सिगरेट पैकेट की तर्ज पर दवाओं पर भी मिलेगी साइड इफेक्ट की जानकारी

केंद्रीय ड्रग कंट्रोल विभाग ने ड्रग कंपनियों को दिए आदेश
इससे पहले शेड्यूल एच की दवा पैकेट पर चेतावनी निशान बनाने के निर्देश हो चुके हैं

सिगरेट पैकेट की तर्ज पर अब दवाओं के पैकेट्स पर भी इससे होने वाले दुष्परिणामों की जानकारी लिखना अनिवार्य होगा। इसके लिए केंद्रीय ड्रग कंट्रोल विभाग ने दवा कंपनियों को निर्देश जारी किए हैं। जल्द ही केन्द्रीय स्वास्थ्य विभाग भी इसके लिए नोटिफिकेशन जारी करने वाला है। दरअसल तमाम वैज्ञानिक रिसर्च बताती हैं कि एंटिबायोटिक और एंटी डिप्रेशन की दवाओं के कई साइड इफेक्ट भी होता है। कई बार लोग बिना डॉक्टरी सलाह के ही इन दवाओं को ले लते हैं।

डॉक्टरों का मानना है कि आधे अधूरे डोज और ओवरडोज की स्थिति में इसके गंभीर नुकसान होते हैं। ऐसे में लोगों को सचेत करने के लिए दवाओं पर साइड इफेक्ट लिखे जाएंगे। इसके लिए केंद्रीय ड्रग कंट्रोलर ने नो योर मेडिसिन मुहिम के तहत सात तरह की मेडिसिन और उनसे बनने वाले सैकड़ों ब्रांड्स को लेकर जागरुकता फैलाने की तैयारी की है।

यह हो सकते हैं साइड इफेक्ट

- सेफ ोटैक्सिम, सेफ ीएग्जाइम जैसी एंटीबॉयोटिक्स खाने से स्किन एलर्जी, त्वचा में सूजन जैसी दिक्कतें हो सकती हैं।
- मेंसुरेशन, ब्लीडिंग नियंत्रण और डिप्रेशन में खाने वाली कई दवाओं से चक्कर आना साथ ही इंफेक्शन जैसी दिक्कतें हो सकती हैं।

- आर्थराइटिस, मिर्गी और माइग्रेन की कुछ दवाओं से त्वचा की तकलीफें हो सकती हैं।
- ताकत बढ़ाने वाली दवाओं से हार्ट बीट बढऩे जैसी दिक्कते होती हैं।

इस निर्णय से मरीजों को पता होगा कि कौन सी दवाएं नुकसानदाय हैं। साथ ही मेडिकल छात्रों, जूनियर डॉक्टरों के ज्ञान के लिये ऐसा हितकारी कदम उठाया जा रहा है। बिना डॉक्टरी परामश के जनमानस दवायें न लें, ऐसी हिदायत दी जाती है ।

डॉ राकेश पाण्डेय, राष्ट्रीय प्रवक्ता, आयुष मेडिकल एसोसिएशन

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned