scriptIt was a miracle, a thousand cows started giving milk again. | ये तो चमत्कार हो गया, एक हजार गायें फिर से दूध देने लगीं | Patrika News

ये तो चमत्कार हो गया, एक हजार गायें फिर से दूध देने लगीं

भोपाल की सबसे बड़ी गोशाला में सफल रहा प्रयोग, अच्छा भोजन और बेहतर देखभाल का नतीजा सामने है, गायों की नस्ल और उनकी सेहत सुधारने में मिली बड़ी कामयाबी, 11 साल में एक हजार गायों को फिर से बना दिया दुधारू।

भोपाल

Updated: February 25, 2022 08:44:49 pm

भोपाल. अगर आवारा, बीमार गायों को अच्छा पोषण आहार दें और ठीक से देखभाल की जाए तो उन्हें फिर से दूध देने लायक बना सकते हैं। राजधानी की जीव दया गोशाला में हुआ ऐसा प्रयोग सफल रहा है। गोशाला प्रबंधन ने यहां आने वाली कई गायों की बेहतर देखरेख की, अच्छा चारा दिया तो वे फिर से दूध देने लगीं। जिन गायों को लोगों ने बोझ समझ कर छोड़ दिया, उन्हें जीव दया गोशाला ने नया जीवन दिया। यह गोशाला भोपाल की सबसे बड़ी गोशाला है। गोशाला ने 2009-10 में इस पर काम शुरू किया था। और अभी तक करीब एक हजार गायों को फिर से दुधारू बनाया जा चुका है। यही नहीं इन गायों से जन्में गाय-बछड़े भी हष्ट-पुष्ट हैं। उनकी नस्ल में भी सुधार हुआ है। पशु विशेषज्ञ भी मानते हैं कि उच्च गुणवत्ता का पोषण आहार दिया जाए और सही देखभाल हो तो गोवंश की स्थिती सुधार सकते हैं। यह प्रयोग प्रदेश की सभी गोशालाओं और कांजी हाउस में किया जाए तो गोधन निश्चित रूप से बढ़ सकता है।
cow_001.jpg

1998 में हुई गोशाला की शुरुआत
इस गोशाला की शुरुआत 15 अगस्त 1998 में हुई थी। तब से निरंतर गोशाला में गायों की सेवा का काम जारी है। यहां लोग अपनी गाय, बैल, बछड़ों को छोड़ जाते हैं, जो उनके लिए उपयोगी न हो। नगर निगम भी आवारा मवेशियों को यहीं छोड़ जाता है। वर्तमान में गोशाला में करीब दो हजार गायें हैं।

गऊ माता को दूध पीकर दुत्कार दिया : इस खबर को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कीजिए
https://www.patrika.com/bhopal-news/cows-abandoned-after-drinking-milk-7329084/

गोशाला में पधारे थे आचार्य श्री विद्यासागर महाराज
गोशाला में आचार्य श्री विद्यासागर महाराज की प्रेरणा से दयोदय महासंघ के अंतर्गत जीव दया गोसंरक्षण एवं पर्यावरण संवर्धन केंद्र चलाया जाता है। दयोदय महासंघ द्वारा असहाय और बीमार गोवंश को गुड़, तिल, पूड़ी खिलाने का अभियान भी चलाया जा चुका हैै। आचार्य श्री विद्यासागर महाराज 2016 में गोशाला में पधारे थे।

Aachary Vidhyasagar Maharaj in Jabalpur
IMAGE CREDIT: patrika

11 साल पहले शुरू किया प्रयोग
जीव दया गोशाला के संचालक अशोक जैन ने बताया कि 2009-10 में हमने यहां आने वाली आवारा, बीमार और कमजोर गायों पर विशेष ध्यान देना शुरू किया। उन्हें पोष्टिक और भरपूर आहार देने लगे। बेहतर तरीके से देखभाल की। इसका नतीजा यह हुआ कि ऐसी गायों ने बछिया-बछड़ों को जन्म दिया और दूध देने लगीं। इनसे पैदा हुई बछियों से जो गाय-बछड़े जन्में वे काफी हष्ट-पुष्ट हुए और उनकी नस्ल में भी सुधार हुआ।

एक्सपर्ट व्यू
यदि आपने गाय पाल रखी है तो ऐसे करें देखभाल
कई बार लोग ग्यावन न होने के कारण गायों को छोड़ देते हैं। इसके कई कारण हो सकते हैं। जैसे उचित आहार न मिलना या कोई बीमारी होना। यदि उनकी सही तरीके से देखभाल करें और आयरन, कैल्शियम, जिंक, फोलिक एसिड से भरपूर पौष्टिक आहार दें तो उनके गर्भधारण से जुड़े अंग विकसित हो जाते हैं। हार्मोन का स्त्राव पुन: शुरू हो जाता है और वे गर्भधारण कर लेती हैं।
-डॉ. अजय रामटेक उप संचालक, पशु चिकित्सा सेवाएं, भोपाल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.