आकाश विजयवर्गीय की रिहाई पर पुलिस इंस्पेक्टर ने खाई थी मिठाई, एसपी ने अब की कार्रवाई

आकाश विजयवर्गीय की रिहाई पर मिठाई खाने वाले पुलिस अधिकारी पर गाज गिरी है।

By: Muneshwar Kumar

Published: 08 Jul 2019, 08:40 PM IST

भोपाल/इंदौर। नगर निगम ( Indore Municipal Corporation ) अधिकारी की पिटाई के बाद बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय ( Aakash vijayvargiya ) जेल गए थे। जेल से रिहाई के बाद उनके समर्थकों ने जश्न में पटाखे फोड़े थे। वहीं, कुछ समर्थकों ने आकाश विजयवर्गीय के आवास के बाहर रिहाई की खुशी में मिठाई बांटी थीं। आकाश के आवास के बाहर तैनात टीआई और कुछ अन्य पुलिसवालों ने भी मिठाई खाई थी।

 

आकाश विजयवर्गीय की रिहाई के बाद मिठाई खाने वाले टीआई और अन्य पुलिसवालों की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी। जिसमें साफ दिख रहा था कि आकाश की रिहाई के बाद जब उनके समर्थकों ने इन्हें खाने के लिए मिठाई दी तो खिलखिलाते हुए खा रहे हैं। अब इस मामले में इंदौर एसपी ( indore sp ) ने कार्रवाई की है।

इसे भी पढ़ें: साध्वी प्रज्ञा की बढ़ी मुश्किलें, मालेगांव ब्लास्ट मामले में गवाह ने की उनकी बाइक की पहचान


गृह मंत्री से हुई थी शिकायत
मिठाई खाने वाले टीआई की शिकायत मध्यप्रदेश के गृहमंत्री बाला बच्चन से हुई थी। उसके बाद इंदौर ने एसपी ने कार्रवाई की है। संयोगितागंज थाना प्रभारी सुबोध क्षोत्रिय को एसएसपी ने रविवार को लाइन अटैच कर दिया है। काश जमानत मिलने पर जेल से सबसे पहले जावरा कंपाउंड स्थित भाजपा कार्यालय पहुंचे थे। उस समय टीआई क्षोत्रिय अपने स्टॉफ के साथ यहां तैनात थे। दावा था कि उन्हें विधायक से मिलते व हंसी मजाक करते देखा गया था। हालांकि पुलिस के अफसर इसे नियमित कार्रवाई बता रहे हैं।

 

क्या था मामला
दरअसल, आकाश विजयवर्गीय ने इंदौर में जर्जर मकान को गिराने आए नगर निगम अधिकारियों के साथ मारपीट की थी। निगम अधिकारी को आकाश ने बल्ले से पिटाई की थी। इसके साथ ही उनके ऊपर लात-घूंसे भी बरसाए थे। निगम अधिकारियों के द्वारा एफआईआर के बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। बाद में भोपाल सेशन कोर्ट से शनिवार को आकाश विजयवर्गीय को जमानत मिल गई।

इसे भी पढ़ें: बीजेपी के रंगीन मिजाज संगठन महामंत्री पर गिरी गाज, महिला कार्यकर्ता से करते थे अश्लील चैट

 

मारपीट को सही ठहराते रहे हैं आकाश
वहीं, निगम अधिकारियों के साथ मारपीट की घटना पर आकाश विजयवर्गीय को अफसोस नहीं है। वे निगम अधिकारियों की पिटाई को सही ठहरा रहे हैं। आकाश विजयवर्गीय का इसके पीछे तर्क है कि निगम के अधिकारी महिला के साथ बदसलूकी कर रहे थे। इसी वजह से पिटाई की है।

इसे भी पढ़ें: नगर निगम अधिकारी को बैट से पीटने वाले विधायक की रिहाई पर पुलिसवालों ने खाएं लड्डू

 

गौरतलब है कि कुछ साल पहले भोपाल के हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर भी एक युवती के साथ रेप की घटना घटी थी। मामले को लेकर जब जीआरपी के टीआई से सवाल किया गया तो वे हंसते नजर आए थे। उसके बाद उन्हें तुरंत सस्पेंड कर दिया गया था।

Show More
Muneshwar Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned