कर्नाटक की तर्ज पर मध्यप्रदेश में लांच होगी इंदिरा कैंटीन

कर्नाटक की तर्ज पर मध्यप्रदेश में लांच होगी इंदिरा कैंटीन

Harish Divekar | Publish: Feb, 04 2019 10:34:05 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

- लोकसभा चुनाव के पहले कांग्रेस का बड़ा दांव, दूसरी ओर दीनदयाल रसोई पर छाया संकट

लोकसभा चुनाव के पहले कांग्रेस सरकार मध्यप्रदेश में बड़ा दावं चलेगी। दरअसल, तमिलनाडू की अम्मा कैंटीन की तर्ज पर कांग्रेस ने कर्नाटक में इंदिरा कैंटीन लांच की थी। इसका अच्छा फीडबैक रहा। जिसके चलते कांग्रेस इस आजमाए हुए फार्मूले को अब मध्यप्रदेश में लाने की तैयारी कर रही है। इसमें गरीबों के लिए दस रुपए में भोजन उपलब्ध होगा।
जरुरत क्यों ?
लोकसभा चुनाव की दृष्टि से मध्यप्रदेश बेहद अहम राज्य है। यहां २९ लोकसभा सीट हैं, जिनमें अभी कांग्रेस के पास महज तीन लोकसभा सीटें हैं। लेकिन, कांग्रेस को उम्मीद है कि प्रदेश में सत्ता आने का असर एेसा हो सकता है कि १५ से १८ सीटें तक लाई जा सकती है। इसलिए कांग्रेस यहां बेहद फोकस कर रही है। कांग्रेस ने वचन-पत्र में इंदिरा रसोई का वादा किया था। इसके तहत सामाजिक कार्यकर्ता आनंद राय ने इसका प्रस्ताव सौंपा है।

 

गरीबों पर फोकस इसलिए-
फिलहाल प्रदेश में सियासत की धूरी पर गरीब और किसान प्रमुख हैं। दरअसल, सूबे में ५ करोड़ से ज्यादा रजिस्टर्ड गरीब हैं, जो विभिन्न योजनाओं में हितग्राही के रूप में जुड़े हैं। इसलिए गरीब वर्ग एक बड़ा वोट बैंक है। दस रुपए में इन्हें सस्ता खाना मुहैया कराया जाता है, तो इससे चुनाव में फायदा हो सकता है। इसके अलावा कांग्रेस ने इंदिरा रसोई के तहत महीनेभर का राशन भी सत्ता आने पर देने का वादा किया था, जिसे पूरा करने के लिए सरकार कदम उठा रही है। लेकिन, उसके पहले इंदिरा रसोई का प्रयोग आजमाया जा सकता है।

 

दीनदयाल रसोई पर संकट-

पिछली भाजपा सरकार ने बड़े जोर-शोर से दीनदयाल रसोई योजना लांच की थी। तब तत्कालीन सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रियों के साथ इस दीनदयाल रसोई पर निरीक्षण तक करना शुरू किया था। दीनदयाल रसोई पर पांच रुपए में भोजन मिलना है। लेकिन, यह अब खराब स्थिति में हैं। इससे पहले उमा भारती की सरकार के समय रामरोटी योजना भी लाई गई थी, लेकिन वह भी बंद हो गई थी। इसलिए भाजपा इसके विरोध में है।

कर्नाटक में सफल रहा प्रयोग-
कर्नाटक को भूख से बचाने और श्रमिक वर्ग, गरीब रहवासियों को सस्ती दरों पर भोजन मुहैया कराने के लिए राज्य की कांग्रेस सरकार ने साल 2017 में इंदिरा कैंटीन की शुरुआत की थी। तब, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बंगलुरु में इस योजना को लॉन्च किया था। पहले चरण में 101 कैंटीन खोली गई थी। कर्नाटक में १६२ इंदिरा कैंटीन चल रही है।

--

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned