लकवा पीड़ित मरीज तरस रहा इलाज को, मुख्यमंत्री के ऑपरेशन में था हमीदिया अस्पताल बेस्ट

लकवा पीड़ित मरीज तरस रहा इलाज को, मुख्यमंत्री के ऑपरेशन में था हमीदिया अस्पताल बेस्ट

KRISHNAKANT SHUKLA | Updated: 21 Jul 2019, 08:33:34 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

hamidia hospital : जिम्मेदारों को दर्द नहीं होता... हमीदिया अस्पताल में लकवा पीडि़त मरीज तरस रहा इलाज को

भोपाल. हमीदिया अस्पताल ( hamidia hospital ) में कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री का ऑपरेशन हुआ था, तब व्यवस्थाएं दुरुस्त होने का दावा किया गया था। हकीकत में आम मरीजों को इलाज के लिए भटकना पड़ता है। न स्ट्रेचर मिलता है ना व्हील चेयर। धकाना भी परिजनों को पड़ता है। दवाएं भी बाहर से लानी पड़ती हैं।

शनिवार को हमीदिया में उस समय विवाद की स्थिति बन गई जब मरीज के परिजन ने डॉक्टर को अपनी परेशानी बताई। दरअसल, जहांगीराबाद निवासी इंद्रा यादव के पति रज्जाक लकवा पीडि़त हैं। वे पांच दिन से हमीदिया में भर्ती हैं।

 

MUST READ : BRTS कॉरिडोर में घुसने पर देना पड़ेगा जुर्माना, कलेक्टर ने जारी किया आदेश

इंद्रा का कहना है कि डॉक्टर इलाज की जगह जांच में ही समय बर्बाद कर रहे हैं। शनिवार सुबह जूनियर डॉक्टर ने सीटी स्कैन कराने को कहा, तो उसने बताया कि वार्ड ब्यॉय नहीं है। छह दिन से स्ट्रेचर धका रही हूं, पैरों में सूजन आ गई है।

यह जूनियर डॉक्टर ने कहा-इलाज चाहिए तो करना ही पड़ेगा, आप क्या चाहती हैं कि मैं स्ट्रेचर धकाऊं। इसके बाद जूनियर डॉक्टर ने मरीज को वार्ड से बाहर कर दिया।

पर्ची गुम हुई तो खाना नहीं दिया

पांच दिन में मरीज को एक दिन भी खाना नहीं दिया। इंद्रा का कहना है कि मरीजों को खाना देने के लिए भर्ती पर्ची लगती है। पर्ची अस्पताल के स्टाफ ने गुमा दी। हमें खाना नहीं दिया जा रहा। विरोध किया तो कहा भर्ती पर्ची दोबारा बनवा लो, पर ऑपरेटर ने पर्ची बनाने से मना कर दिया।

आठ घंटे बाद मिला इलाज

रज्जाक को 14 जुलाई को पैरालिसिस अटैक आया। दोपहर 3 बजे हमीदिया लाए। एक घंटे बाद इमरजेंसी में डॉक्टर आए, पर इलाज नहीं किया। बार-बार बोलने के बावजूद किसी ने नहीं देखा। आठ घंटे बाद रात नौ बजे डॉक्टर आए और मेडिकल वार्ड तीन में रैफर कर दिया। वहां भी रज्जाक को रातभर स्ट्रेचर पर ही रखा गया।

 

MUST READ : डायबिटीज ब्लड शुगर से परेशान हैं तो यहाँ चेक करें उनसे बचने के उपाय

हटा दिया बेड से

इंद्रा ने बताया कि रज्जाक को पांच दिन में चार बार बिना बताए ही वार्ड से बाहर कर दिया। पहले रज्जाक को यूनिट दो के बेड से हटा दिया। हमने विरोध किया तो डॉक्टर ने यूनिट तीन में रैफर कर दिया। यहां भी बेड नहीं थे, तो रात भर स्ट्रेचर पर ही रहना पड़ा। बाद में मेडिकल एक में भर्ती कर वहां से भी भगा दिया गया।

अस्पताल स्टाफ द्वारा गड़बड़ी की गई तो कार्रवाई की जाएगी। हम मरीजों की बेहतर देखभाल के लिए काम कर रहे हैं। - डॉ. एके श्रीवास्तव, अधीक्षक, हमीदिया अस्पताल

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned