शिवराज सरकार पर कमलनाथ का हमला, बोले- दलित आदिवासियों को चुन-चुनकर बनाया जा रहा है निशाना

अपराधियों में ना कानून का खौफ बचा है और ना लोगों का कानून पर विश्वास

भोपाल। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ऐसा लग रहा है प्रदेश में दलित, आदिवासी, पिछड़े वर्ग, किसान व गरीब को चुन-चुन कर निशाना बनाया जा रहा है। इस संबंध में उन्होंने ट्वीट भी किया। उन्होंने कहा कि चाहे खंडवा जिले के मांधाता थाने में एक ओबीसी वर्ग के युवक की पुलिस हिरासत में मौत की घटना हो या ग्वालियर के डबरा में एक आदिवासी महिला को बंदूक़ तानकर पेड़ से बांधकर मारपीट की घटना हो। यह घटनाएँ यह बता रही है आज शिवराज सरकार में कानून व्यवस्था की क्या स्थिति है और किस प्रकार दलित, शोषित, पिछड़े वर्ग, आदिवासी वर्ग के खिलाफ दमन व उत्पीडऩ की घटनाएँ प्रदेश में रोज घट रही है। आज अपराधियों में ना कानून का खौफ बचा है और ना लोगों का कानून पर विश्वास, आज रक्षक ही भक्षक बनते जा रहे हैं।

बिना लिए दिए काम नहीं हो रहे सरकार में -

एक अन्य ट्वीट में कमलनाथ ने कहा कि पहले माफिय़ाओ के लिए गड्डा खोदने निकले थे, आज तक गड्डा ख़ुदा नही पाया और अब भ्रष्टाचारियो के खिलाफ डंडा लेकर निकलने की बात कर रहे है लेकिन वह भी सिर्फ़ चुनावी क्षेत्रों तक। हिम्मत दिखाइए, प्रदेश के किसी भी हिस्से में, किसी भी मंच से,जनता से भ्रष्टाचार पर सवाल पूछ लीजिए भ्रष्टाचार के इतने सबूत मिल जायेंगे कि आपके डंडे भी कम पड़ जाएँगे। उन्होंने कहा प्रदेश में शिवराज सरकार आई है, भ्रष्टाचार चरम पर है, बिना लिए दिए जनता का कोई काम नहीं होता है। वैसे भी मुख्यमंत्री को यदि गड़बड़ी ठीक ही करना है तो सबसे पहले डंडा चलाने की शुरुआत अपने मंत्रियो के यहाँ से, अपने करीबी अधिकारियों के यहाँ से करना चाहिए जहाँ के भ्रष्टाचार के फि़क्स रेट आज सर्वविदित है, जो भ्रष्टाचार के अड्डे बन चुके है। सच्चाई यह है कि शिवराज सिर्फ़ चुनावी क्षेत्रों में जनता को गुमराह करने के लिये इस तरह की नौटंकी कर रहे है।

दीपेश अवस्थी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned