scriptमहिलाओं को ‘हार्ट अटैक’ से बचाते ‘पीरियड’ में रिलीज होने वाले हॉर्मोंन…. कार्डियोलॉजिस्ट ने बताया | Heart attack in women: Why do women not get more heart attacks...cardiologist told the reason | Patrika News
भोपाल

महिलाओं को ‘हार्ट अटैक’ से बचाते ‘पीरियड’ में रिलीज होने वाले हॉर्मोंन…. कार्डियोलॉजिस्ट ने बताया

Heart attack in women: जीवन शैली में बदलाव और महिलाओं द्वारा पीरियड को कम अवधि का करने के लिए दवाएं लेने से शरीर में हार्मोन का स्तर बिगड़ रहा है। यह भी महिलाओं में हार्ट अटैक का बड़ा कारण है।

भोपालJun 16, 2024 / 03:06 pm

Ashtha Awasthi

Heart attack in women

Heart attack in women

Heart attack in women: पांच साल में महिलाओं में हार्ट अटैक के मामलों में 10 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। पहले जहां हार्ट अटैक के 10 केस में से तीन महिलाएं होती थीं। वहीं अब उनकी संया 4 से 5 तक हो गई है। अमूमन, चेस्ट पेन हार्ट अटैक का सबसे प्रमुख लक्षण है। यह महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में ज्यादा देखने को आता है। लेकिन अब ये लक्षण महिलाओं में भी दिख रहे हैं। यह निष्कर्ष भोपाल में आयोजित पिंक हार्ट कॉन्फ्रेंस में निकलकर आए।
ऑर्गनाइजिंग सेक्रेटरी डॉ. सुब्रतो मंडल ने बताया कि महिलाओं के दिल के रोगों के प्रति जागरूक करने आयोजित कॉन्फ्रेंस में देशभर के करीब तीन सौ ह्रदय रोग विशेषज्ञों ने भाग लिया।

हर्मोन का स्तर बिगड़ा

दिल्ली की एक कार्डियोलॉजिस्ट ने बताया, महिलाओं में पीरियड के दौरान रिलीज होने वाले हार्मोन से हार्ट अटैक से बचाव होता है। अब जीवन शैली में बदलाव और महिलाओं द्वारा पीरियड को कम अवधि का करने के लिए दवाएं लेने से शरीर में हार्मोन का स्तर बिगड़ रहा है। यह भी महिलाओं में हार्ट अटैक का बड़ा कारण है।
डॉ. ज्योत्सना मद्दुरी ने बताया, नशीले पदार्थों के सेवन से महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान बीपी-शुगर जैसे मामले बढ़ रहे हैं। बार-बार एबॉर्शन आदि से हार्ट अटैक के मामले बढ़ रहे हैं। डॉ. कविता त्यागी के अनुसार, पाम ऑयल का सेवन और नशे के सेवन से दूर रहें तो महिलाओं में हार्ट अटैक समस्या कम होगी।

डॉ. कविता त्यागी- कार्डियोलॉजिस्ट, दिल्ली

साल की आयु के बाद बीपी व मधुमेह की जांच कराएं। पाम ऑयल में फ्राइड जंक फूड खाने से बचें। क्योंकि ब्रांडेड चिप्स व कुरकुरे इसी तेल में फ्राई होते हैं। जिन महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान बीपी और मधुमेह की समस्या वे हेल्थ चेकअप कराते रहें। नशे और सिगरेट से दूर रहें। तनाव लेने से भी बचें। सबसे बड़ी बात है प्रतिर्स्पधा के दौर में पहले सेहत का ख्याल रखें।

डॉ. हेतन शाह- कार्डियोलॉजिस्ट, मुंबई

च साल में महिलाओं ने कॉरपोरेट कल्चर में अपनी मजबूत जगह बनायी है। लेकिन इसी साथ अपने स्वास्थ्य को भी खराब काम किया है। फिजिकल एक्टिविटी और स्वस्थ भोजन से दूर हुई हैं। स्ट्रेस का स्तर भी बढ़ा है। इसलिए वे भी हाइपर जोन में है। महिलाओं में भी अब बीपी और हार्ट रेट जरा-जरा सी बातों में बढ़ जाता है। यह हार्ट अटैक का कारण बनता है।

Hindi News/ Bhopal / महिलाओं को ‘हार्ट अटैक’ से बचाते ‘पीरियड’ में रिलीज होने वाले हॉर्मोंन…. कार्डियोलॉजिस्ट ने बताया

ट्रेंडिंग वीडियो