अगर आपने घर में पाल रहे हैं पशु-पक्षी तो जरुर कराएं ये 1 काम, नहीं तो हो सकती है जेल

MP में 400 से ज्यादा लोगों के पास हैं विदेशी वन्यप्राणी....

By: Ashtha Awasthi

Published: 13 Oct 2021, 02:07 PM IST

अशोक गौतम/भोपाल। अब अफ्रीकन कछुआ, पॉकेट मंकी, मकाऊ तोता और सुल्काटा जैसे विदेशी वन्यप्राणी या जलीय जीवों को चोरी छिपे पालने, रखने और तस्करी करने पर सजा होगी। केन्द्रीय वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय इसके लिए वन्यप्राणी सुरक्षा अधिनियमों में संशोधन करने जा रहा है। ड्राफ्ट भी तैयार हो गया है। इसमें मध्यप्रदेश सहित सभी राज्यों से "अधिनियम के संबंध में सुझाव मांगे गए हैं।

यह संशोधन देश में विदेशी वन्यजीवों की बढ़ती तस्करी को लेकर किया जा रहा है। हालांकि मंत्रालय ने लोगों को सुविधा देते हुए कहा है कि यदि उनके पास विदेशी वन्यप्राणी अथवा पक्षी सहित अन्य जीव है तो वे पंजीयन कराएं। इसमें मध्यप्रदेश के करीब 432 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया। है। इसमें से 21 के आवेदन निरस्त कर दिए गए हैं।

क्यों हो रहा संशोधन

मध्यप्रदेश में सिंगापुर, कनाडा, अफ्रीका सहित कई देशों से जीवों की तस्करी कर यहां उन्हें लाखों रुपए में बेचा जाता है। इसमें चमड़ा और मांस भी शामिल है। चूंकि वन्यप्राणी सुरक्षा अधिनियमों में विदेशी जीवों की सुरक्षा अथवा उन्हें पालने को लेकर प्रावधान नहीं है, इसके चलते विदेशी जीवों, पक्षियों की तस्करी करने वाले सजा से बच जाते हैं। ऐसे मामले आने पर वन विभाग इसे कस्टम के हवाले कर देता है। तस्कर कस्टम में भारी दंड राशि देकर अपने आप को बचा लेते थे।

रुकेगी वन्यजीवों की तस्करी

संशोधन के बाद जैसे ही कोई विदेशी वन्यजीव अपने पास बिना रजिस्ट्रेशन के रखेगा, वैसे ही उस पर अपराध दर्ज हो जाएगा। अगर वह रजिस्ट्रेशन कराता है तो उसे उसके संबंध में सूचना देनी होगी।

Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned