Heavy Rain Alert: बढ़ रही हैं चक्रवातीय गतिविधियां, फिर से धूप-छांव के बाद इन 13 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट

भोपाल, इंदौर सहित अधिकांश जिलों में बारिश के आसार....

By: Ashtha Awasthi

Published: 07 Sep 2021, 07:40 PM IST

भोपाल। दिनभर लगातार तेज धूप और उमस के बाद मंगलवार को राजधानी में कई जगह बारिश हुई। बता दें कि बीते दिन शहर में सीजन का पहला कोहरा पड़ा। मौसम विभाग का कहना है कि बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र अब गहरे कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो गया है। मानसून ट्रफ भी इंदौर-भोपाल से होकर गुजर रहा है। महाराष्ट्र पर पूर्वी-पश्चिमी हवाओं का टकराव (शियरजोन) बना हुआ है।

कच्छ एवं राजस्थान पर हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बने हुए हैं। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक मंगलवार-बुधवार को इंदौर, उज्जैन, भोपाल, होशंगाबाद, जबलपुर, सागर, ग्वालियर, चंबल संभागों के जिलों में बारिश के आसार हैं। विशेषकर इंदौर, उज्जैन संभागों के जिलों में कहीं-कहीं भारी वर्षा भी हो सकती है।

photo1631019538.jpeg

बन रहे हैं कई सारे सिस्टम

पिछले 24 घंटों के दौरान मंगलवार सुबह साढ़े आठ बजे तक खरगोन में 28.6, मलाजखंड में 14.5, जबलपुर में 19.4, रतलाम में 12, सीधी में 11.6, धार में 7.6, खंडवा में सात, इंदौर में 3.8, पचमढ़ी में तीन, सिवनी में 1.4, ग्वालियर, सागर में एक, भोपाल 0.2 मिलीमीटर बारिश हुई। वर्तमान में सिस्टम उत्तरी आंध्रा और दक्षिणी ओडिशा कोस्ट पर सक्रिय है। इस सिस्टम के उत्तर-पश्चिमी दिशा में आगे बढ़ने की संभावना है

पांच वेदर सिस्टम के सक्रिय रहने के कारण प्रदेश के अलग-अलग जिलों में बौछारें पड़ने का सिलसिला बना हुआ है। शुक्ला के मुताबिक मंगलवार-बुधवार को इंदौर संभागों के जिलों में कहीं-कहीं भारी वर्षा भी हो सकती है। इसके अतिरिक्त भोपाल सहित अधिकांश जिलों में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं।

बता दें कि प्रदेश में कई इलाके रेड जोन यानी सूखे की चपेट में आ गए हैं। प्रदेश में अब तक करीब 33 इंच बारिश होना चाहिए था, लेकिन तीन इंच कम यानी करीब 30 इंच ही पानी गिरा है। यही कारण है कि इसका सबसे ज्यादा असर मालवा-निमाण, बुंदेलखंड और जबलपुर के इलाकों पर पड़ा है।

Weather forecast
Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned