scriptIf you are going to buy ayurveda diet then know these things... becaus | आयुर्वेद आहार खरीदने जा रहे हैं तो जान लें ये बातें...क्योंकि | Patrika News

आयुर्वेद आहार खरीदने जा रहे हैं तो जान लें ये बातें...क्योंकि

- आयुर्वेद आहार के नाम पर बाजार में बिक रहे फूड सप्लीमेंट आए जांच के दायरे में

- व्यापारी को खाद्य सुरक्षा विभाग से लेना होगा लाइसेंस, एफएसएसएआई ने जारी की आयुर्वेद आहार के मानकों की सूची
- राजपत्र जारी होने के बाद अब कारोबारियों को अलग से लोगो का उपयोग भी करना होगा, कोरोना के बाद तेजी बढ़ा बाजार

भोपाल

Published: May 08, 2022 08:29:58 pm

भोपाल. कोरोना के बाद हुए बदलावों में इम्यूनिटी शब्द आम लोगों के जीवन में एक नया जुड़ गया है। इसकी तलाश में लोग दिन भर बाजार और ऑनलाइन खाद्य पदार्थों को सर्च कर मंगवा भी रहे हैं। ऐसे में ऑनलाइन और ऑफलाइन बाजार काफी फल फूल रहा है। कुछ लोगों ने इसमें आयुर्वेद आहार का मिश्रण और कर दिया है। भारत की पहचान आयुर्वेद से मानी जाती है, ऐसे में लोग आंख बंद कर इनके उत्पादों को ऑनलाइन और ऑफलाइन बेच रहे हैं। हर तरीके के फूड सप्लीमेंट बाजार में आ चुके हैं। हैरानी की बात ये कि आयुर्वेद के नाम से क्या बिक रहा है, इसके बारे में किसी को जानकारी नहीं है। लेकिन इसकी मप्र सहित देश भर में फैल चुकी है। एफएसएसएआई (भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक आयोग) ने 6 मई 2022 को इसे जांच के दायरे में ले लिया है। इस संबंध में भारत सरकार का एक राजपत्र भी जारी हुआ है। जिसमें बताया गया है कि आयुर्वेद आहर के नाम से खाद्य सामग्री या अन्य पदार्थ बनाने वालों को अब खाद्य सुरक्षा विभाग से इसका लाइसेंस लेना होगा। विभाग ऐसे उत्पादों की सैंपलिंक भी कर सकेगा। इसकी एक पूरी सूची उन्होंने दी है कि ये पदार्थ अगर उसमें शामिल हैं, तो वह खाद्य सुरक्षा के राडार पर है। राजपत्र सामने आने के बाद भोपाल के खाद्य सुरक्षा अधिकारियों ने इस संबंध में निर्देश जारी कर कारोबारियों को लाइसेंस लेने कहा है। विभाग खुद भी इस प्रकार के डिपार्टमेंटल स्टोर या बड़े स्टोरों में जाकर ऐसे खाद्य पदार्थों की जांच करेगा। वरिष्ठ खाद्य सुरक्षा अधिकारी देवेंद्र वर्मा का कहना है कि राजपत्र में दी गई जानकारी के आधार पर अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। वे इस संबंध में जांच करेंगे।
आयुर्वेद आहार खरीदने जा रहे हैं तो जान लें ये बातें...क्योंकि
आयुर्वेद आहार खरीदने जा रहे हैं तो जान लें ये बातें...क्योंकि
ये खाद्य सामग्री शामिल होने पर आएंगे दायरे में
ग्वार, अरैबिक बबूल, ट्रैका कैंथ गोंद, ग्वार गोंद, पेक्टिन, कराया गोंद, कोंजेक फ्लोर, मांड, शहद, गुड़, खजूर, खजूर का सीरप, खंडसारी, करम्यूनिक, हल्दी, पापरिक, पापरिक सत्त, पापरिक ओलियो रेजन, एन्नाटो सत्त, क्लोरोफिल ए, क्लोरोफिल बी, कैरामल सादा, किसी रंगन सब्जी और फल का सांद्र व जल सत्त। पिसे मसाले, गुलाब का तेल, केवड़ा, रोजमेरी तेलनींबू का सत्त, आटा, दलिया, रवा, मसालों के आसुत तेल। सिट्रिक व टारएरिक एसिड व अन्य को शामिल किया गया है। इनका मिश्रण होने से ही ये खाद्य पदार्थ जांच के दायरे में आ जाएंगे। ये कितने प्रतिशत में होंगे इसका पूरा विवरण भी दिया है।
71 तरक की प्रमाणित पुस्तकों के फार्मूले से बाहर न हो निर्माण
आयुर्वेद आहार बनाने वालों के लिए देश भर में प्रचलित 71 तरह की प्रमाणित पुस्तकों में बताए गए फार्मूले और उनकी विधि का उपयोग कर ही कोई सामग्री बना सकते हैं। इसमें चरकसंहिता जैसी पुस्तकें शामिल हैं। ये नुस्खे 1940 से पहले के लिखे मान्य किए गए हैं। इन प्रमाणित पुस्तकों के परिशिष्ट अथवा अनुबंध में शामिल संगटकों और नुस्खों पर आयुर्वेद आहार के रूप में विचार नहीं किया जाएगा।
बिना लोगो नहीं बिकेगा आयुर्वेद आहार
एफएसएसएआई ने इनकी बिक्री के लिए लोगो भी बताए हैं। लाइसेंस लेने के बाद वे इन लोगों को लगाने और उत्पाद को बाजार में बेचने की स्थिति में आ जाएंगे। राजपत्र जारी होने के बाद बिना लोगो के कोई भी इस काम को नहीं करेगा।
वर्जन
आयुर्वेइ आहार के संबंध में अब लाइसेंस लेना होगा। बिना इसके कोई भी कंपनी या संचालक आयुर्वेद आहार नहीं बेच सकेंगे। इसमें भी उत्पाद का लोगो लगाना होगा। हम इस संबंध में जल्द ही कुछ डिपार्टमेंटल स्टोर में जांच करेंगे।
देवेंद्र दुबे, मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी, भोपाल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान में 26 से फिर होगी झमाझम बारिश, यहां बरसेगी मेहरबुध ने रोहिणी नक्षत्र में किया प्रवेश, 4 राशि वालों के लिए धन और उन्नति मिलने के बने योगबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीबेहद शार्प माइंड के होते हैं इन राशियों के बच्चे, सीखने की होती है अद्भुत क्षमतानोएडा में पूर्व IPS के घर इनकम टैक्स की छापेमारी, बेसमेंट में मिले 600 लॉकर से इतनी रकम बरामदझगड़ते हुए नहर पर पहुंचा परिवार, पहले पिता और उसके बाद बेटा नहर में कूदा3 हजार करोड़ रुपए से जबलपुर बनेगा महानगर, ये हो रही तैयारी

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिंदे खेमे में आ चुके हैं सरकार बनाने भर के विधायक! फिर क्यों बीजेपी नहीं खोल रही अपने पत्ते?Maharashtra Political Crisis: ‘मातोश्री’ में मंथन! सड़क पर शिवसैनिकों के उपद्रव का डर, हाई अलर्ट पर मुंबई समेत राज्य के सभी पुलिस थानेMaharashtra Political Crisis: 24 घंटे के अंदर ही अपने बयान से पलट गए एकनाथ शिंदे, बोले- हमारे संपर्क में नहीं है कोई नेशनल पार्टीBharat NCAP: कार में यात्रियों की सेफ़्टी को लेकर नितिन गडकरी ने कर दिया ये बड़ा काम, जानिए क्या होगा इससे फायदा2-3 जुलाई को हैदराबाद में BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, पास वालों को ही मिलेगी इंट्री, सुरक्षा के कड़े इंतजामMumbai News Live Updates: शिवसेना ने कल पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़ेंगे उद्धव ठाकरेनीति आयोग के नए CEO होंगे परमेश्वरन अय्यर, 30 जून को अमिताभ कांत का खत्म हो रहा है कार्यकालCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.