बेरोजगार हैं तो ये सरकारी योजना बनेगी आपकी आय का साधन! कमा सकते हैं हर माह 70 से 80 हजार रुपए तक

बेरोजगार हैं तो ये सरकारी योजना बनेगी आपकी आय का साधन! कमा सकते हैं हर माह 70 से 80 हजार रुपए तक

Deepesh Tiwari | Updated: 08 May 2019, 03:57:06 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

IRCTC भारतीय रेलवे की ऑनलाइन विंग...

भोपाल। यात्रियों की सुविधा और सेफ्टी के लिए लगातार कार्य करने वाली भारतीय रेलवे न केवल आपको आराम की यात्रा में सहयोग देती है। बल्कि यह देश के लोगों को रोजगार देने में भी अव्वल है।

एक ओर जहां रेलवे की ओर से दिए जाने वाले रोजगार के तहत लोगों को रेलवे विभाग में नौकरी दी जाती है। वहीं अब दूसरी ओर बढ़ रही बेरोजगारी को देखते हुए रेलवे की ओर से कोशिशें शुरू कर दी गई हैं।

इसी के तहत विश्व में 4थें नंबर का सबसे बड़ा रेल नेटवर्क इंडियन रेलवे और इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन IRCTC सर्विस आपके लिए एक खास ऑफर लेकर आया है।

ये है जरूरी...
यदि आपके घर पर भी इंटरनेट की सुविधा है और आप बेरोजगार हैं तो इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन (IRCTC) दे रही आपको हर महीने घर बैठे 80 हजार रुपए तक कमाई करने का मौका...

ndian Railways have given the good hindi news

दरअसल IRCTC भारतीय रेलवे की टिकट बुकिंग और कैटरिंग सर्विस के लिए ऑनलाइन विंग है। एक रिपोर्ट के मुताबिक 55 प्रतिशत रेल टिकट ऑनलाइन बुक किए जाते है। ऐसे में अब आप भी IRCTC के अधिकृत एजेंट बनकर हर महीने 70 से 80,000 रुपये तक कमा सकते हैं।


जानिये क्या करना होगा आपको...
इसमें अधिकृत एजेंट सभी तरह के टिकट बुक कर सकता है जैसे तत्काल, वेटिंग और आरएसी। जिसके लिए उन्हें कमीशन दिया जाता है। इसके साथ ही उन्हें 24 घंटें और 7 दिन का सर्च इंजन बुकिंग सिस्टम भी दिया जाता है। इसी अलावा एजेंट बस, होटल, हॉलीडे के साथ ही टूर पैकेज भी बुक कर सकते हैं।


मनी ट्रांसफर, प्रीपेड रिचार्ज के साथ ही दूसरी तमाम सर्विसेज दे सकते हैं। साथ ही आप रेल के अलावा प्लेन, होटल की भी बुकिंग कर सकते हैं। एक IRCTC एजेंट राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों तरह की फ्लाइट की बुकिंग भी कर सकता है।

IRCTC  <a href=Indian Railway LATEST NEWS" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/05/03/irctc_latest_news_4539765-m.jpg">

ऐसे बने IRCTC के एजेंट?
आप किसी अधिकृत प्रिंसिपल सर्विस प्रोवाइडर के साथ कांट्रेक्ट साइन करके आईआरसीटीसी एजेंट बन सकते हैं। रेलवे ने इन सर्विस प्रोवाइडर की पूरी जानकारी अपनी आधिकारिक बेवसाइट पर दी हुई है।

IRCTC के एजेंट बनने के लिए आपको एक लाइसेंस लेना होगा। यदि आप IRCTC का एजेंट बनना चाहते हैं तो आप किसी भी अधिकृत प्रिंसिपल सर्विस प्रोवाइडर के साथ साझेदारी करके एजेंट बन सकते हैं। अधिकृत प्रिंसिपल सर्विस प्रोवाइडर के साथ करार कर आईआरसीटीसी एजेंट बना जा सकता है।


लिस्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें : IRCTC services

ये मिलता है एजेंट को...
आप सभी तरह की बल्क बुकिंग कर सकते हैं। सामान्य पब्लिक की बुकिंग के टाइम के 15 मिनट बाद ही तत्काल टिकट्स बुक करने की परमीशन मिलती है। साथ ही आसानी से टिकट कैंसिल करवा सकते है।


खुशखबरी: रेलवे की कर्मचारियों को नई सौगात, जानिये कैसे...
वहीं इसके अलावा अपने कर्मचारियों को भी रेलवे ने कुछ दिनों पहले ही सौगात दी है। इसके तहत वित्त मंत्रालय ने ट्रेन गार्ड और लोको पायलट व सहायक लोको पायलट (ड्राइवर) का रनिंग भत्ता आखिरकार बढ़ाकर दोगुना कर दिया है। अब इन कर्मचारियों को प्रति किलोमीटर 5.25 रुपये भत्ता मिलेगा।


जिसके चलते मध्यप्रदेश से गुजरने वाली ट्रेनों के रनिंग स्टाफ सहित तमाम कर्मचारी लाभांवित होंगे।

वहीं पिछले कुछ समय से लगातार ये सूचना आ रही थी कि रेलवे अपने रनिंग स्टाफ का रनिंग भत्ता बढ़ाने जा रहा है। जिसके तहत रनिंग स्टाफ का भत्ता करीब दोगुना किया गया है।

लेकिन इस फैसले को लेकर रेलवे को वित्त मंत्रालय की स्वीकृति का इंतजार करना पड़ा। रेलवे के इस निर्णय से करीब एक लाख लोको पायलट, असिस्टेंट लोको पायलट, गार्ड व अन्य रनिंग स्टाफ को फायदा मिलेगा।

जनवरी में ये बात भी सामने आ गई थी कि रेलवे बोर्ड ने 255 रुपये प्रति 100 किलोमीटर से बढ़ाकर 525 रुपये रनिंग भत्ता कर दिया है। लेकिन अब तक वित्त मंत्रालय की स्वीकृति का इंतजार करना पड़ा।

ये होगी परेशानी...
सामने आ रही जानकारी के अनुसार बोर्ड के इस निर्णय से घाटे में चल रहे रेलवे पर वित्तीय बोझ भी पड़ेगा। जानकारों का कहना है कि इस फैसले से रेलवे पर सालाना करीब 2400 करोड़ रुपये का बोझ बढ़ जाएगा।

रेलवे का आपरेटिंग अनुपात लगातार बढ़ रहा है। अप्रैल 2018 से यह अनुपात 100 से 117 प्रतिशत तक पहुंच गया है। रेलवे की कमाई अगर सौ रुपये है तो खर्च 117 रुपया हो रहा है।

अब तक ये थी स्थिति...
अभी तक कर्मचारियों को प्रति किलोमीटर ढाई रुपए प्रति किलोमीटर रनिंग भत्ता मिल रहा था। वहीं अब एक जुलाई 2017 से बढ़ा रनिंग भत्ता कर्मचारियों को मिलेगा। इससे पूरे रेलवे के 1.27 लाख कर्मचारी लाभान्वित होंगे।

कर्मचारी इस मांग के लिए वर्षों से इसके लिए लड़ाई लड़ रहे थे।

सूत्रों के अनुसर रेलवे कर्मचारी संघ के गत 13 अप्रैल को रेलवे बोर्ड से वार्ता की थी। इसके बाद रेलवे बोर्ड में 26 व 27 अप्रैल को हुई पीएनएम बैठक के बाद वित्त मंत्रालय ने रनिंग कर्मचारियों के भत्ते बढ़ाने को लेकर अपनी मंजूरी दे दी।

सबसे पहले रनिंग कर्मचारियों को करीब 150 रुपए प्रति 100 किमी. के हिसाब से रनिंग भत्ता मिलता था। इसके बाद डीए बढ़ने पर उनको 230 रुपये तक रनिंग भत्ता दिया जा रहा था। लेकिन, अब वित्त मंत्रालय की मंजूरी के बाद पूरे भारतीय रेल में रनिंग कर्मचारियों को दोगुना भत्ता मिलेगा।

सातवें पे कमीशन के मद्देनजर इनके रनिंग भत्तों में इजाफा हुआ है। मजदूर दिवस पर भारतीय रेल में रनिंग कर्मचारियों और एनएफआईआर की इस मुहिम को बहुत बड़ी जीत के रूप में देखा जा रहा है।

कर्मचारियों की संख्या
लोको पायलट(ट्रेन ड्राइवर) - 60 हजार
सहायक लोको पायटल - 27 हजार
गार्ड - 40 हजार

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned