इन अफसरों से अच्छे तो अंग्रेज थे, यहां तो सवाल पूछना भी गुनाह

पत्र के बाद सागर के मेडिकल टीचर डॉ. सर्वेश जैन का वीडियो वायरल
वीडियो में कहा ऐसा तो नॉर्थ कोरिया या अफगानिस्तान में ही होता है

भोपाल। चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों के रवैये से नाराज सागर मेडिकल कॉलेज के चिकित्सक डॉ. सर्वेश जैन का वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में वे वल्लभ भवन के अधिकारियों की तुलना अंग्रेजों से कर रहे हैं। साथ ही कह रहे हैं कि वे भी अपनी सोच के अनुसार देश चलाते थे। इन अफसरों से तो अंग्रेज अच्छे थे। मालूम हो कि एक दिन पहले डॉ.़ जैन द्वारा प्रोग्रेसिव मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन को एक पत्र लिखा था। जिसमें कहा गया था कि वल्लभ भवन के अधिकारी पत्नियों से लड़कर दफ्तर आते हैं जिससे उन्हें कब्जियत हो जाती है। साथ ही उन्हें पेट साफ करने की दवा देने का अनुरोध भी किया था।
वीडियो में डॉ जैन ने कहा कि सरकारी कमीशन ने 2016 में सभी को सातवां वेतनमान देने की बात की। लेकिन कुछ साहब लोगों ने कहा कि 'नहीं मेडिकल एजुकेशन को नहीं मिलना चाहिएÓ, हमने वजह पूछी तो साहब लोगों ने कहा कि 'यह मेरी इच्छा है, मेडिकल एजुकेशन को नहीं मिलना चाहिए। साहब के फैंसी स्पेस से ही देश चल रहा है, इससे तो अच्छे अंग्रेज थे। वे अच्छे प्रशासक थे उनकी भी इच्छाओं पर ही देश चलता था। इन साहब लोगों के सामने तार्किक बात करो तो कहा जाता है कि कुत्तों को भौंकने की आजादी जितनी इंडिया में है उतनी कहीं नहीं।

हम सिर्फ इतना पूछना चाहते हैं साहब यह बता दें कि सातवां वेतनमान क्यों नहीं दिया गया। साथ ही यह भी बता दें कि सवाल पूछने की आजादी क्यों नहीं है। हम नॉर्थ कोरिया या अफगानिस्तान में तो नहीं है, क्योंकि ऐसा तो वहीं होता है। उल्लेखनीय है कि डॉ जैन ने मंगलवार को भी कहा था वल्लभ भवन के अधिकारी पत्नियों से लडकर आते हैं। इनकी कब्जियत का इलाज होना चाहिए।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned