3250 करोड़ का निवेश आएगा मप्र में, भोपाल-इंदौर में बनेगा पेरेशिबेल कमोडिटी हॅब

दिल्ली में सीएम की निवेश-कांफ्रेंस में बड़े निर्णय : नीति में बदलाव, 500 रोजगार देने वाले अब मेगा-उद्योग की श्रेणी में- सीएस की अध्यक्षता में कपड़ा व्यापारी व किसानों की बनाई कमेटी

- 14 हजार को रोजगार

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शुक्रवार को दिल्ली में टेक्सटाइल और फूड प्रोसेसिंग के बड़े उद्योगपतियों से राउंड टेबल कांफ्रेंस की। कांफ्रेंस में मध्यप्रदेश में 3250 करोड़ के निवेश की सहमति बन गई। इससे 14 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा।

साथ ही भोपाल व इंदौर में फल व सब्जियों के निर्यात को बढ़ावा देन के लिए पेरेशिबेल कमोडिटी हॅब बनाना तय किया गया। बैइक में निवेशकों से मिले सुझाव के आधार पर सीएम ने तत्काल निर्णय लेकर नीति में बदलाव तक के फैसले किए। इसमें 500 से ज्यादा रोजगार देने वाले उद्योग को भी मेगा-उद्योग की श्रेणी में शामिल करना तय किया गया। इससे उद्योग को मेगा-उद्योग श्रेणी की सभी छूट व पैकेज मिल पाएंगे। अभी तक 100 करोड़ से ज्यादा निवेश वाले ही मेगा उद्योग में शामिल होते हैं।

टेक्सटाइल इंड्रस्टी को ये बोले सीएम-

सीएम ने कहा कि प्रदेश में सीहोर के बडिय़ाखेड़ी क्षेत्र में 60 एकड़ में प्लंग एंड प्ले औद्योगिक पार्क बनेगा। वहीं इंदौर के समीप बरलाई में पीपीपी मॉडल पर परिधान पार्क बन रहा है। इन दोनों के लिए निवेश आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि देश का साठ प्रतिशत बाजार मध्यप्रदेश के ही आस-पास मौजूद है। इसलिए मध्यप्रदेश आज देश में संभावनाओं वाला सबसे बेहतर राज्य है।

फूड प्रोसेसिंग इंड्रस्टी को सीएम ने यह कहा-

सीएम ने कहा कि मध्यप्रदेश को देश की उद्यानिकी राजधानी बनाना हमारा लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि यही एक मात्र एक ऐसा क्षेत्र है, जिससे हम अर्थव्यवस्था को मजबूत और किसानों की आय को दोगुना कर सकते है। इसके लिए हम प्रदेश में एक अलग नीति बनाने जा रहे हैं। कमलनाथ ने इंदौर और भोपाल में फल और सब्जियों के निर्यात को बढ़ावा देने बनने वाले पेरिशेबल कमोडिटी हब के लिए निवेश आमंत्रित किया।


ये भी अहम फैसले-

- कॉटन उत्पादक किसानों और संबंधित निर्माताओं के साथ सीएस की अध्यक्षता में कमेटी बनाई। यह कमेटी कपास इकाई को बढ़ावा देने के उपायों पर अमल करेगी। इनके लिए प्रोत्साहन नीति भी तैयार करेगी।

- पांच करोड़ रुपए से अधिक की निवेश विस्तार योजना को भी प्रोत्साहन राशि मिलेगी । अब तक मूल निवेश की 30 प्रतिशत राशि पर जो 10 करोड़ से कम नहीं होने पर यह प्रोत्साहन राशि मिलती है।
- जैविक कपास से कपड़े बनाने वाले निवेशकों को अधिक प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

टेक्सटाइल क्षेत्र में ये निवेश- -

- ट्राइडेंड ग्रुप के चेयरमैन राजेंद्र गुप्ता ने 3000 करोड़ का निवेश भोपाल में करने की घोषणा की। इससे दस हजार लोगों को रोजगार मिलेगा।
- गोकलदास एक्सपोर्ट कंपनी के प्रबंध निदेशक शिवा गणपति ने कहा कि भोपाल में ही 50 करोड़ का निवेश किया जाएगा। इससे 3000 लोगों को रोजगार उपलब्ध होगा।- मयूर यूनिकोटर्स के महाप्रबंधक स्वप्निल व्यास ने ग्वालियर में 150 करोड़ रुपए के निवेश की घोषणा की। एक हजार लोगों को इस निवेश से रोजगार प्राप्त होगा।

- प्रतिभा सिंटेक्स कंपनी के प्रबंध निदेशक श्रेयस्कर चौधरी इन्दौर में एमएसएमई यूनिट के लिए 100 करोड़ का टेक्सटाइल पार्क बनाएंगे। परिधान एक्सपोर्ट प्रमोशन कांउसिल के चेयरमेन ए. शक्तिवेल सहयोग करेंगे।

त्रिपूर की 20 यूनिट मप्र में आएंगी-

सीएम कमलनाथ ने मीडिया से बातचीत में कहा कि निवेशकों से सुझाव लिए हैं, उनके हिसाब से नीति बनाई जाएगी। उनके सुझाव सुनकर बहुत सारी बातों का हल हमने उसी समय निकाला। हमने फैसला किया कि इस नीति में परिवर्तन की आवश्यकता है। जिन्होंने सुझाव दिए, उनसे फिर से बुलाकर चर्चा करेंगे। त्रिपूर से भी लोग आज इस बैठक में आए थे। जब मै टेक्सटाइल मिनिस्टर था, तभी से सभी से मेरा पुराना संबंध था, उनसे भी सुझाव लिए है। उन्होंने आज घोषणा की है कि हमारे त्रिपूर के 20 यूनिट मध्यप्रदेश में आएंगे।

फूड प्रोसेसिंग में ये निवेश-

- अडानी ग्रुप फार्चून आटा, चावल, पेप्सिको आलू और कोका कोला संतरे और आम की इकाई में निवेश करेंगे। विदिशा में सोयाबड़ी व बासमती चावल प्रसंस्करण में निवेश करेंगे।
- पेप्सिको हर वर्ष 110 करोड़ मूल्य के आलू खरीदी को भविष्य में दोगुना करेगा। आलू से जुड़े उत्पादों की इकाई भी पेप्सिको प्रदेश में स्थापित करेगा।

- कोका कोला कंपनी ने संतरे और आम के ताजा रस बनाने की निर्माण इकाई स्थापित करेगी। इसका विधिवत प्रस्ताव जल्द कंपनी सरकार को देगी।

Show More
जीतेन्द्र चौरसिया Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned