डॉक्टर ने हमीदिया से मरीज की छुट्टी कराकर निजी अस्पताल में भर्ती कराया आयोग ने थमाया नोटिस

जीएमसी डीन से मांगा आयोग ने जवाब

भोपाल/ एक मरीज के परिजनों की शिकायत के आधार पर मानव अधिकार आयोग ने गांधी मेडिकल कॉलेज डीन और हमीदिया अस्पताल प्रशासन को नोटिस भेजा है। आयोग ने यह कार्रवाई परिजनों द्वारा अस्पताल के कॉर्डियो सर्जन डॉ. प्रवीण शर्मा पर लगाए आरोपों के बाद की है।

परिजनों का कहना है कि डॉ. शर्मा ने उनके मरीज को हमीदिया से छुट्टी देकर निजी अस्पताल में भर्ती कराया था। यहां आयुष्मान योजना के तहत मरीज का हार्ट का आपरेशन किया। ऑपरेशन सफ ल नहीं हुआ और मरीज की मौत हो गई। इस मामले की शिकायत मरीज के परिजनों ने मानवाधिकार आयोग में की है। संज्ञान लेते हुए गांधी मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. टीएन दुबे को नोटिस भेजा है। उनके इस मामले में जल्द जवाब मांगा गया है।

इनका कहना

हम मामले की जांच कराएंगे, अगर किसी ने गलती की है तो नियमानुसार कार्रवाई भी की जाएगी। - डॉ. टीएन दुबे, डीन जीएमसी

पीडब्ल्यूसी के अधिकारी को थमाया नोटिस

इधर, आर्थिक अपराध अन्वेषण प्रकोष्ट (ईओडब्ल्यू) ने 300 करोड़ रुपए के स्मार्ट सिटी के टेंडरों के मामले में प्राइस वॉटर हाउस कूपर्स (पीडब्ल्यूसी) कंपनी के वरिष्ठ पदाधिकारी अमित शर्मा को नोटिस थमाकर मंगलवार को बयान देने के लिए बुलाया है। गौरतलब है कि ईओडब्ल्यू ने पिछले महीने नगरीय प्रशासन एवं आवास विभाग मप्र के तत्कालीन आयुक्त और बाद में प्रमुख सचिव रहे एवं वर्तमान में केंद्र सरकार में प्रतिनियुक्त पर पदस्थ आईएएस अधिकारी विवेक अग्रवाल के खिलाफ शिकायत पंजीबद्ध कर जांच शुरू की है।

आरोप है कि उन्होंने प्राइस वॉटर हाउस कूपर्स (पीडब्ल्यूसी) की सहयोगी कंपनी हेवलेट पैकर्ड इंटरप्राइजेस (एचपीई) को मप्र के 7 स्मार्ट सिटी के लिए क्लाउड बेस्ड कॉमन इंटीग्रेटेड डाटा एंड डिजास्टर रिकवरी सेंटर एंड इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (आईसीसीसी) का 300 करोड़ रुपए का टेंडर देकर बेजा फायदा पहुंचाया। इस मामले में पीडब्ल्यूसी के वरिष्ठ अधिकारी अमित शर्मा को नोटिस देकर वस्तु स्थिति का स्पष्ट करने और कंपनी की तरफ से बयान दर्ज करने के लिए बुलाया गया है।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned