। यूं तो सरकार ने बढ़ते आत्महत्या के ग्राफ को गिराने के लिए संजीवनी हेल्पलाइन शुरू की थी। जिससे नकारात्मक अवसाद से ग्रस्त व्यक्ति इस हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर सहायता ले सकता था। लेकिन हैरानी की बात ये है की सरकार की ओर से जारी किया गया हेल्पलाइन नंबर- 7049108080 ठप्प पड़ा है। यदि कोई अवसाद से ग्रस्त व्यक्ति इस नंबर पर फोन करेगा तो नंबर बंद आएगा।

क्या बंद हो गई सरकार की संजीवनी योजना?

अवसाद से ग्रसित व्यक्ति को उलझनों से निकालने के लिए सरकार ने संजीवनी- 'एक कदम जीवन की ओर' टोल फ्री नंबर 7049108080 जारी किया था। ताकि कोई भी जरूरतमंद व्यक्ति यहां से सहायता ले सके। लेकिन जब हमने इस नंबर पर फोन करके हकीकत जाननी चाही तो नंबर एक बार आउट ऑफ नेटवर्क आया और दूसरी बार बंद आया। अब सवाल ये है कि क्या सरकार की ओर से जारी की गई योजना क्या बंद कर दी गई है?

बच्चों की आत्महत्या रोकने को लेकर बना ड्राफ्ट ठंडे बस्ते में

ऑनलाइन गेम्स के लत के कारण एक 11 साल के बच्चे के सुसाइड केस के बाद मध्यप्रदेश सरकार ने ऑनलाइन गेमिंग को नियंत्रित करने के लिए एक कानून लाने की बात कही। कहा गया मसौदे को अंतिम रूप दिया जा रहा है। लेकिन बहरहाल ये मसौदा ठंडे बस्ते में ही नजर आ रहा है।

प्रदेश में मार्च माह में हुए आत्महत्या के चर्चित मामले

भोपाल में इंजीनियर बहू ने गृह क्लेश से आजिज आकर आत्महत्या कर ली।

22 मार्च रंगपचंमी को इंदौर में एक महिला ने गृहक्लेश के चलते जीवन लीला समाप्त कर ली।

इंदौर में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे छात्र ने रैंगिग से तंग आकर आत्महत्या कर ली।

इंदौर में ऑनलाइन गेम की लत में 10वीं के छात्र ने आत्महत्या कर ली।

भोपाल आईटी कंपनी में नौकरी करने वाली एक लड़की ने फांसी लगाकर जान दे दी।



sucide_5024067_835x547-m.jpg
suicide.jpg

बढ़ते सुसाइड के ग्राफ पर एक्सपर्ट ये बोले

कई शोध में भी ये बात सामने आई है की शुरूआती गर्मी में आत्महत्या के मामले बढ़ते हैं। लेकिन इसके और भी कई कारण हो सकते हैं। जैसे- पोस्ट कोविड के कारण मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ा है। मानसिक रोगी तेजी से बढ़े हैं। ऐसे में आत्महत्या रोक नीति की सख्त जरूरत है। क्योंकि इसकी सौ प्रतिशत रोकथाम संभव है।

डॉ सत्यकांत त्रिवेदी, मनोचिकित्सक

सुसाइड के मसलों में भी सीजन का असर होता है। जैसे- गर्मी की वजह से इंसना में डिप्रेशन आईडिया ज्यादा आते हैं। और एग्जाम के रिजल्ट के समय, किसानों के फसल कटने के वक्त ये केस बढ़ जाते हैं। जहां तक सवाल महिलाओं के ज्यादा सुसाइड करने का है तो दोनों में कई समानता होने के बावजूद हॉर्मोनल भिन्नता होती है। जो की एक बड़ी वजह है।

डॉ अविनाश ठाकुर, फॉरेंसिक एक्सपर्ट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, एक्सक्लूसिव रिपोर्ट सिर्फ पत्रिका के पास, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट में...दिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंIPL 2022 RCB vs GT live Updates: पावर प्ले में गुजरात 2 विकेट के नुकसान पर 38 रनों पर6 साल की बच्ची बनी AIIMS की सबसे कम उम्र की ऑर्गन डोनर; 5 लोगों को दिया नया जीवनGyanvapi Masjid-Shringar Gauri Case: सुप्रीम कोर्ट में 20 मई और वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई को होगी सुनवाईपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.