कमलनाथ ने लायक-नालायक पर दिया शिवराज को यह जवाब

- जनता ही तय करेगी कौन लायक है और कौन नालायक

By: anil chaudhary

Published: 21 Sep 2020, 05:13 AM IST

भोपाल. लायक-नालायक के मुद्दे पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जवाब दिया है। उन्होंने रविवार को कहा कि शिवराज आपने ठीक कहा, जनता तय करेगी कि लायक कौन है और नालायक कौन है। यह अधिकार तो जनता का ही है। आज आप मुखर हो रहे हैं, उस समय चुप क्यों हो जाते हैं जब आपकी पार्टी के लोग मुझ पर अपमानजनक टिप्पणियां करते हैं। आप खुद मुझे कभी काले दिल वाला, कभी ऐ कमलनाथ कहकर संबोधित करते हैं। प्रदेश की जनता ने आपका 15 वर्ष का शासन भी देखा है और मेरी 15 माह की सरकार भी देखी है। वह खुद काम के आधार पर बेहतर आकलन करना जानती है।
कमलनाथ ने शिवराज से पूछे यह सवाल
- यह मेरी लायकी या नालायकी
मैंने अपनी 15 माह की सरकार में प्रदेश को माफियामुक्त बनाने के लिए सघन अभियान चलाया।
मिलावट के खिलाफ शुद्ध को लेकर युद्ध अभियान चलाया।
26 लाख किसानों का कर्ज माफ किया।
उपभोक्ताओं को 100 रुपए में 100 यूनिट बिजली प्रदान की।
कन्या विवाह की राशि व सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि बढ़ाई।
निराश्रित गोवंश के लिए एक हजार गोशाला बनाने का निर्णय किया।

- यह आपकी लायकी या नालायकी
अति वर्षा, बाढ़ से फसलें खराब हो गईं। किसानों को अभी तक मुआवजा नहीं मिला।
गरीबों को सार्वजनिक वितरण प्रणाली से जानवरों के खाने योग्य चावल बांटा गया।
इस महामारी में अस्पतालों में ऑक्सीजन का संकट है और ऑक्सीजन की कालाबाजारी चालू हो गई है।
किसानों की कर्जमाफी पर रोक लगा दी।
कन्या विवाह की बढ़ाई गई 51 हजार की राशि को वापस कम कर दिया।

 

हम उनको कैसे नालायक बोल सकते हैं: जीतू
पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मुख्यमंत्री लायक-नालायक पर बयान दे रहे हंै। वे 15 साल सीएम रहे। हम उनको कैसे नालायक बोल सकते हैं। आपने कहा था कि बिना बहुमत की सरकार को मैं चिमटे से नहीं पकडूंगा, लेकिन आपने चिमटे से नहीं सत्ता को मुंह से पकड़ लिया। जीतू ने कहा कि सत्ता में वापसी की ललक आपकी लायकी है या नालायकी। सत्ता पर जिसने डाका डाला वो लायकी है या नालायकी है।
- अब आप ही तय करें
जीतू ने कहा कि मंत्री इमरती देवी कहती हैं, कलेक्टर चुनाव जिता देगा, यह लायकी है या नालायकी। उज्जैन में एक सीएसपी का तबादला कर दिया, जब उसने भाजपा कार्यकर्ताओं को अनुशासन सिखाया, क्या यही है आपकी समदृष्टि। दिग्विजय सिंह और जीतू पटवारी पर एफआइआर करवा दी। छह किसानों को गोली मार दी। 23 हजार से ज्यादा किसानों ने आत्महत्या कर ली अब आप तय करें आप लायक हैं या नालायक। इन सब सवालों का जवाब मुख्यमंत्री को देना चाहिए।

anil chaudhary Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned