scriptGreen belts in the capital will become green again | राजधानी में ग्रीनबेल्ट फिर होंगे हरे-भरे, चिन्हित 692 कब्जे हटेंगे, लगाएंगे पौधे | Patrika News

राजधानी में ग्रीनबेल्ट फिर होंगे हरे-भरे, चिन्हित 692 कब्जे हटेंगे, लगाएंगे पौधे

locationभोपालPublished: Nov 25, 2023 12:57:20 am

Submitted by:

jitendra yadav

एनजीटी के आदेश के बाद कलेक्टर ने अतिक्रमण हटाने के दिए निर्देश, बनायी टीमें

राजधानी में ग्रीनबेल्ट फिर होंगे हरे-भरे, चिन्हित 692 कब्जे हटेंगे, लगाएंगे पौधे
राजधानी में ग्रीनबेल्ट फिर होंगे हरे-भरे, चिन्हित 692 कब्जे हटेंगे, लगाएंगे पौधे
भोपाल. राजधानी के सडक़ किनारे बने ग्रीनबेल्ट फिर से हरे-भरे होंगे। ग्रीनबेल्ट पर सीपीए द्वारा चिन्हित किए गए 692 अतिक्रमण को हटाने की कार्रवाई जल्द शुरू होगी। जिला प्रशासन, नगर निगम, पीडब्ल्यूडी और वन विभाग आदि मिलकर यह कार्रवाई करेंगे। कब्जे हटाकर फिर से यहां पर पौधे लगाए जाएंगे। यह मामला पत्रिका ने प्रमुखता से उठाया था। इसके बाद मामला एनजीटी में पहुंचा था । एनजीटी ने हाल ही में यह कब्जे हटाने के आदेश दिए थे। कलेक्टर आशीष ने विभिन्न विभागों की बैठक लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेश में बताए गए ग्रीनबेल्ट के 692 अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शुरू करने के निर्देश दिए हैं। बैठक में नगर निगम आयुक्त फ़्रेंक नोबल, डीएफओ आलोक पाठक, एडीएम हरेन्द्र नारायण सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। बैठक में बताया गया कि एनजीटी द्वारा जारी निर्देश में ग्रीन बेल्ट एरिया में सर्वाधिक अतिक्रमण लोकेशन अयोध्या नगर बायपास रोड पर स्थित हैं, इसके साथ नीलबड़ से मुग़लिया छाप,पटेल नगर बायपास से 11 मील रोड, करौंद बायपास रोड भानपुरा चौराहा से आशाराम बापू चौराहा पर बड़ी संख्या में अतिक्रमण है। कलेक्टर ने कहा कि अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही को संबंधित विभाग कोऑर्डिनेट करें।
कमर्शियल निर्माण में पार्किंग नहीं, तो कार्रवाई
कलेक्टर ने नगरनिगम को निर्देशित किया है कि पिछले पाँच वर्षों में उनके द्वारा कमर्शियल निर्माण की जितनी अनुमति दी गई है एवं भविष्य में दी जानी है उनमें पार्किंग व्यवस्था का निरीक्षण करवायें। और यह सुनिश्चित किया जाए कि पार्किंग स्पेस पार्किंग के लिए ही उपयोग हो, साथ ही यह भी देखा जाए कि सभी कमर्शियल निर्माण में पार्किंग प्रोविजन अनिवार्य है इसी के बाद अनुमति दी जाये। उल्लंघन करने वालों पर नियमानुसार कार्यवाही की जाए।
शहर में बनी डेयरियां नहीं हटीं तो तोड़ेंगे
जिला प्रशासन ने शहर के अंदर चिन्हित की गई 578 डेयरियों को भी शहर के बाहर करने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए निगम ने 6 स्थान चिन्हित किए हैं। कलेक्टर ने कहा कि इन स्थानों पर तय की गई राशि जमा कर डेयरी संचालक प्लॉट आवंटित कराएं और वहीं अपनी डेयरी का संचालन करें। नगर निगम डेयरियों को शिफ्ट करने के लिए एक माह का नोटिस दे रहा है। यदि इसके बाद डेयरी संचालन पाया गया तो अतिक्रमण मानकर तोडऩे की कार्रवाई की जाएगी। शहर के अंदर डेयरियों का संचालन अवैध है।
ग्रीनबेल्ट के कब्जे हटाने के लिए संबंधित एसडीएम के साथ नगर निगम और अन्य विभागों की टीमें बनाई जा रही हैं। यह एनजीटी द्वारा आदेशित 692 स्थानों से अतिक्रमण हटाने का काम करेंगी। डेयरियों को भी एक माह समय दिया है। इसके बाद कार्रवाई होगी।
- आशीष, कलेक्टर भोपाल

ट्रेंडिंग वीडियो