scriptInternet Shutdown in India, World got a loss of 40300 crores 10101 | Internet Shutdown: कोई आपका इंटरनेट बंद कर दे तो क्या करेंगे | Patrika News

Internet Shutdown: कोई आपका इंटरनेट बंद कर दे तो क्या करेंगे

बीते वर्ष दुनिया में 30 हजार घंटे इंटरनेट बंद किया गया। भारत में भी 1157 घंटे नेटबंदी रही। इससे बड़े पैमानेे पर आर्थिक नुकसान हुआ।

भोपाल

Published: January 29, 2022 01:26:42 am

इंटरनेट (Internet) बंद करने के फैसलों पर प्रश्नचिह्न

विजय चौधरी
भोपाल. स्क्रीन में कैद आज का युवा बगैर इंटरनेट (Internet) के अधूरा है। दिन—रात मोबाइल (mobile) हाथ में रखने वाले युवाओं की मुसीबत तो तब हो जाती है जबकि उन्हें इंटरनेट (Internet) के लिए मोहताज बना दिया जाए। मगर ऐसा हो रहा है।
Internet Shutdown In Rajasthan : नेटबंदी के तुगलकी फरमान से सब कुछ चौपट, आम जनता प्रभावित
Internet Shutdown In Rajasthan : नेटबंदी के तुगलकी फरमान से सब कुछ चौपट, आम जनता प्रभावित
यों तो यह इक्कीसवीं सदी का बाइसवां वर्ष है और इस युग को सूचना और तकनीक का युग माना जा रहा है, मगर इस दौर में भी सूचनाएं बाधित हो रही हैं। न सिर्फ भारत (India) में बल्कि पूरी दुनिया (World) में जिस तेजी से सूचनाएं प्रसारित होती हैं, उतनी ही बड़ी संख्या में सूचनाओं को रोकने की कोशिश भी हो रही है। इससे दुनिया को आर्थिक नुकसान भी झेलना पड़ा है। बीते वर्ष में विश्व में 30 हजार घंटे इंटरनेट बंद (Internet Shutdown) किया गया और अनुमान है कि इससे 40 हजार 300 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। इंटरनेट बंद (Internet Shutdown) करने में पहले स्थान पर म्यांमार (Myanmar) और दूसरे क्रम पर नाइजीरिया (Nigeria) रहा है। भारत (India) तीसरा देश है जहां 1157 घंटे इंटरनेट बंद रहा। चौंकाने वाला तथ्य यह है कि वर्ष 2020 से 2021 में नेटबंदी (Internet Shutdown) 36 फीसदी अधिक रही। एक रपट के मुताबिक बीते वर्ष नेटबंदी से 5.9 करोड़ लोग प्रभावित हुए।
Internet Shutdown: नेटबंदी से परेशान हैं, तो करें ये काम
IMAGE CREDIT: patrika
वैसे तो अब यह मांग उठ रही है कि इंटरनेट चलाना मानवाधिकार (Human Right) में शामिल किया जाए। जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) से जुड़े एक मामले में सुनवाई करते हुए शीर्ष अदालत (Apex Court) तो यह कह भी चुकी है कि आज के दौर में इंटरनेट लोगों के मौलिक अधिकार में शामिल हो गया है। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद् की रिपोर्ट में भी इंटरनेट पर लगाई जाने वाली पाबंदियों की आलोचना की जा चुकी है।
तमाम कंप्यूटरों को एक दूसरे से जोड़ कर इंटरनेट बनाने के 50 साल बीत चुके हैं और World Wide Web की स्थापना को भी तीस साल हेा गए हैं लेकिन हालात बताते हैं कि एक स्वतंत्र ऑनलाइन दुनिया (Online World) का ख्वाब अधूरा ही है।
आम तौर पर सरकारें नेटबंदी (Internet Shutdown) के पीछे कानून व्यवस्था का हवाला देती है ताकि अराजकता न फैले। इसी आधार पर जमू-कश्मीर में तो कई बार यह पाबंदी लगाई गई। किसान आंदोलन के समय भी काफी समय नेट बंद रहा। राजस्थान में तो परीक्षा का पर्चा लीक न हो इस कारण नेटबंदी करने का चलन ही बना गया है। दुनिया की बात करें तो रूस (Russia) और चीन (China) ऐसे देश हैं जिन्होंने इंटरनेट पर पूरा सरकारी नियंत्रण कायम कर रखा है। दरअसल ये बोलने की आजादी पर लगाम लगाने और अपराध रोकने की असक्षमता को छुपाने की कोशिश ज्यादा दिखती है।
विडंबना यह है कि इस दौर में कई कारोबार ऐसे हैं जो सिर्फ इंटरनेट की मदद से ही चल सकते हैं। जैसे ही नेटबंदी (Internet Shutdown) होती है, यह पूरी तरह ठप हो जाते हैं। सरकारों को चाहिए कि नेटबंद करने के बजाए ऐसे रास्ते खोजें जिनसे कि बगैर नेटबंदी के कानून-व्यवस्था बहाल रहे और नागरिकों को सूचनाओं से दूर न रहना पड़े।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

Asia Cup में भारत ने इंडोनेशिया को 16-0 से रौंदा, पाकिस्तान का सपना चूर-चूर करते हुए दिया डबल झटकामानसून ने अब तक नहीं दी दस्तक, हो सकती है देरखिलाड़ियों को भगाकर स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी का ट्रांसफर, पति लद्दाख तो पत्नी को भेजा अरुणाचलमहंगाई का असर! परिवहन मंत्रालय ने की थर्ड पार्टी बीमा दरों में बढ़ोतरी, नई दरें जारी'तमिल को भी हिंदी की तरह मिले समान अधिकार', CM स्टालिन की अपील के बाद PM मोदी ने दिया जवाबहिन्दी VS साऊथ की डिबेट पर कमल हासन ने रखी अपनी राय, कहा - 'हम अलग भाषा बोलते हैं लेकिन एक हैं'अजमेर शरीफ दरगाह में मंदिर होने के दावे के बाद बढ़ाई गई सुरक्षा, पुलिस बल तैनातबोरवेल में गिरा 12 साल का बालक : माधाराम के देशी जुगाड़ से मिली सफलता, प्रशासन ने थपथपाई पीठ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.