scriptiskcon protest against bangladesh communal violence | बांग्लादेश में हिंसा के शिकार हिंदुओं को मिले न्याय, सुरक्षा | Patrika News

बांग्लादेश में हिंसा के शिकार हिंदुओं को मिले न्याय, सुरक्षा

- इस्कॉन के भक्तों ने किया बांग्लादेश में मंदिरों एवं हिंदुओं पर हुए हमले के खिलाफ प्रदर्शन

- ज्योति टॉकीज से बोर्ड आफिस तक हरिनाम के साथ चलते हुए किया शांतिपूर्ण विरोध

भोपाल

Published: October 23, 2021 10:51:44 pm

भोपाल. बांग्लादेश में हमारे मंदिरों की रक्षा करें.़.़.़सनातन धर्म के खिलाफ हिंसा बंद करें.़.़.़भगवान अल्पसंख्यकों से भी प्यार करते हैं.़.़.़ ऐसे बैनर-पोस्टर हाथ में लिए हुए कृष्ण भक्त हरिनाम कीर्तन करते हुए आगे बढ़ रहे थे। बिना किसी नारे या शोर-शराबे के प्रभुकीर्तन करता हुआ जुलूस शनिवार शाम ज्योति टॉकीज से बोर्ड आफिस चौराहे पर पहुंचा। दरअसल बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नागरिकों पर हो रहे हमलों के विरोध में शनिवार को इस्कॉन भोपाल, पटेल नगर के भक्तों ने यह प्रदर्शन किया।
सफेद पारंपरिक वस्त्र पहने हुए इस्कॉन के कृष्ण भक्त देर दोपहर को ज्योति टॉकीज चौराहे पर पहुंचे। भक्तों ने हाथ में ली हुई तख्तियों को ऊपर उठाकर प्रदर्शित किया लेकिन अपनी मांगों को लेकर किसी तरह के नारे नहीं लगाए। बल्कि विरोध दर्ज कराने के जुलूस में भी यह ढ़ोलक और मंजीरों के साथ कीर्तन करने लगे। हरिनाम कीर्तन करता हुआ भक्तों का जत्था लगातार आगे बढ़ते हुए बोर्ड ऑफिस चौराहे पर पहुंचा जहां इन्होंने शांतिपूर्वक ढंग से सड़क के किनारे खड़े होकर पोस्टर्स को प्रदर्शित किया।
बांग्लादेश में हिंसा के शिकार हिंदुओं को मिले न्याय, सुरक्षा
बांग्लादेश में हिंसा के शिकार हिंदुओं को मिले न्याय, सुरक्षा
गौरतलब है कि नवरात्रि से लेकर अब तक बांग्लादेश में लगातार हिंदू अल्पसंख्यकों पर हमले हो रहे हैं। मंदिरों एवं झांकियों में तोडफ़ोड़ के बीच वहां के अल्पसंख्यक डर के माहौल में जी रहे हैं। इसके विरोध में देश सहित दुनिया भर में इस्कॉन के अनुयायी प्रदर्शन कर हिंदूओं के लिए सुरक्षा एवं न्याय की मांग कर रहे हैं, इसी क्रम में शहर में प्रदर्शन किया गया।
भक्तों ने बताया कि इस्कॉन की स्थापना वर्ष 1966, न्यूयॉर्क में कृष्णकृपा मूर्ति श्रीमद् एसी भक्तिवेदांत स्वामी श्रील प्रभुपाद ने किया था, इस्कॉन के केंद्र पूरे विश्व में 150 देशों से भी अधिक जगह खुले हुए हैं। यहाँ पर भगवद् गीता और रामायण पर आधारित शिक्षाओं का पालन एवं उसका प्रचार प्रसार किया जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जारी की पहली लिस्ट, 34 उम्मीदवारों को दिया टिकटराष्ट्रीय युद्ध स्मारक में विलय की गई अमर जवान ज्योति की लौ; देखें VIDEO'हिजाब' पर कर्नाटक के शिक्षा मंत्री के बयान पर बवाल! जानिए क्या है पूरा मामलादिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारMizoram Earthquake: मिजोरम में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर रही 5.6 तीव्रताBJP की दूसरी लिस्ट जारी: 85 प्रत्याशियों में 15 महिलाएं, अदिति सिंह रायबरेली, रामवीर उपाध्याय को सादाबाद से टिकट, IPS असीम को मिला कन्नौजकोरोना की रफ्तार से ऑफलाइन हो सकती है 12वीं-10वीं की बोर्ड परीक्षा! CGBSE ने की ये तैयारीBHU के रजत जयंती से जुड़ी गांधी की स्मृतियों को NSUI ने किया याद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.