पैसेंजर ट्रेनों को बंद करने की तैयारी, जल्द हो सकता है फैसला, देखें लिस्ट

रेलवे बोर्ड ने की तैयारी, जल्द ही हो सकती है अधिकृत घोषणा...।

By: Manish Gite

Published: 22 Jun 2020, 04:22 PM IST


भोपाल। मध्यप्रदेश में चलने वाली गरीबों की पैसेंजर ट्रेनें बंद होने वाली है। इन्हीं ट्रेनों को एक्सप्रेस बना दिया जाएगा। घाटे की भरपाई के लिए अब केंद्र सरकार यह फैसला ले सकती है। यदि फैसला होता है तो भोपाल मंडल की 4 और रतलाम मंडल की 10 ट्रेनों पर असर पड़ सकता है।

 

सूत्रों के मुताबिक रेलवे बोर्ड ऐसी सभी पैसेंजर ट्रेनें बंद कर सकता है जिसमें दिन में यात्रियों की संख्या हमेशा उपलब्ध सीट से ज्यादा रहती हैं। इन पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस में बदला जाएगा। इनके छोटे स्टापेज खत्म कर इन्हें एक्सप्रेस ट्रेन बनाकर प्रति व्यक्ति 60 रुपए किराया बढ़ाया जाएगा।

रेलवे बोर्ड जल्द ही नए फैसले की घोषणा कर सकता है। इस फैसले से मध्यप्रदेश से गुजरने वाली कई पैसेंजर ट्रेनों पर असर पड़ेगा। फिलहाल चार ट्रेनों पर इसका असर पड़ेगा। भोपाल रेल मंडल से चलने वाली भोपाल-जोधपुर, भोपाल-इटारसी विंध्याचल, झांसी-इटारसी आदि पैसेंजर ट्रेनों को इस सूची में शामिल किया जा रहा है। इन ट्रेनों में ज्यादातर कम आय वाले स्थानीय यात्री सफर करते हैं। छोटे स्टापेज खत्म कर पैसेंजर ट्रेनों की स्पीड को बढ़ाया जाता है। इसके बाद यह पैसेंजर ट्रेनें एक्सप्रेस ट्रेनों में कनवर्ट हो जाती हैं। इसके बाद बड़े स्टेशनों पर ही उन्हें रोका जाता है।

 

ट्रेन का होगा ठहराव बंद, स्पीड होगी तेज

 

रतलाम मंडल की 10 ट्रेनों पर पड़ेगा असर
रतलाम रेल मंडल की बात करें तो इंदौर छिंदवाड़ा पैसेंजर, दाहोद हबीबगंज पैसेंजर, बीना नागदा पैसेंजर, हबीबगंज दाहोद पैसेंजर, नागदा बीना पैसेंजर, छिंदवाड़ा इंदौर पैसेंजर, कोटा बड़ोदरा पैसेंजर, आगरा फोर्ट रतलाम पैसेंजर, बड़ोदरा कोटा पैसेंजर, रतलाम आगरा फोर्ट हल्दीघाटी पैसेंजर शामिल है।

 

Southern Railways to operate 3 trains in TamilNadu from Friday

रेलवे का दावा है कि पैसेंजर को एक्सप्रेस बनाने से रफ्तार तो बढ़ेगी ही, यात्रियों का समय बचेगा। ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाने से उनमें एक्सप्रेस श्रेणी का किराया भी लगेगा जो पैसेंजर श्रेणी की तुलना में प्रति यात्री औसतन 50 से 60 रुपए (प्रत्येक श्रेणी में) अधिक होगा। अनुमान के मुताबिक एक पैसेंजर ट्रेन में एक दिन में 1200 से 1500 यात्री सफर करते हैं। इस तरह भोपाल रेल मंडल की चार पैसेंजर ट्रेनों में एक दिन में 6 हजार यात्री सफर करते हैं। प्रत्येक यात्रियों को 50 से 60 रुपए अधिक चुकाना होगा।

 

इससे होगी दिक्कत
रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति के सदस्‍य निरंजन वाधवानी के अनुसार कम आय वर्ग के लोगों और स्थानी लोगों के लिए पैसेंजर ट्रेनें ही सबसे अच्छा साधन रही हैं। इन्हें भी एक्सप्रेस बनाकर किराया बढ़ाने से और स्टापेज खत्म करने से समस्या होगी। रेलवे को इनके लिए अन्य विकल्प पर भी विचार करना चाहिए।

 

रेलवे बोर्ड लेगा निर्णय
भोपाल रेल मंडल के प्रवक्ता के मुताबिक पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाना है या नहीं, इस संबंध में रेलवे बोर्ड निर्णय लेगा। मंडल को जैसे निर्देश मिलेंगे उसका पालन किया जाएगा।

trains on track
Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned