कारोबार के नाम पर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष के बेटे से 2.80 करोड़ रुपए की ठगी

कम्प्यूटर व्यवसाय में पार्टनर बनाने का लालच देकर लगाया चूना

भोपाल. पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष राजेन्द्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य सिंह उर्फ विक्की उर्फ गिनी से 2.80 करोड़ रुपए की ठगी का मामला सामने आया है। विक्रमादित्य की शिकायत पर पुलिस ने कंप्यूटर कारोबारी प्रकाशचंद्र गुप्ता के खिलाफ जालसाजी का मामला दर्ज किया है। गुप्ता पर आरोप हैं कि बिजनेस में इन्वेस्टमेंट करने का झांसा देकर उन्होंने विक्रमादित्य से रकम ठग ली। एग्रीमेंट के बाद भी रकम वापस नहीं करने पर विक्रमादित्य ने कमला नगर में इसकी शिकायत कर दी। बैंक साक्ष्य के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है।

थाना प्रभारी विजय सिंह सिसौदिया ने बताया कि 44 वर्षीय विक्रमादित्य सिंह पिता राजेंद्र सिंह ए-3 वनविहार रोड प्रेमपुरा में रहते हैं। विक्रमादित्य पूर्व जिला पंचायत सदस्य हैं। वर्तमान में वह कांग्रेस कमेटी में प्रदेश सचिव हैं। उन्होंने पुलिस को शिकायती आवेदन देते हुए बताया कि एमपी नगर स्थित वुड्स सिस्टम (कंप्यूटर) के संचालक प्रकाशचंद्र गुप्ता उनके परिचित हैं। उनका घर पर आना-जाना था। वर्ष 2016 में उन्होंने बताया कि वे अपने कंप्यूटर के कारोबार में इंवेस्ट करना चाहते हैं, लेकिन उनके पास पैसा नहीं है।

इस पर विक्रमादित्य ने उन्हें 18 मार्च 2016 और 17 अप्रैल 2016 को 2.80 करोड़ रुपए दिए। विक्रमादित्य ने अधिकतर रकम अपने बैंक खाते से गुप्ता के खाते में ट्रांसफर की है। इसके साथ नकद भी दिए। इसको लेकर दोनों के बीच समझौता हुआ। समझौते के मुताबिक प्रकाशचंद्र को ब्याज की रकम देनी थी, लेकिन प्रकाश ने न तो ब्याज दिया और न ही मूल रकम लौटाई। काफी दिनों तक वह बात को टालते रहे। लेकिन जब प्रकाश ने पैसे देने से साफ मना कर दिया तो उन्होंने इसकी शिकायत पुलिस से कर दी। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। फिलहाल, आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। विक्रमादित्य के दादा शिवमोहन सिंह भी विधायक रह चुके हैं।

Show More
नीलेंद्र कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned