कोरोना के आधे संक्रमित होम आइसोलेट, 90 फीसदी बेड खाली

निगेटिव रिपोर्ट बढ़ने से अब अस्पतालों में न ऑक्सीजन की समस्या न बेड की किल्लत

By: Pawan Tiwari

Published: 16 Oct 2020, 11:26 AM IST

भोपाल. प्रदेश में कोरोना संदिग्धों की रिपोर्ट 80-90 फीसदी तक निगेटिव आने से अब अस्पतालों में ऑक्सीजन और बेड की समस्या खत्म हो गई है। हालत यह है बिना ऑक्सीजन वाले 90 फीसदी बेड खाली हैं। दरअसल, पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद 50 फीसदी से अधिक संक्रमित अब घर में ही आइसोलेट हो रहे हैं। क्रिटिकल केसों का अनुपात भी घटकर दो प्रतिशत पर आ गया है, जो पहले बीस फीसदी के आसपास था।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का मानना है कि लोगों में इम्यूनिटी डेवलप होने से कोरोना संक्रमण का प्रभाव धीरे-धीरे कम हो रहा है। इसके अलावा लोगों ने इन परिस्थितियों को देखते हुए अपने काम-काज में भी बदलाव किया है। इसके अलावा इस संक्रमण के प्रति सतर्कता भी आई है। इसके नियंत्रण में मास्क, सैनेटाइजर, सोशल डिस्टेंसिंग, साबुन से हाथ धोना जैसे अन्य उपाय कारगर हुए हैं। छोटे जिलों में बहुत तेजी से रिकवरी रेट बढ़ा है और संक्रमण की गति नियंत्रित होने के साथ इसमें कमी भी आई है।

70 फीसदी आइसीयू खाली
कोरोना इलाज के लिए जिला अस्पतालों सहित अन्य अस्पतालों में तय किए गए आइसीयू वार्डों में 70 फीसदी बेड खाली हैं। बता दें कि कुछ समय पहले गंभीर मरीजों के लिए बेड खाली कराना मुश्किल काम था। हालांकि इसके पीछे करोना संक्रमण कम होने के साथ ही सरकारी सुवधिाओं में इजाफा भी बड़ा कारण है। अधिकांश जिलों में 10-15 फीसदी ही इस समय आइसीयू में मरीज हैं। वहीं ऑक्सीजन की आवश्यकता वाले 9 फीसदी से कम मरीज हैं।

आधे से कम हुई पॉजिटिव रिपोर्ट
प्रदेश में दो-तीन माह पहले जहां हर दिन 2 से 3 हजार के आस-पास नए केस मिलते थे, वहीं अब इसकी संख्या 1400 से भी नीचे आ गई है। साढ़े 24 हजार सैंपल हर दिन लिए जाते हैं, लेकिन इनमें ज्यादातर निगेटिव ही आते हैं। इसके अलावा संदिग्ध संक्रमितों की संख्या में भी कमी आई है। सर्दी, खांसी, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, बुखार की शिकायतें भी कम आ रही हंै, इसके चलते सैंपलों की संख्या में कमी आई है।

प्रदेश में कुल सामान्य बेड- 25 हजार से अधिक
प्रदेश में कुल ऑक्सीजन वाले बेड- 8000 से अधिक
प्रदेश में कुल आईसीयू वाले बेड- 1100 से अधिक

coronavirus
Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned