scriptInvestigation of marriage garden leaving dirt in Bada pond closed, no | बड़ा तालाब में गंदगी छोड़ रहे मैरिज गार्डन की जांच बंद, गुलबाग पर कोर्ट के आदेश पर भी कार्रवाई नहीं | Patrika News

बड़ा तालाब में गंदगी छोड़ रहे मैरिज गार्डन की जांच बंद, गुलबाग पर कोर्ट के आदेश पर भी कार्रवाई नहीं

- शादियों की छूट मिलते ही बंद मैरिज गार्डनों को एक बार फिर से खोल लिया गया, गुलबाग भी खुला

भोपाल

Published: November 28, 2021 08:10:00 pm

भोपाल. कोरोना काल के बाद शुरू हुए मैरिज गार्डन में एक बार फिर से वही शिकायतें और समस्याएं बनी हुई हैं। दो वर्ष के लंबे इंतजार के बाद शहर के पचास फीसदी मैरिज गार्डन खुले में अनट्रीट वॉटर छोड़ रहे हैं। बड़े तालाब के नजदीक खानूगांव में बने मैरिज गार्डन तो कार्रवाई के बाद भी नहीं चेते। कइयों में आज भी गंदा पानी तालाब में छोड़ा जा रहा है। गुलाब मैरिज गार्डन का मामला तो कोर्ट में भी चल रहा है, कोर्ट के आदेश के बाद भी इस पर कार्रवाई नहीं हो रही। इस मैरिज गार्डन के पास नगर निगम बिल्डिंग परमिशन (एनओसी), जमीन के मालिकाना हक संबंधी दस्तावेज, पार्किंग व्यवस्था तक नहीं है। अवैध रूप से तालाब किनारे पार्किंग होती है। इसके अलावा ट्रीटमेंट प्लांट नहीं है अन्य कई खामियां इस गार्डन में पाई गई हैं इसके बावजूद इसका संचालन हो रहा है। इसको लेकर अफसरों पर अब सवाल उठने लगे हैं।
बड़ा तालाब में गंदगी छोड़ रहे मैरिज गार्डन की जांच बंद, गुलबाग पर कोर्ट के आदेश पर भी कार्रवाई नहीं
शादियों की छूट मिलते ही बंद मैरिज गार्डनों को एक बार फिर से खोल लिया गया, गुलबाग भी खुला
राजधानी में बैरागढ़, लालघाटी, खानूगांव, करोंद, अयोध्या बायपास, होशंगाबाद रोड, रायसेन रोड सहित अन्य जगहों पर करीब 175 मैरिज गार्डन संचालित हो रहे हैं। इसमें से 45 मैरिज गार्डन ऐसे हैं जिन के पास किसी प्रकार की अनुमति नहीं है। अक्टूबर 2019 में प्रशासन और नगर निगम की जांच में इसका खुलासा हो चुका है। इसके बाद कितने मैरिज गार्डन ने अनुमति ली, एसटीपी (सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट) लगवाया। पार्किंग की व्यवस्था की है या नहीं, इसको लेकर कोई जांच नहीं हुई।
इनकी हुर्ह थी जांच
1. ग्रीन सिटी मैरिज गार्डन(बैरागढ़)- किचिन की स्थिति ठीक नहीं थी, एसटीपी बंद था। आग बुझाने के उपकरण नहीं थे।

2. गुलशन गार्डन-(बैरागढ़)-आग बुझाने के उपकरण नहीं मिले, एक ही गेट था।
3. स्वागत पैलेस(बैरागढ़)- यहां भी आग बुझाने के उपकरण और एसटीपी नहीं मिली।
4. गुलबाग मैरिज गार्डन(बैरागढ़)-अनुमति नहीं थी, बाद में सील कर दिया। फिर खुल गया।
5. रफीक खान महल(खानूगांव)-अनुमति नहीं थी, सील किए, बाद में फिर खुल गए।

6. सीजन हैरिटेज(बरखेड़ा पठानी)-बिना अनुमति के संचालित हो रहा था।
ये है पूरा मामला
बड़ा तालाब कैचमेंट के 50 मीटर दायरे में चल रहे मैरिज गार्डन को लेकर दो वर्ष पूर्व जांच शुरू की गई थी। इसका उदेदश्य था कि मैरिज गार्डन अपने यहां एसटीपी का निर्माण कराएं ताकि बड़ा तालाब में सीधे गंदगी न मिले। लेकिन आज स्थिति दो साल पूर्व की ही बनी हुई है। शादियों की छूट मिलते ही खुले में ही सीवेज छोड़ रहे हैं। जो मैरिज गार्डन सील किए थे, वे फिर से खोल लिए गए।
वर्जन

गुलबाग मैरिज गार्डन के संबंध में नगर निगम में सुनवाई शुरू हुई है, हमारे सर्किल से एक नोटिस जारी हुआ था। बाकी जानकारी करनी होगी।
मनोज उपाध्याय, एसडीएम, बैरागढ

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.