कांग्रेस नेताओं के फोन टेप करा रही सरकार : सज्जन

- कांग्रेस ने लगाए गंभीर आरोप, कहा, हमारे पास हैं प्रमाण
- पीएम देते हैं अंबानी-अडानी को सरकार गिराने का ठेका

By: anil chaudhary

Published: 01 Jul 2020, 05:22 AM IST

- प्रजापति ने कहा, प्रदेश में है आउटसोर्स की सरकार
- सिंधिया पर कसा तंज, कहा अब सड़क पर क्यों नहीं उतरते
भोपाल. शिवराज सरकार के सौ दिन पूरे होने पर काला दिवस मना रही कांग्रेस ने सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा, जीतू पटवारी, पीसी शर्मा और पूर्व स्पीकर एनपी प्रजापति ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि कांग्रेस के साथ जनता भी काला दिवस मना रही है।
सज्जन सिंह वर्मा ने आरोप लगाया कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ समेत सभी कांग्रेस नेताओं के फोन टेप कराए जा रहे हैं। जो अधिकारी अनाधिकृत रूप से इस काम में लगे हुए हैं, उनके नाम भी हमारे पास हैं। इसके प्रमाण हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस तरह अंबानी और अडानी को ही सरकार गिराने का ठेका क्यों नहीं दे देते।
- चेहरा, चाल, चरित्र को तिलांजलि
एनपी प्रजापति ने फ्लोर टेस्ट कराने को लेकर आए अदालत के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि इसमें संवैधानिक मर्यादाओं का उल्लंघन किया गया। प्रजापति ने कहा कि ये आउटसोर्स की सरकार है। महंगाई बढऩे और कोरोना से हुई मौतों की सीधी जिम्मेदारी प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की है। उन्होंने चेहरा, चाल, चरित्र को तिलांजलि दे दी है।

- सीएम की ब्रांडिंग के लिए गुजरात की कंपनी को ठेका
जीतू पटवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ब्रांडिंग के लिए जनसंपर्क विभाग गुजरात की कंपनी को ठेका दे रहा है। उन्होंने राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया पर तंज कसते हुए कहा कि अब वे सड़क पर क्यों नहीं उतर रहे, जबकि न तो अतिथि विद्वान को लेकर कोई फैसला हुआ है और न ही किसानों का कर्ज माफ हो रहा है। पीसी शर्मा ने कहा कि राजनीति में भाजपा ने घृणा का बीजारोपण किया है। विधायकों की खरीद-फरोख्त कर पिछले दरवाजे से सरकार बनाने वाली भाजपा जानती थी कि यदि कांग्रेस पांच साल रह गई तो उनका नामोनिशान मिटा जाएगी। 100 दिनों में मुख्यमंत्री अपना मंत्रिमंडल नहीं बना पाए।
- गरीबों को नहीं मिल रहा अंतिम संस्कार के लिए पैसा : कमलनाथ
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि शिवराज, जब आप विपक्ष में थे तो गरीबों के अंतिम संस्कार को लेकर खूब दावे करते थे। कांग्रेस को खूब कोसते थे। आज आप सत्ता में हैं तो अपनी सरकार की सच्चाई भी जान लें। उन्होंने कहा कि सीधी जिले में एक आदिवासी परिवार की युवती की मौत होने पर परिवार को मांगने पर न शव वाहन मिला और न अंतिम संस्कार के लिए आर्थिक मदद। पैसे नहीं होने पर परिवार ने शव को ठेले पर ले जाकर नदी में बहा दिया। कमलनाथ ने पूछा कि कहां गई आपकी अंतिम संस्कार की योजना। मानवता को शर्मसार करने वाली इस हृदय विदारक घटना पर तत्काल दोषियों पर कड़ी कार्रवाई कर परिवार की हरसंभव मदद की जानी चाहिए। वहीं, उन्होंने छतरपुर के खड्डी गांव में एक दिव्यांग युवती के साथ दुष्कर्म की घटना पर कहा कि सरकार इसके आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई करे। पीडि़त परिवार की हरसंभव मदद हो। ऐसी घटनाओं की रोकथाम के लिए सरकार आवश्यक कदम उठाए।
लीड जोड़- प्रदेश में फिर शुरू हुआ अवैध कारोबार : दिग्विजय
पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि दलित नौजवान सोनू परोचिया अपने परिवार का एक मात्र कमाने वाला था, उसकी बजरंग दल के हैपी यादव ने गोली मारकर हत्या कर दी। हत्यारे का आपराधिक रिकॉर्ड रहा है। जिलाबदर की कार्रवाई भी लंबित थी, लेकिन भाजपा नेतृत्व के दबाव में रुकी हुई थी। यदि जिलाबदर कर दिया जाता तो इस सोनू की हत्या नहीं होती। दिग्विजय ने आरोप लगाया कि शांति प्रिय मंडला में कई सालों से जमे पुलिसकर्मियों के संरक्षण में अवैध शराब रेत खनन सट्टा जुआ खुले रूप से चल रहा है। इन्हें जिले से बाहर पदस्थ करना होगा और प्रशासन को हर प्रकार के अवैध कारोबार पर सख्ती से रोक लगानी होगी। वहीं, उन्होंने कहा कि पिपरिया में खुले रूप से विश्वकर्मा की हत्या हो गई।

 

Kamal Nath
anil chaudhary Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned