अशोका विहार में निगम की कार्रवाई: आवासीय अनुमति लेकर निकाल ली आठ दुकानें, निगम अमले ने तोड़ा अवैध निर्माण

- 2000 वर्गफीट प्लॉट पर चार मंजिल भवन बना दिया, नियमानुसार सामने और आसपास नहीं छोड़ी जगह
- निगम इंजीनियरों, कर्मचारियों से झूमाझटकी हुई, अतिरिक्त पुलिस फोर्स बुलाई तो हुई कार्रवाई



भोपाल। नगर निगम की भवन अनुज्ञा शाखा ने अशोका विहार में अनुमति से विपरित निर्माण कर बनाए भवन के अवैध हिस्से को तोड़ा। जफरखान को यहां 2000 वर्गफीट के प्लॉट पर तीन गुना तक निर्माण कर लिया था। अनुमति में भवन के सामने और आसपास स्थान छोडऩे की शर्त भी नहीं मानी। इतना ही नहीं, आवासीय अनुमति लेकर निर्मित किए जा रहे भवन में आठ दुकानें निकाल ली गई थी। निगम का अमला जब मंगलवार को कार्रवाई के लिए पहुंचा तो भवन मालिक व सहयोगी कार्रवाई का विरोध करने लगे। विरोध हाथापाई तक पहुंचा, इससे पुलिस की अतिरिक्त फोर्स बुलाना पड़ी। विरोध थमने के बाद कार्रवाई शुरू की गई। भवन की चौथी मंजिल पूरी तरह अवैध थी, इसके साथ ही दुकानें और फ्रंट एमओएस व साइड एमओएस के निर्माण भी तोड़े गए। कार्रवाई बुधवार को भी जारी रहेगी।
भवन अनुज्ञा शाखा इंजीनियरों का कहना है कि लंबे समय से इस निर्माण को नियम के विपरित बताते हुए ठीक करने के नोटिस जारी कए जा रहे थे, लेकिन कोई नोटिस लेने तक को तैयार नहीं था। एक-दो बार तो नोटिस की प्रति भवन पर चस्पा की गई, लेकिन तब भी नहीं माने तो ये कार्रवाई करना पड़ी। गौरतलब है कि अशोका विहार नगर निगम की ही कॉलोनी है और यहां आवासीय उपयोग तय है, लेकिन 40 फीसदी से अधिक ने यहां अवैध निर्माण किया हुआ है। करीब तीन साल पहले इस कॉलोनी मे अवैध निर्माण को लेकर भवन अनुज्ञा शाखा 200 से अधिक नोटिस जारी कर चुकी है, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। संभवत: यहां ये पहली ही कार्रवाई है। यदि इमानदारी से कार्रवाई की जाए तो कई निर्माणों में ऐसी ही स्थिति मिलेगी।

देवेंद्र शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned