दो हजार बिस्तरों का मेडिकल कॉलेज बना रहे लेकिन मर्चुरी के लिए कोई प्लान नहीं

दो हजार बिस्तरों का मेडिकल कॉलेज बना रहे लेकिन मर्चुरी के लिए कोई प्लान नहीं

Ram kailash napit | Publish: Dec, 31 2018 03:03:03 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

मर्चुरी में जगह कम होने के चलते अक्सर होती है दिक्कतें

भोपाल. सुभाष नगर निवासी रोशनलाल के पिता की शनिवार रात हमीदिया अस्पताल में मौत हो गई। रात में मृत शरीर को घर ले जाने की बजाय हमीदिया अस्पताल की मर्चुरी में रखने का फैसला किया। डॉक्टर से मंजूरी लेकर परिजन शव को लेकर मर्चुरी पहुंचे तो गार्ड ने अंदर जगह नहीं होने की बात कहकर शव को बाहर जमीन पर रखने को कह दिया। परिजनों ने शव को मर्चुरी में रखने की जिद की तो गार्ड से विवाद हो गया। अतत: परिजनों ने शव को घर ले जाने का फैसला किया।
यूं तो यह विवाद बड़ा नहीं था, लेकिन इस छोटे से विवाद का असल कारण बहुत गंभीर है। यही नहीं आने वाले समय में यह समस्या और भी विकराल हो जाएगी। दरअसल हमीदिया अस्पताल की मर्चुरी में शवों को रखने की पर्याप्त जगह ही नहीं है। बड़ी बात यह है कि गांधी मेडिकल कॉलेज का विस्तार किया जा रहा है। 2000 बिस्तरों का नया अस्पताल तैयार किया जा रहा है, लेकिन इसमें मर्चुरी के लिए कोई प्लान ही नहीं है। विशेषज्ञों का मानना है जब यह अस्पताल शुरू होगा तो मर्चुरी की समस्या और बढ़ जाएगी।

शाम को बढ़ जाती है दिक्कत
शाम पांच बजे मर्चुरी बंद हो जाती है। ऐसे में शाम को आने वाले शव अक्सर लावारिस हालत में पड़े रहते हैं। मेडिको लीगल डिपार्टमेंट का तर्क है कि गांधी मेडिकल कॉलेज को प्रबंधन को फ्र ीजर खरीदकर देना चाहिए। जिससे शव को सुरक्षित रखा जा सके।

 

सिर्फ दो फ्रीजर के भरोसे मर्चुरी
मर्चुरी में शहर और आसपास से हर रोज 15 से 17 शव पोस्टमार्टम के लिए आते हैं। मर्चुरी में दो फ्रीजर हैं, जिनमें आठ शव रखे जा सकते हैं। दोनों मेडिको लीगल डिपार्टमेंट (गृह विभाग) के हैं। इन फ्रीजर में ऐसे शवों को रखा जाता है जिनका पोस्टमार्टम हो चुका हो। अगर इसके बाद भी जगह बचती है तो उन शवों को रखा जाता है, जिनका पोस्टमार्टम होना हो।

 

दूसरे अस्पतालों में पीएम नहीं होने से ज्यादा दिक्कत
राजधानी के जिला अस्पताल, गैस राहत व अन्य अस्पतालों में मर्चुरी नहीं है। किसी भी अस्पताल में पोस्ट मार्टम की व्यवस्था नहीं होने से हमीदिया के मर्चुरी में शवों की संख्या ज्यादा हो जाती है। इस वजह से रखने में दिक्कत होती है।

 

यह हो चुके हैं विवाद
दिसंबर 2016 पहले मर्चुरी में जगह नहीं होने पर एक महिला के शव को बाहर ही छोड़ दिया। यहां चूहे ने शव की आंख कुतर ली थी। इस घटना के बाद मुख्यमंत्री ने जांच करते हुए अस्पताल अधीक्षक और कॉलेज डीन को निलंबित कर दिया।
- अगस्त 2018 पोस्टमार्टम क लिए आए एक महिला के शव को मर्चुरी में रखा गया था। यहां चूहे ने उनके पैर के अंगूठे को कुतर लिया था। इसको लेकर खासा विवाद हुआ था।
- सिंतबर 2017 शाम के समय पोस्टमार्टम के लिए आने के बाद शव बाहर ही पटक दिया गया। सुबह परिजनों ने जब शव को बाहर पड़ा देखा तो जमकर विवाद हुआ। पुलिस के बीच बचाव के बाद बमुश्किल बचाव किया गया।

कुछ आंकड़े
02 फ्र ीजर मर्चुरी में
08 शवों को रखने की है व्यवस्था
15 से 17 शव आते हैं हर रोज
2000 मरीज आते हैं अस्पताल में
5 से 7 मरीजों का रोज होती है मौत

गृह विभाग की ओर से दो फ्र ीजर दिए गए हैं। पांच बजे के बाद हमीदिया में जो मौते होती हैं, उनकी बॉडी रखने के लिए कॉलेज प्रबंधन को व्यवस्था करनी चाहिए। नई मर्चुरी के लिए शासन को पत्र लिखा है।
डॉ. अशोक शर्मा, डायरेक्टर मेडिको लीगल इंस्टीट्यूट

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned