ईसाइयों पर लगे धर्मान्तरण के झूठे मामले वापस लेगी सरकार

विधि विधायी मंत्री ने ईसाई समाज के प्रतिनिधिमंडल को दिया आश्वासन

पूर्ववती्र सरकार ने ईसाई समाज के लोगों पर धर्मातंरण के कई झूठे मामले दायर किए थे। जबकि यह बात सर्वविदित है कि समाज का कोई भी व्यक्ति ऐसे कृत्य नहीं करता। यह बात राष्ट्रीय ईसाई महासंघ अध्यक्ष फादर आनंद मुटुंगल ने कही। वे शुक्रवार को विधि मंत्री पीसी शर्मा से मिलने पहुंचे। समाज के लोगों ने मंत्री को ज्ञापन सौंपते हुए फर्जी मामले वापस लेने की मांग की। फ ादर आनंद मुटूंगल ने कहा कि मंत्री जी के साथ हुई बातचीत के बाद मंत्री ने सभी झूठे मुकदमे वापस लेने का आश्वासन दिया।


राष्ट्रीय ईसाई महासंघ के प्रवक्ता रिचर्ड जेम्स ने कहा कि दिसम्बर 2003 से लेकर 2018 तक हमारे संगठन ने करीब 264 मामलों में ईसाई समाज के लोगों को विभिन्न प्रकार की मदद की है। लेकिन ऐसे और भी मामले है लेकिन हमारे पास रिकॉर्ड नहीं होने के कारण हम यहां प्रस्तुत नहीं कर पाए। प्रतिनिधि मण्डल में बिबित बाबू, सोनिया सिंह, नाजी मेड़ा, प्रिंस साल्वे, ब्लसेन, बी.एस पीटर आदि शामिल थे।

एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने की प्रक्रिया शुरू : विधि मंत्री

प्रदेश के वकीलों को शीघ्र ही एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू होने की सौगात मिलने वाली है। विधि एवं विधायी विभाग मे एक्ट को लागू करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। केबिनेेट में मंजूरी के बाद शीघ्र ही प्रदेश मे एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू होगा। कानून मंत्री पीसी शर्मा ने शुक्रवार को जिला अदालत स्थित बार एसोसिएशन में आयोजित कार्यक्रम में यह बात कही।

कार्यक्रम में कानून मंत्री शर्मा और प्रदेश के अतिरिक्त महाधिवक्ता बने भोपाल के वकील अजय गुप्ता का सम्मान किया गया। इस अवसर पर पीसी शर्मा ने कहा कि भोपाल की जिला कोर्ट और वकीलों की ख्याति देशभर में है। कार्यक्रम में जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेन्द्र वर्मा सहित न्यायाधीश और बडी संख्या में वकील मौजूद थे।

जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेश व्यास ने शर्मा सेे भोपाल में हाई कोर्ट बेंच शुरू करने की मांग रखी। इस अवसर पर राज्य अधिवक्ता परिषद के सदस्य विजय चौधरी, पीसी कोठारी, एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने गर्म जोशी से कानून मंत्री का स्वागत कर स्मृति चिन्ह भेंट किया।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned