मंत्रियों को प्रदेश में जुए का अड्डा चाहिए, शिक्षा मंत्री कह रहे हैं- जमीन में नहीं तो पानी में खोल दो कसीनो

मंत्रियों को प्रदेश में जुए का अड्डा चाहिए, शिक्षा मंत्री कह रहे हैं- जमीन में नहीं तो पानी में खोल दो कसीनो
मंत्रियों को प्रदेश में जुए का अड्डा चाहिए, शिक्षा मंत्री कह रहे हैं- जमीन में नहीं तो पानी में खोल तो कसीनो

Pawan Tiwari | Updated: 06 Oct 2019, 03:05:27 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

मध्यप्रदेश की कैबिनेट बैठक में मंत्रियों ने जुए का अड्डा खोलने की सलाह दी है।

भोपाल. मध्यप्रदेश के कुछ मंत्रियों को कसीनों के कॉइन्स की खनक इन दिनों मध्यप्रदेश के कुछ मंत्रियों के कानों में इस कदर खनक रही है कि वो अब मध्यप्रदेश में भी कसीनों खोलने की डिमांड कर रहे हैं। कसीनों की चमक धमक उन्हें इस कदर आकर्षित कर रही है कि उन्होंने पर्यटन की आड़ में प्रदेश को जुए का अड्डा बनाने की डिमांड कर डाली और इसके पीछे तर्क ये दिया कि कसीनों खुलने से मध्यप्रदेश की आय में बढ़ावा होगा। कसीनों की चाह रखने वाले मंत्रियों की अगर बात की जाए तो इनमें सबसे पहला नाम प्रदेश सरकार के विधि विधायी मंत्री पीसी शर्मा का है।

जिन्होंने कैबिनेट बैठक के दौरान मध्यप्रदेश में कसीनों खोले जाने की वकालत की और ये तक कहा कि अगर प्रदेश में नेशनल और इंटरनेशनल ब्रांड के होटल और रिसॉर्ट खोले जाने की तैयारी है तो क्यों न उनमें बार के साथ साथ कसीनों भी खोले जाएं। खास तौर पर पर्यटन स्थलों पर तो ऐसा होना ही चाहिए ताकि यहां आने वाले पर्यटकों से मुनाफा कमाया जा सके। मंत्री पीसी शर्मा ने मलेशिया का उदाहरण देते हुए कहा कि वहां पर जो कसीनों हैं उनमें स्थानीय लोगों को एंट्री नहीं दी जाती है और केवल पर्यटक ही वहां पर जाते हैं। ठीक इसी तरह से प्रदेश में भी कसीनों खोले जाएं जिनमें प्रदेशवासियों की नो एंट्री रहे लेकिन दूसरे राज्यों या विदेश से आने वाले पर्यटकों के लिए उनके गेट हमेशा खुले रहें।

कसीनों की बात उठी तो पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जन वर्मा भी पीछे नहीं रहे और तुरंत ही पीसी शर्मा के सुर में सुर मिलाए। एक के बाद एक दो मंत्रियों ने कसीनों की बात उठाई तो सीएम कमलनाथ ने तुरंत ही इंकार कर दिया और कहा कि देश में कहीं भी कसीनो खोले जाने की अनुमति नहीं है इसलिए मध्यप्रदेश में भी कसीनों नहीं खोले जा सकते। इससे जबरदस्ती की बदनामी होगी। सीएम अपनी बात खत्म कर पाते इससे पहले ही सज्जन वर्मा ने बीच में कह दिया कि गोवा में तो कसीनों खुले हैं। सज्जन वर्मा की इस बात का मंत्री जीतू पटवारी और प्रियव्रत सिंह ने भी समर्थन किया। जिस पर सीएम ने कहा कि गोवा में कसीनो पानी में है जमीन पर नहीं। जिस पर पटवारी ने कहा कि तो मध्यप्रदेश में हनुमंतिया में खोले सकते हैं। जिससे साफ समझा जा सकता है कि मंत्री कसीनों के कितने प्रेमी हैं। लेकिन अब हम आपको इन कसीनों प्रेमी मंत्रियों के विभागों के बारे में बताते हैं जिससे आप खुद ही बहुत सी बातें समझ जाएंगे।

कसीनो 'प्रेमी' नंबर-1
पीसी शर्मा
विधि विधायी और जनसंपर्क विभाग
प्रदेश में एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट की मांग लंबे समय से लंबित पड़ी है। डॉक्टर भी बार-बार प्रोटेक्शन की मांग करते रहे हैं और भी ऐसी तमाम समस्याएं हैं जिनका हल उनके विभाग को ढूंढना है लेकिन उन पर ध्यान देने के बजाए मंत्री जी कसीनों की डिमांड कर रहे हैं।

कसीनो 'प्रेमी' नंबर- 2
सज्जन वर्मा, मंत्री
पीडब्ल्यूडी विभाग
मध्यप्रदेश की सड़कों के हाल क्या हैं ये किसी से छिपे नहीं हैं। सड़कें गड्ढ़ों में तब्दील हो चुकी हैं। जिनके कारण रोजाना हादसे हो रहे हैं। लोग काल के गाल में समां रहे हैं लेकिन इस तरफ ध्यान न देते हुए मंत्री जी कसीनों खोले जाने की बात कह रहे हैं।

कसीनो 'प्रेमी' नंबर- 3
जीतू पटवारी, मंत्री
उच्च शिक्षा और युवक कल्याण विभाग
शिक्षा के क्षेत्र में कितने काम होने हैं। कॉलेजों में प्रोफेसरों के सैकड़ों पद खाली पड़े हैं। प्रदेश के युवाओं के लिए कोई भी जनकल्याणकारी योजनाएं शुरु नहीं हुई हैं। खिलाड़ी बिना सुविधा के अपना हुनर निखारने में लगे हुए हैं। लेकिन इन सब से उलट मंत्री जी कसीनो खोलने की वकालत कर रहे हैं।

कसीनो 'प्रेमी' नंबर- 4
प्रियव्रत सिंह, मंत्री
ऊर्जा विभाग
सरप्लस होने के बावजूद प्रदेश में बिजली की आंखमिचौली जारी है। विपक्ष लगातार बिजली कटौती को लेकर सरकार को घेर रहा है पर मंत्री जी बिजली की समस्या दूर करने के बजाए कसीनो खोले जाने की डिमांड कर रहे हैं। यानी कि साफ है कि समस्याओं का अंबार लगा हुआ है। लेकिन मंत्रियों को जुए का अड्डा चाहिए।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned