80 प्रतिशत मामलों में खुदकुशी से पहले व्यक्ति देता है संकेत

आत्महत्या के कारण और बचाव पर चर्चा, 80 प्रतिशत मामलों में किशोर तनाव में उठाते हैं ये कदम

By: hitesh sharma

Published: 11 Sep 2021, 08:36 PM IST

भोपाल। हर साल सैकड़ों युवा उस खूबसूरत दुनिया को अलविदा कह देते हैं जिस दुनिया को असल में उनके सपने के रंग में रंगना था। खुदकुशी एक व्यक्ति के सपनों का टूटना ही नहीं बल्कि एक परिवार की भावनाओं, समाज और देश की बहुमूल्य ऊर्जा का भी नुकसान है। यह बात खुदकुशी क्यों- आत्महत्या के कारण एवं बचाव विषय पर आयोजित कार्यक्रम में मनोवैज्ञानिक अनिन्दिता रॉय ने कही। सर्जना एकेडमी फॉर डिजाइन एंड फाइन आट्र्स और हेल्पबॉक्स की सुलझन शृंखला में अनन्दिता ने कहा कि खुदकुशी करने वालों में 80 फीसदी युवा व किशोर होते हैं। अधिकतर वे खुदकुशी करने से पहले कुछ न कुछ संकेत देते हैं। इसको रोकने के लिए उनकी बातचीत, अचानक व्यवहार परिवर्तन या हाव-भाव से प्राप्त इशारों को पहचानना होगा।

ऐसे व्यक्ति पहले सामाजिक दूरियां बनाने लगता है
उन्होंने कहा कि ज्यादातर मामलों में ऐसे व्यक्ति पहले सामाजिक दूरियां बनाने लगता है। वे या तो अपना सोशल एकाउंट बंद कर देते हैं और अधिकतर इनका फोन आपको बंद मिलेगा। वे घरों में ज्यादा रहते हैं तथा दोस्तों में घुलना मिलना व परिवार में बातचीत कम कर देते हैं। बुरी लतों की तरफ उनका झुकाव बढऩे लगता है जैसे वे ड्रग्स का ओवरडोज लेने लगते हैं, क्राइम के सीरियल या फिल्म देखने लगते हैं। वह खुदकुशी से संबंधित ज्यादा बातें करने लगते हैं। सामाजिक दबाव, घरेलू हिंसा, वैवाहिक संबंध, अवैध संबंध, प्यार में असफलता, आर्थिक समस्या और तुलना आदि बहुत बड़े कारण हैं। आज 9 या 10 साल के ब'चे अपनी उम्र से ज्यादा ही परिपक्व व आधी-अधूरी नॉलेज वाले हो गए हैं। उनके पास मोबाईल फोन व इंटरनेट एक अ'छी व बुरी दोनों चीज बनकर आया है। वो बहुत जल्दी सब कुछ अनुभव करना चाहते हैं और कई बार इसी चाहत में वो सेक्स भी कर लेते हैं।

बच्चों से संवाद बढ़ाएं
अनिन्दिता ने अभिभावकों को मशवरा दिया कि ब'चों की छोटी-सी-छोटी बात को भी तवज्जो दें और इसे कतई नजरअंदाज न करें। ऐसे करने से धीरे-धीरे आपका विश्वास होने लगेगा और ब'चे से संवाद-सम्प्रेषण होने लगेगा। अनिन्दिता का कहना था कि सम्प्रेषण जितना ज्यादा होगा मानसिक स्वास्थ्य उतना ही बेहतर होगा।

hitesh sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned